मोदी सरकार नया ऐलान | देश 130 करोड़ लोगों झटका |किसानों ऐलान

ताकि आप सभी जानते होंगे कि मोदी सरकार के द्वारा लाए गए तेज गति कानूनों के ख़िलाफ़ जहाँ एक तरफ लगातार प्रोटेस्ट चल रहे हैं वहीं दूसरी तरफ अब जो है दो का बजट पेश किया गया है

और इस बजट में जिससे की बजट पेश किया गया उनमें कई चीजों को बेचने का ऐलान किया गया जिसमे लगा था जो आशंका जताई जा रही थी की ये चीजें बेची जा सकती हैं वे लिखें जैसे एलआईसी है या फिर अन्य चीजें हैं लेकिन पहले हम आपको बताते हैं

कि बजट में जो बजट पेश किया गया है इस बजट में कौन कौन सी चीजें महंगी होगी और कौनसी चीजें सस्ती हुई हैं ये आपके लिए जानना बेहद जरूरी है सबसे पहले तो हम आपको बताते हैं कि महिला क्या होने वाला है वैसे मोदी सरकार के दौरान बताया गया था कि अच्छे दिन आने वाले हैं लेकिन अच्छे दिन किस तरह से आएँगे और प्रतिष्ठा से अपनी लाने की कोशीश की जा रही है इस तरह से आयेगे शायद ये उम्मीद देश को नहीं थी

प्राइवेट हाथों में चला गया रेलवे में प्राइवेट हाथों में जाने वाला है एअरपोर्ट प्राइवेट हाथों में जा रहे एलआईसी प्राइवेट हाथों में जा रहा एयर इंडिया प्राइवेट हाथों में जा रहा भारत पेट्रोलियम के फायदे हाथों में जा क्या यही अच्छे दिन थे खैरा बजट दिया गया है उसमें भी देखी जैसे दिन क्या है

सबसे पहले हम आपको बताते हैं कि इससे जो चीजें महंगी होंगी उनके तक इसमें सात पर पता मोबाइल फ उपचार या महंगे होने जा यानी की मोबाइल और चार्जर महंगे होने जा रहे हैं सूती कपड़े यानी क्वार्टर के कपड़े महंगे होंगे इलेक्ट्रॉनिक सामान महंगा होगा रत्न महंगे होंगे वे सोने शादी महंगे होंगे सिर्फ एप्पल महंगा होगा काबुली चना महंगा होगा युवा महंगा होगा यूरिया आप समझ रहे किसानों की सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ यूरिया यूरिया खाद होती है जो किसान अपने खेतों में डालते है

फसल को अच्छी पद के लिए और इस यूरिया के दामों में मोदी सरकार ने बढ़ोतरी करने का ऐलान किया है तो आप देखिये जमा एक किसान जहाँ एक तरफ किसान पहले से ही बेचारे परेशान हैं ऐसे समय जब यह बजट आया और बजट में जो इस तरह की चीजें देने की योजना बनेगी और ये तो आप समझ सकते आगे क्या होगा पेट्रोल डीजल भी महिला उनका साथी साथ शराब भी महंगी होगी आटो पार्ट्स भी महंगे होंगे यदि गरीब चैट

से जो और कोट चला कर के अपनी रोज़ी रोटी चलता है और उसका उपयोग ख़राब होता है तो उसे जी पर भी असर पड़ने वाला है ड्राइव लिंग सस्ती होंगी लोहे के उत्पाद सस्ते होंगे लेके चली आटो पार्ट्स महंगे महंगे के लिए अपने आप को बता देता हूँ सस्ती कौन कौन सी चीजें होंगी इसमें देखिये सबसे पहले चमड़े के उत्पाद सस्ते

बड़े उपासक सशस्त्र यानी की जो चमड़ी की चीज़े हैं सस्ती होगी ड्राईक्लीनिंग सस्ती होगी लोहे के उत्पाद सस्ते होंगे पेड़ सस्ता होगा स्टील के बर्तन सस्ते हो जाएंगे पुलिस सस्ते होंगे बिजली सस्ती होगी जूता सस्ता होगा नैनो की चीजें सस्ती होंगी सोना चांदी बताया कि सस्ता होगा वाली सस्ता होगा प्रसिद्ध सस्ते होंगे लेकिन युवा समिति डीजल पर रोल मोबाइल के सोना चांदी सूती कपड़े मोबाइल चार्जर ये साड़ी चीजें महंगी होने जा रहे लगभग एक करोड़ देशवासियों को मोदी सरकार का ये जो बजाएं चला गया है

