कृषि कानून झुकी मोदी सरकार | BJP नेताओं हुक्का पानी बंद

फिर हम आप के साथ लाइव आ गए हैं मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगाया था किसानों का जो प्रदर्शन है और तेजी पकड़ता जा रहा है वहीं दूसरी तरफ आप कृषि कानून को ले करके मोदी सरकार और आने वाले दिनों तीनों कृषि गानों पर जो किसान मांग कर रहे थे उस पर सरकार राजी हो सकती है हम आपको तीन बड़ी खबरें बताएंगे दूसरी बड़ी ख़बर है

वह है खा पंचायतों ने बीजेपी नेताओं का हुक्का पानी बंद करने का ऐलान कर दिया है खाप पंचायतें खाप पंचायतों है उन्होंने बीजेपी करने का ऐलान कर दिया है साथ ही साथ दिल्ली बॉर्डर स्थानों की जूता दान लगातार बढ़ गया श्रेष्ठ स्तर से जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब जरूरी है

ऐसा लगरहा था जो घटना हुई थी ने लाल किले वाली उसके बाद सरकार बातचीत के लिए भी किसानों से तयार नहीं होगी लेकिन फाइनली देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी थी ने ये ऐलान किया है कि वो फिरसे एकबार किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तयार है और एक स्थानों के लिए एक बड़ी जीत है बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शनिवार को संघ की बैठक हुई है और इस बैठक में किसान आंदोलन और उनकी मांगों का मुद्दा भी उठाया गया आर पार्टी में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद किसी की जो है सुदीप बंदोपाध्याय शिवसेना सांसद विनायक राउत और एस एंड टी के बलविन्दरसिंह टेलर ने जो है

अब किसान आंदोलन पर अपनी बात रखी है जबकि जदयू सांसद आरसीपी सिंह ने कानून का समर्थन किया है साथ ही साथ इस मुददे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार अब भी प्रस्ताव को लेकर वे सक्षम खड़ी है सूत्रों के अनुसार पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने किसानों से जो कहा है उ

वह मैं फिर से दोहराना चाहता हूँ उन्होंने कहा कि हम आम सहमति तक नहीं पहुंचना लेकिन हम आपको प्रस्ताव दे रहे हैं आप जाए और इस पर चर्चा कर लें इसके साथ उन्होंने कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर की बात कही और दोहराया कि वह किसानों से बस एक फ़ोन कॉल से जो है दूरी पर और बहुत जल्द ही पूरा मामला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा

आंवला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा यदि सरकार एक बार फिर से किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तैयार है और किसानों ने कहा कि अगर सरकार वार्ता करने के लिए तयार है तो सरकार का स्वागत है जो कहा जा रहा था अभी दो दिन पहले कि आप जब यह मामला पूरी तरह से बिगड़ चुका है उन लोगों की मौके पर जोरदार तमाचा हैं

और सरकार फिर से एक बार जोगी और किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है दूसरी बड़ी ख़बर बीजेपी नेताओं का भूखा पानी बंद होने लगा है दरअसल बताया जा रहा है कि हरियाणा की जिंदगी में खट् खट् खट् दूर ताजा शनिवार को जिले की खाप पंचायतों की हुई महापंचायत में फैसला किया गया है कि किसी भी कार्यक्रम में बीजेपी बीजेपी के नेताओं को नहीं बुलाया जाएगा यानी कि कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के अन्दर जो दो से लगातार बढ़ता जा रहा है

साफतौर पर ये हरयाणा के अंदर आ लाल किया गया है कि बीजेपी और चीजें पी के नेताओं को किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं किया जाएगा इसके साथ ही साथ बताया जा रहा है वहीं दिल्ली के मुंडका विधानसभा क्षेत्र के टिकरी गांव में किसानों की हुई एक महापंचायत में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है कि जो डिग्री बॉर्डर पर बैठे किसानों की हरसंभव मदद की जाएगी इस महापंचायत ने टिकरी गांव की तरफ से किसानों के इक्यावन हज़ार रुपये की मदद देने का ऐलान किया गया है इसके साथ साथ बताया जा रहा है

कि महापंचायत के जिले की खबरों के प्रधान एवं प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया है और ये तादाद को छोटी गोटिकादा नहीं है कोई थोड़ी बहुत याद आती है लाखो की तादाद में इस महापंचायत में और सैकड़ों गांव के किसान जुटे थे और किसानों ने जाने का ऐलान किया है साथ ही था बीजेपी नेताओं को अपने गांव में घुसने पर सीधे तौर पर पाबंदी लगा दी है

और कहा गया कि बीजेपी के कोई भी नेता अपने ना तो कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा ना फिर उनको गाँव के अंदर घुसने दिया जाएगा यह हरियाना समय दिल्ली की खाप पंचायतों का फैसला है और अगर इस तरह के फैसले हो रहे क्या की मांग की बीजेपी की नींद उड़ी हुई है साथ ही साथ उसको आने वाले चुनाव बड़ा झटका भी लगा सकता है

बात करने और बड़ी ख़बर की दी गई है और इसमें कोशिशकी स्थापित की गई है शायद सोशल मीडिया के जरिए आपको पता भी होगा हुई हिंसा के बाद

कई समूह कई जत्थे अब वार्डों के उपर आना शुरू हो चूके हैं बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय राजधानी के बॉर्डर पर जो किसान प्रदर्शन कर रहे हैं उनके समर्थन में लाखों के जरिए लगातार आने जा है कई किसान नेताओं ने शनिवार को दावा किया है कि अधिकार अधिकाधिक किसान सम्मुख दिल्ली जाने का दावा दिल्ली की तरफ जा रहे और दो फरवरी को राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं किसान संगठनों एवं राष्ट्रीय राजधानी की संख्या मज़दूरों का रिकॉर्ड जमावड़ा इकट्ठा होगा भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष बलवीर सिंह

बाद में कहा कि उन्हें दिल्ली का की सीमा पर दो फरवरी को हाथ ऐसा किसान नेता जिसमें यकीनन सरकार की नींद उड़ा करती है और सिर्फ सरकार की नींद भी उड़ाई सरकार के नुमाइंदे जो अभी तक विचारण पर बैठ कर के के दावा कर रहे थे जब सरकार टस से मस नहीं होगी वह फिर से नरमी इख्तियार करते हुए किसानों से वार्ता के लिए तय्यार हुई है साल के लिए वाली हिंसा भी उसकी स्पष्ट जांच होगी और अगर जांच सही से होगी सुना ही होगा इससे आगे क्या होता है

लेकिन ये बड़ी ख़बर है जहाँ एक तरफ किसानों से बातचीत करने के लिए सरकार तयार वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेताओं का पानी दिल्ली समेत हरियाणा के कई गांवों में बंद कर दिया गया है साथ ही साथ किसानों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है इस पर आपकी क्या राय हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को शेयर करें वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लाइक करिए