ब्रेकिंग | कृषि कानून खिलाफ टिकरी सिंधू बॉर्डर उमड़ा जनसैलाब | मोदी सरकार को बड़ा झटका

तीन प्रति कानूनों के ख़िलाफ़ झा एक तरफ साठ दिन से लगातार आंदोलन चल रहा था लेकिन कुछ लोगों के द्वारा इस आंदोलन को चलने की कोशीश की गई और जीस तरह से एक संयंत्र के तहत है इस आंदोलन को खत्म करवाने और उसमें बदलाव करने की कोशीश की गई अब उसी तरह से फिर से एक बार किसान आंदोलन ओह भी तेजी से आगे बढ़ रहा है बिक्री और सिंधु बॉर्डर पर जो जनसैलाब उमड़ा है यकीन वो चौका देने वाला है राकेश टिकैत किसान नेता एक ऐसा नेता जिसकी एक बार की पुकार में पहुंचना शुरू हो गया है

हम आपको इसी एक तस्वीर दिखाएंगे साथ ही साथ मोदी सरकार की मुश्किलें लगातार बढ़ रही है और जो आप पंचायत आज भी यकीन की अगर आप तस्वीर देखेंगे तो आप चौक जाएंगे हम आपको उसकी तस्वीर भी दिखाएंगे साथ ही साथ किसान आंदोलन और के हरियाणा सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है

एक एक करके तमाम खबरों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे उससे पहले छोटी सी ड्रेस से अगर आपको भी लगता है कि दूसरों की तरह से लाल किले पर और किसानों जो की रैली में जो घटना हुई उस की स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप भी इस्तेमाल करते हैं तो वीडियो कालिंग कर के चालकों सब खाएं जरूर करनी चाहिए एक बार पुकार लगाने से या फिर आवाज़ उठाने से कई राज्यों के किसान अब पहुंचना शुरू हो गया है आज एक हाथ पंचायत हुई है

ये खाप पंचायतों है मुझे जफर नगर में हुई है जिसकी हम आपको तस्वीर दिखाना चाहते हैं यकीनन आप इस खाप पंचायत की तस्वीर देखेंगे तो चौंक जाएंगे दरअसल इस तस्वीर में जो नजारा हैं और कहीं ना कहीं मोदी सरकार के लिए एक तरह से चिंता बढ़ा देने वाला है हम आपको दिखाना चाहते हो सुना जा रहे हो पहले आपको सुना जा रे को देखे उसके बाद हम आगे चर्चा करते हैं जिन्हें पहले आप इस वीडियो को बॉस करें चलो मैं वीडियो प्ले करता हूँ इस वीडियो पर आवाज करे दिल्ली के बजाए देखें No Text Found

पैर था टेकरी से लेकर के सिंधु बॉर्डर पर जनसैलाब उमड़ रहा है यकीनन ये बीजेपी सरकार को हिला देने वाला है बताया जा रहा है कि सिंधु बॉर्डर पर फिर से जो प्रोफेशनल भी खुली उसको बदलाव करने की कोशीश की गई है वहाँ पर कुछ आराजकतत्वों पहुंचे और किसानों के तेल वग़ैरह करनी शुरू कर दिए थे जिसके चलते वह पछाड़ा भी हुई है और कई तो इसमें सुधार भी हुए हैं अब सवाल यह खड़ा होता है

जब सरकार ने पूरे एरिये को छावनी में तबदील करके रखा है मैं पैरा मिलिट्री फोर्सेज को रिप्लेस कर रखा है तो यह जो आराजक तत्वों हैं किसानों के आंदोलन में कैसे पहुँच गए वहाँ तक कैसे वहाँ तक जाने की इजाजत दी गयी एक बड़ा मामला है यकीन मानिए चौंका देने वाली घटना है साथ ही साथ बीजेपी तो आज कल ऐसी कारणों को ले करके बड़ा झटका लगा है