इसमें सिर्फ वगैरह भी विचारे कभी कभी काबुली चना यूरिया तो किसानों की चीजें बीएसपी हाथ भी महंगा आने के लिए भी जो लोग यूज़ करते है खाद्य महंगी होने जा रही है डीजल पेट्रोल जो मोस्ट इम्पोर्टेन्ट चीज़ है जो सबसे ज्यादा यूज़ करने वाले चीजें भी महंगी हो रही है इस साल जो अपने खेतों में पानी लगा कि वो कहाँ से होगा आठवीं पास वगैरह भी अपने होने जा रहे हैं कि मिडिल क्लास की पूरी तरह से हटिया कड़ी विस्तार होने वाला है साथ ही साथ स्टील बर्तन लोहे के ड्राईक्लीनिंग ये वगैरह वगैरह बिजली जूता चले बिजली सस्ती होगी अच्छी बात है तो यह वजह है

जो कि अब सरकार के द्वारा कहा जा रहा है ये अच्छे दिन वाला बजट है और इस वजह से आपके अच्छे दिन आने वाले इतने आएगी क्या नहीं सकते क्या आपको भी लगता है कि इस तरह की वजह से देश में तरक्की होगी नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी डाइट में जरूर शेतकरी और हाँ अगर आपको लगता है

ताकि सरकार को चाहिए खाने पीने की चीजों पर डीजल पेट्रोल के ऊपर और जो गरीब और मिडिल क्लास के लोगों की सबसे ज्यादा इस्तेमाल करने वाली चीज़े है उसको सस्ती करनी चाहिए अगर आप इस बात की बात करते हैं तो वीडियो पर लाइन करके ज्यादा शेर हैं बात करते एक और बड़ी ख़बर की दुसरो आप सभी किसान आंदोलन लगा था कहाँ जा रहा है वैसे तो किसान आंदोलन के बीच लाखों किसान दिल्ली जो है सरकार की नींद उड़ा देने वाला है

दरअसल जानकारी है कि किसानों के लिए हक की लड़ाई के लिए गाजीपुर और सिंधु सीमा पर अब मजूबर ने ल है अद्वितीय ताजा बैग मिला उसके हिसाब से दिल्ली की सीमाओं पर और किसान आंदोलन फिर से खड़ा हुआ है इनमें बड़ी संख्या में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों से आने वाला लोग हैं छब्बीस जनवरी की घटना के बाद मोदी मीडिया लगातार किसानों के

प्रदर्शन को बदलाव करने की कोशीश कर रहे थे उनके मुँह के ऊपर एक बार फिर से जोरदार तमाचा पड़ा था इसमें बताया जा रहा है कि वेस्ट यूपी के किसान भी मौजूद है

और गाजीपुर बॉर्डर पर इस समय इस समय के बाद मेरठ मुजफ्फरपुर शामिल सहारनपुर बागपत बुलंदशहर हापुड़ आदि जिलों से बड़ी संख्या में किसान पहुँच रहे हैं शनिवार को शामली सहानुभूति ऐसे कई किसान और कई सैकड़ों गाजीपुर में राशन लेकर पहुंचना है साथ ही साथ किसान अपने साथ चावल चीनी दाल चाय पत्ती आदि खाद्य सामग्री लेकर भी लगातार आती जा रहे हैं मॉडल और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों की धारिता जमा होती जा रही है

साथ ही साथ अप्रति दिन में डिवाइस काटा जाएगा प्रतिदिन आपको दस हज़ार से ज्यादा लोगों के लिए लगभग बनाने का केदाम किया गया है और अभी तक लंगर जारी है दस हज़ार लोगों का दिल अंदर बढ़ता है साथ ही साथ किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस ने शक्ति बढ़ा दिया लोगों ने सोशल मीडिया के उपर देखा होगा जो है कटीले तार बिछाए आ रहे हैं के लिए थोपी जा रही है

और बेटी की जा रही है यदि तगड़ी जो भी है वो हम सरकार की तरफ से कह सकते हैं पुलिस की तरफ से कह सकते है वो तो है की जा रही है लेकिन ये सच है कि किसानों की तादाद लगातार बढ़ी लाखों की तादाद में किसान दिन बाद दिन इस प्रोटेस्ट में हिस्सा लेती जा रहे हैं जिससे सरकार की मुश्किलें आने वाले दिनों में और बढ़ेंगी और अगर इसी तरह से चलता रहा तो आप यह फ़िल्म आरी है

सरकार को घुटने देखने ही पड़ेंगे क्या करे बढ़ गया है और भी खासकर बढ़ गया है इससे किसानों के अंदर और भी ज्यादा कहीं ना कहीं गुस्सा आएगा लेकिन हम तो यही निवेश करते हैं कोई भी अगर आप प्रोटेस्ट कर मैं तो पीपुल करें किसी भी तरह की चीजें न हो आज कल तो का खयाल रखें वरना

मीडिया के ऊपर इस तरह से वो अपना काम करना शुरू करें आपको अपनी क्या हैं नीचे कमेंट में अपनी रैंक को जरूर चेक करें वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लाइक करिए और फिर भी करी अपने दोस्त ताकि जो दूसरे लोग भी पहुंचे और दूसरे लोगों की इन्फोर्मेशन मिलते कुछ और आपस था