ब्रेकिंग | कृषि कानून ट्रैक्टर रैली अमित शाह का बड़ा ऐलान | अभी अभी मोदी सरकार का बड़ा फैसला |हड़कंप

दोस्तों की दृष्टि कानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के दौरान किए गए छब्बीस जनवरी के दिन ट्रैक्टर मार्च को ले करके हुई घटना का अभी अभी देश के गृह मंत्री अमित शाह ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है आप सभी जानते होंगे कि लगभग दो महीने से ज्यादा का टाइम हो गया है मोदी सरकार के दौरान बनाए गए तीनों कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगातार के साथ सड़कों पर हैं

लेकिन छब्बीस जनवरी या चुकी पब्लिक डे के दिन जो कुछ भी दिल्ली में हुआ वो बहुत ही ज्यादा धोखा और जो तस्वीर सामने आयी वो चौका देने वाला है जहाँ एक तरफ लाल किले पर जिसतरह से झंडा फहराया गया उसके बाद लगातार सरकार एक्शन में है और इसी पर गृह मंत्री ने ऐलान किया हम आपको विस्तार से बताते हैं उन्होंने अखिल क्या किया है

साथ ही साथ मोदी सरकार ने अब कृषि कानून के बाद किसानों को लेकर एक और बड़ा फैसला ले लिया है क्या लिया है इसकी भी जानकारी देंगे और एक अभिनेता के साथ शेयर करेंगे इससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि दूसरे इस तरह से दिल में ट्रैक्टर पलट के दौरान जिसे हुई जो घटना हुई है

इसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए तो आप इस वीडियो को लाइक करके जान को सबसे जरूर करनी चाहिए दिल्ली में गणतंत्र दिवस यानी रिपब्लिक डे जैसे मौके पर मंगलवार को किसानों के द्वारा जो ट्रैक्टर मार्च निकाला जा रहा था उस पारी के दौरान जो कुछ भी हुआ वो बहुत चिंताजनक जो तस्वीर आई वो भी कही ना कही बहुत ही दुखद थी लें के प्रदर्शन और लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने जाने की घटना को गृह मंत्रालय ने बेहद गंभीरता से लिया है बताया जा रहा है

कि गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी आवाज़ पास एक आपात बैठक बुला ली है और इस बैठक में बुलवाने के बाद राजधानी में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के निर्देश जारी कर दिए हैं ये पड़े ख़बर आ रही है सभी घरों और सम्वेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती होगी यह फैसला लिया गया है साथ ही राजधानी में हिंसा के जिम्मेदार लोगों की पहचान कर उनकी हवा काम भूमि कार्रवाई के भी निर्देश दिल्ली पुलिस को जारी कर दिए गए हैं राजधानी में मंगलवार को किसानों के ट्रैक्टर प्रवेश के दौरान जो तेज हुई है

इसमें बहुत सारे मामलों पर अभी खुलासा होना बाकी है बताया जा रहा है पुलिस के साथ किसानों के बीच जो मामले सामने आए जो घटनाएं झड़प हुई है इसको गृह मंत्रालय ने बहुत गंभीरता से लिया है अमित शाह ने मंत्रालय को दिल्ली पुलिस के अलावा आप शुरू से बैठक यानी की है बैठक में राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की गई है खुफिया एजेंसियों की अधिकारियों ने उन्हें सूचना दी है

सूत्रों के मुताबिक किसान आंदोलन की आड़ में प्रतिबंधित संगठनों की ओर से हिंसा को बढ़ावा दिए जाने की इम्पोर्ट खुफिया एजेंसियों के द्वारा लिए गए ये भी साफ तौर पर खुलासा हुआ है आप भी शक्ति के अवसर भी आपको दिख रहा खुफिया एजेंसियों ने आगे भी

या एजेंसियों ने आगे भी इसी तरह की आशंका जताई है उन्होंने कहा है कि इसी तरह की और भी मामले आगे देखने को मिल सकते हैं इस बैठक में गृह सचिव और आई पी के डायरेक्ट मौजूद रहे हैं सूत्रों के मुताबिक बैठक में राजधानी के सभी संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त फायदा मिला मिलिट्री फोर्स की तैनाती का निर्णय लिया गया है ताकि आगे किसी तरह की हिंसा न हो सके इससे प्रदर्शन में हम लोगों को चिन्हित करके उनके ख़िलाफ़ कानूनी कार्रवाई करने के भी निर्देश जारी कर दी है जैसा कि मैने आपको बताया है

इसके साथ ही साथ साजिशकर्ताओं की पहचान करने में पुलिस जुट गई है बताया जा रहा है कि उन सभी स्थानों की सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं जहाँ पर किसानों पुलिस के बीच यानी की झड़प हुई है तो यह कहीं न कहीं एक बड़ा मामला सामने आया है इसके साथ साथ बताया जा रहा है कई जगहों पर इंटरनेट समापन कर दी गई है जिसमें जो है

