किसान रैली कृषि कानून अमित शाह का बड़ा आदेश | SC का फैसला

आप के साथ लाइव आगे हैं आप सब भी जानते हैं कि मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगातार किसान अभी भी जारी रख रहे हैं लेकिन इस बीच देश के गृह मंत्री अमित शाह ने जिसतरह से छब्बीस जनवरी यानी गणतंत्र दिवस के मौके पर रिपब्लिक डे के मौके पास जो ड्राइव था पहले निकाली गई थी उसमें जो मामला हुआ है उस पर एक बड़ा आदेश जारी कर दिया है

जिसके बाद हम आपको बताएंगे कि अमित शाह जो कि देश के गृह मंत्री हैं उन्होंने क्या आदेश जारी किया है साथ ही सुप्रीम कोर्ट से तीनों नए कृषि कानून और किसान रैली को लेकर के एक बड़े ख़बर आ रही है तो वो भी हम आपको विस्तार से देंगे साथ ही साथ ट्रैक्टर परिवहन में जो घटना हुई है उसको लेकर के एनओसी पर साइन करने वाले किसान नेताओं के ख़िलाफ़ एक बड़ी कार्रवाई की सही है

एक एक करके सभी खबरों के बारे में जानकारी देने से पहले छोटी सी वेस्टर उसको अगर आपको भी लगता है कि इस तरह से दिल्ली में जो ट्रैक्टर पर निकली उसमें जो घटना हुई उस की स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसे करते हैं तो योग लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब जरूर करनी चाहिए आप सभी जानते होंगे की दिल्ली में और दिल्ली समेत अन्य राज्यों के बॉर्डर पर किस तरह से किसान मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन करें के कानूनों के ख़िलाफ़ जो हैं

प्रदर्शन कर रहे थे और उनका प्रदर्शन लगातार पीसफुली चल रहा था लेकिन अचानक रिपब्लिक डे के दिन जब ट्रैक पर निकाली गई उसने इस तरह की घटनाएं हुई हैं आप सभी लोगों ने देखा और यह बहुत दुखा घटना हुई उस को ले करके बीजेपी और गृह मंत्रियों के शासन में आ गए हैं दिल्ली में हुई घटना को लेकर गृह मंत्रालय की ओर मिनिस्ट्री में लगातार बैठकों का दौर जारी रहा हैं उसी दिन एक आप आप बैठ बुलाई गई थी लेकिन उसके बाद अब जो फैसला लिया गया है

इसमें कहीं ना कहीं सनसनी फैला दी है गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस कमीश्नर को आदेश दिया है बताया जा रहा है दिल्ली पुलिस कमीश्नर और आला अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि दिल्ली में हर हाल में कानून व्यवस्था कायम हो और आरोपियों के ख़िलाफ़ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए इस इसके अलावा और बता जादा कि प्रक्रियाओं पत्रकारों ने लाल किले को जो नुकसान पहुंचाना है

इस प्रकरण का भी गृह मंत्रालय ने बेहद गंभीरता से आकलन किया है बैठक के दौरान दिल्ली में किसानों द्वारा हुए प्रकरण का भी गृह मंत्रालय बेहद गंभीरता से आकलन कर रहा है इसके साथ ही साथ बताया जा रहा है कि उपद्रव और हिंसा की जो रिपोर्ट है विस्तृत रिपोर्ट अब जो सौंप दी गई

अब जो सौंप दी गई है इस बैठक में आईबी प्रमुख और सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े आलाधिकारी भी मौजूद रहे हैं लेकिन सवाल सबसे बड़ा ये धीन सिंधु यानी की जो एक्टर है सबसे पीछे पीछे उनके साथ सिंधु के जो फोटो वायरल और मैनेजमेंट में वो दिखाऊंगा कोई रिपोर्ट दिया है ये चौका देने वाला है

इसके मुताबिक अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती का काम हिंसाग्रस्त इलाकों में पूरा किया जाना जिन इलाकों में घटना हुई है वह फिलहाल हालात अब भी जुड़ें जानकारी को काबू में है गृहमंत्रालय सूत्रों के मुताबिक घायल की इंटर पुलिसकर्मियों को बेहतर इलाज मुहैया कराने का आदेश भी दे दिया गया है और जरूरत पड़ने पर और भी पैरा मिलिट्री फोर्स तैनात की जाए है कि इसको लेकर भी आप आदेश जारी कर दिया गया है

