ब्रेकिंग | पूरे देश के लिए बड़ी खबर | अमित शाह का बड़ा ऐलान

पूरा देश को ना के चलते बड़ी प्राप्ति थे गुजर रहा है वहीं इस बीच पूरे देश को हिला देने वाली एक और खपत सामने आ रही है जिसके चलते पूरे देश में हाथ पहुँच गया है और इसी बात देश के ग्रहमंत्री हमेशा ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है साथ ही साथ कंगना रनोट को लेकर की एक ओर बड़ी अपडेट हैं

तीन बड़ी खबरें आपके सामने रखने जा रहा से पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि आज पूरी करें अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो पर लाइक करके चाल को समझकर रहे हैं आप सभी को पता होगा करुणा के चलते पूरे देश के लोगों में करोड़ों रोजगार हो गए लोगों के पास अपने खाने के सेना को खाना है न खर्च के लिए पैसे वही आपको रोना के बाद एक और बड़ी मुश्किल देश के सामने आ खड़ी है

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर फट गया है जिसकी वजह से एक बड़ी त्रासदी आ गई है रविवार को मलेशिया के फटने से धोनी नदी में बाढ़ आ गई जिन के बाद शमी से ले कर के हरद्वार का ख़तरा बढ़ गया है अब उत्तर प्रदेश में भी इसको लेकर के हाई एलर्ट जारी कर दिया गया है

आनन फानन में रेस्क्यू टीम को रवाना किया गया जयपुर पूरे प्रशासनिक अमले को अलर्ट पर रखा गया है नदी किनारे बसी हस्तियों को पुलिस लॉ स्पीकर से जोहर अलर्ट कर रही है और सिर्फ इतना ही नहीं जो आगे हुआ हैं वो दुसरो को बहुत दुख है यकीनन आप भी स्कूल के हमारे देश से खत्म हो और जल्द से जल्द हमें खुशाल जिंदगी में आए बताया जा रहा है कि ऋषिकेश गंगा पावर रोजिक इसमें भारी नुकसान हुआ शुरुआती खबरों के मुताबिक क्षेत्र में बिजली परियोजना पर काम करने लगभग एक सौ पचास मजदूर लाभ का दौर है इस प्रांत की वजह से है फिरसे एकबार बता देता हूँ.

हरद्वार का मामला है हरिद्वार के चमोली में से ग्लेशियर फटा है जिसकी वजह से परास्त किया एक सौ पचास मधु विचारे अपने घरों से दूसरी जगह पर गए थे रोज़ी रोटी के लिए रूस गए लापता चल रहे हैं इनके बारे में होने की आशंका है फिलहाल वे स्क्रू कार्य युद्धस्तर पर अभी जारी है रेस्क्यू अधिकारियों के मुताबिक ताकि ओवर में यानी तापमान एक जगह का नाम है

वह दो लोगों की बॉडी भी ऋषि भूल गया यानी की मिली खैरा केंद्र सरकार लगातार मामले पर नजर बनाए हुए हैं देश के गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के सिंहम

ने राज्य के सिंहम त्रिवेंद्रसिंह रावत से पूरी जानकारी हैकर प्रयाग में अलग क्षमता के किनारे बसी लोगों के मुताबिक उनके मकान खाली करा जा रहे हैं फंसे लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिया गया है आगे हम आपको इसका हेल्प लाइन नंबर भी बताएंगे अगर आप उत्तराखंड से हैं तो इस हेल्पलाइन नंबर को जरूर करनी चाहिए और अगर आपका कोई रिलेटिव उत्तराखण्ड में रहे हैं

तब भी आप पार्टी करके जानकारी ले सकते हैं शुरुआती खबरों के मुताबिक क्षेत्र में एक बिजली परियोजना पर काम कर रहे हैं तो पचास मजदूर लापता जैसा कि मैने आपको बताया राष्ट्रीय प्रवक्ता ने ट्वीट करते हुए यदि प्रखंड के जरिए उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है अगर आप प्रभावित क्षेत्र में खाते हैं

