ब्रेकिंग | कृषि कानून और मोदी सरकार के खिलाफ एक और बड़ा आंदोलन शुरू | अभी अभी बॉर्डर पर हड़कंप

दूसरे मोदी सरकार के दौरान बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे विरोध प्रदर्शन ज्यादा टाइम हो गया किसानों का भी पुलिस प्रोटेस्ट चला लेकिन जीस तरह से जनवरी के दिन कुछ अराजक तत्वों के द्वारा जैसा किसान नेताओं के द्वारा आरोप लगाया जाता है ये सजेशन हुआ उससे किसी आंदोलन को कुचलने की कोशीश की गई और कुछ हद तक उसमें लोग कामयाब भी हुए गोदी मीडिया भी कामयाब हुआ लेकिन अब एक बार फिर से सरकार के ख़िलाफ़ एक बड़ा आंदोलन शुरू हो का है

जिसका आग़ाज़ बताया जा रहा है कि कल से होने जा रहा है हम आपको उसकी तस्वीर दिखाने के साथ ही साथ किसानों की रस्सी कानून को लेकर वे एक बड़ी जीत हुई है है और सरकार अब पीछे हटने के लिए फिर से एक बार तयार हो गई है साथ ही साथ है राखी शिकायत को लेकर के बड़ी ख़बर है इसके लिए हम आपको अपनी रैंक से पहले छोटी सी रिक्वेस्ट है अब आपको भी लगता है

इस तरह से लाल किले के ऊपर घटना हुई है उसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप यह सम्मान करते हैं तो वीडियो पर लाइन करके चैनल को सब्सक्राइब करके ज्यादा से ज्यादा को शेयर भी करें सबसे पहले आप सभी जानते होंगे गोदी मीडिया के द्वारा जो संयंत्र चल रहा था उसमें वो कामयाब होंगे कुछ आराजकतत्वों के दौरान लाल किले पर जो घटना हुई

वो बेहद निंदनीय थी जिसकी कोई जस्टिफाइड नहीं कर सकता लेकिन वो घटना कैसे हुई यह भी एक जांच का विषय है और इसी को लेकर किसान संगठनों के द्वारा की मांग की गई है इसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए और जब लाल किले की घटना हुई उसके बाद लगातार किसान आंदोलन को कुचलने की कोशीश मीडिया तो पहले से ही कर रहा था सरकार भी करना शुरू कर चुकी थीं लेकिन एक ओर आंदोलन सरकार के ख़िलाफ़ खड़ा होगा आप इस ख़बर को देखें किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर के समाजसेवी अन्ना हजारे ने एक बार फिर आंदोलन करने का ऐलान कर दिया है

ये इससे पहले भी उन्होंने कहा था फिर कहा है दरअसल जब अगले घटना हुई उसके बाद ऐसी उम्मीद जताई जा रही थी कि अन्ना हज़ारे जो अपना प्रदर्शन करने के लिए तीस तारीख की डेट दे चूके हैं उस पर वो प्रदर्शन न करें लेकिन आखिरकार उन्होंने फिर से बड़ा बयान देकर के सरकार के जो है आप कही न की चिंताएं बढ़ा दी है उन्होंने कहा कि अन्ना हजारे तीस जनवरी से अपने गांव राली गढ़ सीधी में आंदोलन करने का ऐलान करते हैं

साथ ही उन्होंने अपने समर्थकों से अपने लाख में ही आंदोलन करने की अपील कर दी है उन्होंने कहा कि आज देश का किसान बहुत परेशान है और जिसतरह से सरकार अपने अड़ियल रवैये अपना रही है इससे वो बेहद है चिंताजनक हैं वनइंडिया हिंदी किसानों की ख़बर के मुताबिक बताया जा रहा है किसानों की उपज का सही दाम नहीं मिलता और केंद्र सरकार यहाँ तक कह चुकी

और यहाँ तक कह चुकी हैं कि उन्होंने स्वामी स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें स्वीकार कर ली है लेकिन लिखित में देने के लिए जरूरी नहीं है इसके चलते अन्ना हजारे काफी आक्रोश में हैं और उन्हें फिर से एक बार जो है को लेकर सरकार ने जो तेवर दिखाने शुरू किए थे अब वो अपने देवर को पीछे लेने भी शुरू कर चुकी है बताया जा रहा है