सिंधु टीकरी गाजीपुर बॉर्डर नागलोई और नागलोई के साथ साथ कई और जगह है जहाँ पर ये फैसला लिया गया कि वजह से वह पूरी तरह से बंद की चाहे तो यह बड़ा मामला सामने आया है अब बात कर लेते है मोदी सरकार के द्वारा लिए गए रस्सी कानून के बाद एक और फैसले पर आप इस ख़बर को भी बढ़ी है वर्ष दो हज़ार बाईस तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने के बाद इसके साथ केंद्र सरकार ने अपनी एक फरवरी को पेश होने वाले बजट में कृषि ऋण यानी की जो कल्चर लक्ष्य को बढ़ाकर के उन्नीस सत्रह करोड़ उपाय कर सकती है

इसको लेकर भी बड़ी ख़बर आ रही है सूत्रों ने जानकारी दी है कि चालू वित्त वर्ष में सरकार ने कृषि ऋण के लिए पंद्रह लाख़ करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है सूत्रों ने यह भी कहा कि हर भाग व कृषि क्षेत्रों में अपने ऋण लक्ष्य से बंधी सरकार करती है और इस बार भी कर रही है और इस बार भी ऐसा करते हुए सरकार दो हज़ार के इस लक्ष्य को बढ़ाकर के उन्नीस क्लास करोड़ रुपये कर सकती है यानी की चार लाख करोड़ रुपये यहाँ पर और भी बढ़ा सकती है

जब मोदी सरकार अपनी तरफ से फैसला यानी की लेगी जो आगे आने वाला बजट है दो हज़ार तक की दौड़ ईमानों पर ये फैसला लिया जाएगा कृषि लड़के लक्ष्य से हर साल निरंतर वृद्धि हो रही है और हर साल जो है लक्ष्य से अधिक ऋण किसानों को उपलब्ध कराया जा रहा है उदाहरण के लिए दो अठारा में बताया कि ग्यारह अर्धशतक करोड़ रुपये कारण प्रदान किया गया था और इससे जो हैं जो उस साल के लक्ष्य के तहत दस लाख करोड़ से अधिक था और इस बार की इस पर बढ़ोतरी किए जाने का फैसला लिया गया है

बात कर लेते हैं एक ओर बड़ी ख़बर की बताया जा रहा है किसान पारित होने के बाद और इस तरह की घटना को साड़ी चीजे होने के बाद और फ़िलहाल लाल किले को खाली करवा लिया गया है किसान अपने अपने प्रदर्शन क्षेत्रों में लौट गए हैं आप इस ख़बर को भी देखे बताया जा रहा है कि राजधानी में जमकर विरोध

कि राजधानी में जमकर विरोध होने के साथ साथ आइडियों की पर जो है जीस तरह से चीजें सामने देखने को मिली इसके साथ साथ लाल किले में जो चीज़ जो कुछ भी हुआ और किसान बता ताकि वहा पर क्या वो किसान थे कौन थे ये तो अभी जांच का विषय है और लोग बीच में भारतीय थे लेकिन आप उन सारे जगहों पर बताया कि पुलिस की तैनाती हो गई है फिलहाल किसानों को वहाँ से हटा दिया है

शाम को जब डेटा उसमें सिंधु टीकरी गाजीपुर बॉर्डर स्थित अपने अपने प्रदर्शन शिविरों की ओर आप किसानों का लौटना शुरू हो गया है और रात तक वो सारे के सारे लौटकर अपनी जगह पर पहुँच गए हैं सो तीसरा किसानों के संगठनों के द्वारा एक बड़ा ऐलान किया है उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाएं हुई हैं इसमें पंजाब नहीं दिया है ये जो कुछ भी हुआ है इसमें कुछ राज्य तक आए हैं ये साजिश की गई है

और साज़िश ये सारे मामले को अंजाम दिया गया है अब देखना यह होगा कि गृह मंत्री जी के द्वारा एक जांच एजेंसी भी जुटा दी गई है और फोरेंसिक टीम भी इस पर जांच करेगी अब आगे इस पर क्या होता है ये देखने वाली बात होगी आपकी अपनी कार है आपके हिसाब से जो कुछ भी हुआ क्या लगता है एक प्लानिंग के तहत हुआ है या रेंडमली ये साड़ी चीजे मिलते हैं

नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी डाइट में जरूर शेयर करें और हाथ शांति बनाकर रखें देखें किसी से बात है सीए का हो चाहे किसान कानून हो इसमें कुछ चीजें ऐसी हैं मीडिया को पहले ही इसको बदलाव करने की कोशीश में लगा हुआ था अब मीडिया का मौका मिलता है इसलिए किसानों से रिप्लेस हैं अपने प्रदर्शन को पीसफुली रखें और जो लोग आपके प्रदर्शन में खुश करके आपके प्रदर्शन को बदनाम करने की कोशीश कर रहे हैं उनको भी आज