आपको किसी तरह की मदद की जरूरत है तो कृप्या आपदा परिचालन केंद्र का नंबर जारी किया गया मैं बता देता हूँ हूँ सर जी एक नंबर है दूसरा एक नंबर है न एक डबल फाइव सेवेन चोल फायर यानी चार बार कपूर हैं यानी की फिर से एक नम्बर बता देता हूँ फायदा नंबर वन जीरो सेवेन जीरो जो दूसरा करते हुए मिलाई फाइव फाइव सीमेंट फोएक्स नाइंटी फाइव से वे जबलपुर से हेल्प लाइन नम्बर दो को इस हेल्पलाइन नंबर पे आप कॉल करके जानकारी ले सकते हैं

आप सभी से रिक्वेस्ट है इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि इन्फोर्मेशन दूसरे लोगों तक भी पहुंचना और जो विचार उत्तराखंड में रहने वाले लोग है उनकी मदद हो सके साथ ही साथ बताया जा रहा है कि बहुत सारे लोग इस पुराने वीडियो शेयर कर रहे हैं

पुराने वीडियो शेयर करके लोगों कही ना कही एक तरह से उनके अंदर क्लिक करें के ऐसा न करिए आप सभी से रिक्वेस्ट कोई भी पुरानी वीडियो को शेयर मत करिये अभी जो अपडेट है उसके मुताबिक मैनस्ट्रीम मीडिया में बहुत सारे जॉय दिखाए जा रहे वहीं मीडिया पुराने वीडियो को बिल्कुल भी अपनी वेबसाइट पर इक्वेशन शेयर ना करें ठीक है जो सीएम् हैं उत्तराखंड की उन्होंने कहा मैं स्वयं घटनास्थल के लिए रवाना हो रहा हूँ

आगे सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वृद्धि करते हुए गायकवाड बिल्कुल ना फायदा ना पूरा वीडियो फोटोज को बिल्कुल भी अपना करें जिससे लोगों के बीच एक तरह से डर का माहौल पैदा हो तो आप सभी से मेरी रिक्वेस्ट ऐसा न करें और हर बनाकर रखें सिर्फ दुआ करिये उत्तराखंड के लोगों के लिए चमोली खेड़ी गांव में ऋषि कला प्रोजेक्ट को भारी नुकसान हुआ है शादी चीजों के लिए दवा के लिए यहाँ पर जीतने लोगों ने सभी के सभी रहे सबकी फॅमिली वाले सिर्फ हें और सबको

यह है एक अच्छा असफल शाम में जगह मिले जहाँ पर जाकर के वो अपने आप को कही ना कही दिन रात गुजार सकें और अपनी जिंदगी को बदल कर सके क्योंकि बहुत ही दुखद ख़बर है गुना के चलते पहले ही लोग परेशान हैं और ऐसी प्रदर्शन में इस तरह की त्रासदियां ना ये कहना भी बहुत खतरे की घंटी है आपकी अपनी प्रकरण नीचे कोलंबस में अपनी डाकू जरूरी करियर साथ साथ देश के गृह मंत्री अमित शाह ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है

बंद कर दिया है जानकारी के मुताबिक अब में शामिल चमोली जिले में बाढ़ की स्थिती को लेकर उत्तराखंड के मुख्य सचिव केंद्रीय गृह सचिव और एमपीओएस जो है वहाँ के गृह नित्यानंद राय के तक राहत व बचाव के बारे में जानकारी दी है

साथ ही साथ उन्होंने एनडीआरएफ की टीमों को वहाँ के लिए रबादा कर दिया है उन्होंने बताया कि डीजीआईटी डीजी एनडीआरएफ से बात की है और इन लोगों को पूरी तयारी के साथ सतर्क रहने का भी लोगों के लिए बात करते हैं