साथ ही साथ कानून मंत्रालय के सचिव एडिशनल सेक्रेटरी और आईबी के अधिकारी भी इस बैठक में मौजूद है जिसके बाद लाल किले पर झंडा फहराने वालों के सब कानूनी कड़ी कार्रवाई करने के भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं तो यह कहीं ना कहीं बड़ा फैसला देश के गृह मंत्री ने लिया है उन्होंने सीधा आदेश दिया है कि आप उन लोगों के ख़िलाफ़ सख्ती से निपटा के जो इस मामले को हटाने की कोशीश कर रहे हैं इसी के साथ मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुँच गया है सुप्रीम कोर्ट से भी बड़ी ख़बर आ रही बताया जा रहा है

कि सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर ट्राली में हुई हिंसा की जांच के लिए एक सर्वोच्च न्यायालय के प्रमुख न्यायाधीश की अध्यक्षता में आयोग के गठन की गुहार लगाई गई है बताया जा रहा है कि वकील विशाल तिवारी द्वारा इस याचिका में कहा गया है कि छब्बीस जनवरी को हुई घटना और राष्ट्रीय ध्वज के अपमान के लिए जो लोग भी संगठन जिम्मेदार हैं उनके ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज करके निर्देश जारी किया जाए है

मालूम होगी तीन एक रस्सी कानूनों के ख़िलाफ़ और व्रत करने में करने की मांग को लेकर के किसानों ने छब्बीस जनवरी को ट्विटर पर निकाली थी लेकिन उस परेड के तक किसानों के द्वारा जैसा कि बताया गया कुछ आराजकतत्वों आए और पुन राज्य तथ्यों के तार भी कहाँ से जुड़ रहे हैं यदि आप सभी लोगों ने देखा भी होगा और आप इस मामले को पूरी तरह से सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा दिया गया है बताया जा रहा है कि इस प्रदर्शन में सौ से अधिक पुलिसकर्मी यानी की उनके छोटे भाई हैं और लगभग कई किसान भी जो हमारे बीच नहीं रहे क्योंकि कैंसर की भी है

तो इन साड़ी चीजो को ले करके आप सुप्रीम कोर्ट में मामला पहुँच गया है सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा फिलहाल इसकी कोई जानकारी नहीं है लेकिन जुमा की जा रही थी कि सुप्रीम कोर्ट में सारा मामला

जो माँग की जा रही थी कि सुप्रीम कोर्ट में सारा मामला पहुंचा था वह फिलहाल पहुँच चुका है एक और बड़ी खबरः किसान नेताओं के ऊपर कार्रवाई होना शुरू हो गई है बताया जा रहा है कि गठन दिवस पर राजधानी दिल्ली में किसान ट्रैक्टर अप्रैल में हुई ब्लाकखोले करके इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा सख्त रूख अपनाए जाने के बाद दिल्ली पुलिस हरकत में आ गई है पुलिस ने ट्रैक्टर प्लेट के लिए अज्ञान की अनुमति प्रमाण पत्र यानी की की एनओसी पर साइन करने वाले किसान नेताओं पर भी अब एफआईआर दर्ज कर दी नाम में आपको बता रहा हूँ सबसे पहला चुनाव है

प्राकृतिक दूसरा नाम योगेंद्र यादव तीसरा नाम विजयसिंह विजेन्द्रसिंह हरपाल सिंह विनोद कुमार दर्शनपाल राज्य बलवीरसिंह राज्य राज्य वाहन भूता सिंहद्वार बाज्वा योगेन्द्रसिंह ग्राहक के नाम शामिल बताए जा रहे हैं बताया जा रहा है कि इन किसान नेताओं ने एनओसी पर यानी कि साइन किया था ये कह के की जो ट्रैक्टर मार्च निकाला जा रहा है वो पीस फुल होगा लेकिन जीस तरह से वापस घटनाएं हुईं इन साड़ी चीजों को लेकर के जो है आप इनके पास शिकंजा कसा जा रहा है खै़र सांस इन लोगों के ऊपर केसरीगंज आपका समय से पहले बिग बॉस का वीडियो भी वायरल है

एक्टर हैं तो आखिर उसके ऊपर क्यों नहीं कार्रवाई की जा रही है एक बड़ा मामला है घर आपको अपनी ग्यारह है कि आप भी चाहते हैं कि इस पर कार्रवाई होनी चाहिए और एक और अपडेट बता जा रहा है कि किसानों की परेड में शामिल दो सौ से ज्यादा लोगों को अभी तक हिरासत में लिया गया है जरूर करें आप सभी से रिक्वेस्ट वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करनी है ठीक है मिलते कुछ और खबरों के साथ जिम