कि जल्द ही किसानों नेताओं पर शिकंजा कसा के साथ प्रशासन गाजीपुर बॉर्डर खाली कर लेगा इसको लेकर लगातार चर्चा के लगभग दो महीने से गाजीपुर बॉर्डर पर धरना पर बैठे किसानों को उठाने के लिए भारी तादाद में पुलिस पर वहा पर पहुंचना थे लेकिन किसानों का आंदोलन खत्म होते होते एक बार फिर से शुरू हो गया है आप देखेंगे कि छब्बीस जनवरी को हिंसा के बाद किसान आंदोलन को खत्म करने के आसार नजर आ रहे थे उससे किसान नेता राम श्रेष्ठ गायक ने अपने दम पर फिर से बचा लिया है

किसान आंदोलन के लिए बीती रात राकेश टिकैत का भावुक होना उनकी आँखों में आंसू निकलना करने वाले साबित हुआ है बताया जा रहा है कि चार सौ किसान संगठनों ने अपना धरना खत्म करने का जहाँ एकतरफा ऐलान किया है वहीं दूसरी तरफ राशिस्थ कॉन्फ्रेंस करके मीडिया के सामने रो पड़े और राहत तो साथ बताया जा रहा है कि कई किसान संगठनों ने उनके समर्थन में फिर से एक बार बॉर्डर पर पहुंचना का ऐलान कर दिया है

और फिर से एक बार किसान आन्दोलन खड़ा होने जा रहा है जैसा कि मैं आपको खपत दिखा रहा हूँ साथ ही साथ एक और बड़ी अपडेट आप देखेंगे यहाँ पर यानी कि राकेश टिकैत के समर्थन में शक्ति प्रदर्शन आज राकेश टिकैत के साथ पतन में आधीरात को गाजीपुर बॉर्डर के लिए उनके गांव के समेत कई जगहों से किसान संगठन रवाना हो गए हैं जिससे आगे सरकार की मुश्किलें खड़ी हो सकती है साथ ही साथ बताया जा रहा है कि आज मुजफ्फरनगर में महापंचायत होने वाली है जिसपर एक बड़ा फैसला लिया जा सकता है

और किसान आंदोलन एक बार फिर से खा लिया जा सकता है आप को एक तस्वीर और हम दिखाना चाहते हैं आपको वीडियो दिखाएंगे आप पहले इस वीडियो को ज़रा गौर से देखे उसके आगे चर्चा करते हैं हम आजादी रहती थीं आम लोगों के विकास के प्रारंभिक खर्च की लेकिन आज शाम से जहाँ पूरे तरीके से घोषणा करके चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई दिल्ली पुलिस ने सबसे पहले टिकिया पुलिस दल पर या एक प्रतिकृति संबंधित अनेक वेळा अलग है और यह तो जैसा कि आप लोगों ने इस वीडियो को देखा प्राकृतिक जब अपनी प्रेस को

क्या जब अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस करते है उसके पीछे ये सब पकड़ा गया और इसकी जो एसिडिटी को संगीत देखी जिसके चलते किसानों को दबोचा दबोचने के बाद पुलिस के हवाले किया अब सवाल ये पैदा होता है कि इस प्रकार के लोग किसान आंदोलन में शामिल होकर के किसानों के बीच खुली आंदोलन को बदनाम करने की कोशीश करते हैं

और सवाल यह है कि जब इतनी सुरक्षा एजेंट मुझे लगा दी गई है तो आखिर किस तरह से इस तरह के लोग यहाँ पहुँच जाते हैं क्या सोशल मीडिया के जरिए उन्हें कोई बड़ा सवाल है और जब सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से अलर्ट पर है देश के गृह मंत्री ने इसका ऐलान किया है कि सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से साड़ी चीज़ो पर जो है वो मॉनिटर करें और इस सभी एक वीडियो को चेक करे तो आखिर तो साथ ही इस तरह के लोग कैसे पहुंचते हैं ये एक गंभीर सवाल है

अब देखना यह है कि इस शख्स पर जो पुलिस पकड़ के ले गए क्या खुलासा करती है किस तरह के ताल मिलते हैं के लिए किस तरह से कहीं न कहीं एक प्रदर्शन में और कहना एक हिसाब से बदलाव करने की कोशीश करने की बड़ी साजिश रची गई है सभी सुरक्षा जैसा धरी की धरी रह गईं और जो है पर जाना है नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर शेयर करें और दीप सिद्धु जैसे नेता जोकि बीजेपी के कद्दावर नेताओं के साथ उनके फोटो वाला वीडियो वायरल है

उनके कब कार्रवाई होगी इस पर भी आप अपने मान को जरूर उठाएं क्योंकि दीप सिद्धु खें ख़ैर यह स्पष्ट रेस कर रहे हैं आज कल इतना ही मिलते हैं कुछ और कपड़ों के साथ ज्यादा सेहत वीडियो को लाइक करिए शेयर करें ताकि अपडेट दूसरे लोगों पकड़ो