और स्क्रीन के घोड़ी पर बैठकर अपने आप को झाँसी की रानी समझने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत करन और से के बहुत सारे कंपनियों ने जो एडवर्टाइजमेंट के पट रखते हुए खत्म करवा लिया है यानी कॉन्ट्रैक्ट कैंसिल प्रभावी जिसके चलते बुलाई हुई है मुंबई पुलिस वहीं दूसरी तरफ जो हैं मुंबई का जो हाइकोर्ट में उसने पहले शिकंजा कस रखा है

और अब जानकारी है कि कई राज्यों में कंगना रनौत की सलाह को महिलाओं में गुस्सा आपको ये निपटाए महिलाएं कंगना रनौत का पुतला फूंक रही है जानकारी के मुताबिक कई राज्यों में कंगना रनौत के ख़िलाफ़ प्रोटेस्ट शुरू हो गए हैं जिसके चलते कंगना रानौत की मुश्किलें एक बार फिर से और भी ज्यादा बढ़ती हुई दिखाई दे रही है

वैसे कनॉट आप सभी जानते हैं प्लस सुरक्षा के साथ चलती है लेकिन जीस तरह से उन्होंने कुछ दिनों में जो ट्वीट किए हैं इस तरह की बातें कही हैं इसके चलते बहुत सारे कंपनियों ने उनसे कॉन्टैक्ट वापस ले लिया जिसकी बौखलाहट उनके ट्विट के जरिये उनके मस्तिष्क के जरिये सस्ता पता चलती है

आपके साथ आंदोलन का देख लीजिए इसलिए नासिका देख लीजिए साफ तौर पर उनका एंटीनेशनल बताती है देशभर था उसके अलावा कॉपी आपको अपनी इस प्रकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में बताये वीडियो पर लाइव शेर ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रे ताकि एडमिशन दूसरे लोगों तक पहुँच मिलते कुछ और हो सकता है

ब्रेकिंग | बीजेपी का मुसलमानों पर बड़ा ऐलान | मोदी शाह से भिड़े राहुल गाँधी | BJP में बगावत

दूसरा दीवाने कुछ महीनों के बाद कई राज्यों के विधानसभा चुनाव होने हैं और इसी में आसान के विधानसभा चुनाव शामिल हैं आस्था के विधानसभा चुनाव को लेकर के सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी अपनी तैयारियों में लगी है

लेकिन बीजेपी जीस तरह की तयारी कर रही है वो चौका देने वाली है आसान के विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने एक बड़ा ऐलान किया है और जेक उन्होंने अपने चुनावी था रणनीति पर कही ना कही बयान देकर के हिसाब से साबित किया है कि आगे आने वाले चुनाव में उनका मुद्दा क्या होगा और किस तरह से चुनाव लड़ने वाले मुसलमानो को लेकर भी बढ़ा दिया गया साथ ही था

राहुल गाँधी ने एक बार फिर से पीएम मोदी को निशाने पर लिया है साथ ही साथ उन्होंने पीएम मोदी और मोदी सरकार उन्हें करके एक बड़ा बयान दे डाला है साथ ही साथ बीजेपी के अंदर था कई सांसदों की जो लगातार बढ़ावा दे वह अभी भी जारी है और एक बार फिर से पेट्रोल डीजल को ले करके बीजेपी अपने नेताओं में ही अपनी पार्टी से बगावत करती हैं हम एक एक करके सभी खबरों के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देंगे इससे पहले छोटी सिस्टर आपको भी लगता है कि आज हमारे देश को अच्छी शिक्षा अच्छी हॉस्पिटल फेसिलिटी अच्छे रोजगार की जरूरत है

अच्छी क्वालिटी की जरूरत है अगर आप इस्तेमाल करते हैं तो वीडियो लाइव करके चल को स्थायी जरूर करनी चाहिए सबसे पहले तो आप इस ख़बर को देखें आपदा पड़े हैं अमर उजाला की ख़बर है इस में छापा गया है कि खाना हालाँकि वे नेत्री कॉलेज में चार हज़ार पांच सौ लोगों को नियुक्त पत्र सौंपने के बाद किया था अनुभव के आधार पर यह कहा जा रहा है कि बीजेपी को मुसलमानों फोटो की आवश्यकता भी नहीं है