हरियाणा बीजेपी के नेता और पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है राजाराज कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ काफी ज्यादा नाराजगी में थे जिसके चलते उन्होंने अब बीजेपी का दामन छोड़ने का ऐलान किया है और हरियाणा में बीजेपी को अब यह लगभग चौथा सकता है कई बीजेपी के नेता और उनसे जुड़े हुए नेताओं ने पार्टी छोड़ी है

और आ पूर्व मुख्य संसदीय सचिव ने भी बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है तो कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ एक बार और किसानों की इस पर पड़ी चीत हुई है खैरे कौर बड़ी अपडेट यहाँ पर अब राजनीतिक पार्टियों को भी शामिल होना शुरु हो गया है हम आपको बताते हैं कौनसी पार्टी में शामिल होने से पहले हरयाणा भी और हरियाणा सरकार के द्वारा रस्सी कानूनों पर लोगों के द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन को लेकर के एक बड़ा ऐलान किया बड़ा फैसला लिया गया है बताया जा रहा है

कि हरियाणा सरकार ने राज्य के सत्रह जिलों में इंटरनेट और एसएमएस सर्विस को कलसा था भावास बजे तक सस्पेंड कर दिया है सूचना विभाग ने ट्वीट कर कहा है कि तुरन्त प्रभाव से अंबाला यमुनानगर कुरुक्षेत्र करनाल कैथल पानीपत हिसार जींद रोहतक भिवानी चरखी दादरी फतेहाबाद मेवाणी और के सात जिलों में वाइस कॉल को छोड़कर इंटरनेट सेवाओं को तीस जनवरी दो हज़ार से शाम पांच बजे तक जो हैं बंद करने का निर्णय लिया गया है तो कहीं न कहीं ये फैसला हरियाणा सरकार की तरफ से दिया गया है

अब उसपर मंशा क्या है ये तो एक सोचने की बात है और जानते भी होंगे इस तरह से सालों के समर्थन में हरियाणा से भारी तादाद में जो लोग डिग्री पर पहुँच रहे हैं और आशीष को समर्थन देने के लिए दोपहर में पहुँच रहे हैं इन सभी चीजों को मद्देनज़र रखते हुए सात हरयाणा की जो घटना सरकार उन्होंने फैसला लिया होगा लेकिन क्या खोलें

फैसला लिया होगा लेकिन क्या आपको लगता है इंटरनेट कॉल ये सब चीज़े बंद करने से आप किसी की आवाज को दबा सकते हैं आपके साथ जो अपने हक की लड़ाई लड़ रहा है जो किसान मानकर उसका डेमो सिटीबैंक नहीं है लेकिन क्या उससे ही पहले अवसर बताई है अब एक और बड़ी ख़बर दिल्ली से हैं मोदी सरकार से नाराज केजरीवाल ने अब राकेश टिकैत को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया है

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद विवाद में आंदोलनरत किसानों की मांगों को वाजिब कहा है उन्हें बदनाम करने की कोशीश को पूरी तरह गलत करार देते हुए शुक्रवार को उन्होंने कहा है कि उनकी आम आदमी पार्टी के इशारों को जारी प्रदर्शन का पूरा का समर्थन करती है

कैजरीवाल के सारे नेता राकेश टिकैत से जो हास्य असत्यापित अकाउंट से किए गए ट्वीट का जवाब दे रहे थे विकास ने ट्वीट में किसानों की वास्तविक बदलाव करने को लेकर मुख्यमंत्री को धन्यवाद था तो कहीं ना कहीं ये एक और नया मामला सामने आया है गोदी मीडिया तो आपको वो चीज़ दिखाई जो उनके आका कहते हैं और अगर वो नहीं दिखाएंगे आप सभी जानते हैं

कि क्या होगा लेकिन तब से चल रही है लेकिन किसान और सच की जरूरत है और जो इंसान सच के रास्ते पर चलता है तो कभी नहीं आता साथ मिलते कुछ और खबरों के साथ अगर आपको ये वीडियो पसंद आया तो प्लीज़ लाइव ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि दूसरे लोगों के बीच की मिशन पहुंचना