ये कोई और नहीं बीजेपी के नेता कह रहे असद सरकार के वित्त मंत्री हिम्मत विश्वास शर्मा ने कहा कि मुस्लिम समुदाय भाजपा को वोट नहीं देता बीजेपी को सीट नहीं मिलेंगे जो मियाँ मुस्लिम के हाथों में हेमंत विश्व शर्मा ने कहा कि अनुभव याद आता कह रहा हूँ कि मुस्लिम भाजपा को वोट बिलकुल नहीं देते हैं उन्होंने पचास लोकसभा चुनाव में हमें वोट नहीं दिया विधानसभा चुनाव में भी भाजपा को सीधे नहीं मिलेंगे जहाँ इन के रूप में ज्यादा है

लेकिन हम उन सीटों पर भी राशि मैदान में उतारेंगे ताकि जो लोग खुद को मुस्लिम औरत से नहीं जोड़ते उन्हें कहा था कि आतंकवाद पर शक कर चुनाव लड़ने का विकल्प मिल सके तीर स्वास्थ्य और बीजेपी के नेता ये कह रहे हैं और ये खुलासा कर रहे हैं

कि उनको मुसलमानों की वोटों की जरूरत नहीं है आप इसके शोर्ट में जैसा देख सकते हैं ये बीजेपी के दिग्गज नेता शुरु किया साथ ही उन्होंने यह बात कही है अगर इस तरह की और इसमें इतने ऊंचे पद के नेता इस तरह की बातें करते हैं तो आप समझ सकते हैं एक विशेष वर्ग के लिए उनके मन में इस तरह की बातें है अगर यह

है अगर यह बात है तब भी इस तरह से उन्हें अपना बयान दिया है आप समझ सकते हैं आने वाले चुनाव में बीजेपी की रणनीति क्या हो शहर बात करते दूसरी बड़ी ख़बर या फिर पर कभी देखें राहुल गाँधी एक बार फिर से देश के प्रधानमंत्री और मोदी सरकार से भिड़ गए दरअसल जिसतरह से अर्नब गोस्वामी को लेकर लगातार जब मुंबई पुलिस थाना गोस्वामी पर दबिश डाल रही थीं गिरफ्तार कर रहे हैं

तो बीजेपी के नेता बयान दे रहे थे कहते हैं कि यह पत्रकारिता स्वतंत्र पत्रकारिता के ऊपर एक हमला लेकिन जब अलग है स्वामी की वाट्सऐप चैट लिखी हुई उसने इस तरह के खुलासे हुए उस पर बीजेपी के किसी भी नेता का बयान आ आना कहीं ना कहीं दर्शाता है पत्रकारिता है उससे बीजेपी खुश हैं या नपुंसक ऐसी बाद अब राहुल गाँधी मोदी सरकार और बीजेपी के नेताओं को आड़े हाथ लिया कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी सवाल आते ही उन्होंने कहा है

कि अगर प्रधानमंत्री ने ऐसा नहीं किया तो वह फिर जांच का आदेश क्यों नहीं दे रहे हैं दरअसल आग्रा गोस्वामी को लेकर ये बड़ा बयान उन्होंने दिया है उनका कहना है की जब वह रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को बालाकोट या स्ट्राइक से पहले उसकी जानकारी कैसे मिले और आपके साथ ही जुटाव जीवन के आॅफिस रहते हैं चारवी कमांडर रहते है

आदमी के प्रतिशत हृदय उनके पास जानकारी रहती है सरकार के बड़े नेताओं के पास इसकी जानकारी रहती है तो अपना गोस्वामी जैसे एक न्यूज़ चैनल के पत्रकार को यह जानकारी कैसे मिली उनका कहना है कि आपका गोस्वामी को जानकारी मिली है ये कहीं ना कहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जरिए ही मिली है और इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और अगर जांच होती है तो उसमी नेता फंसेंगे बहाल उन्होंने अपने दावे को लेकर कोई सबूत नहीं दिया है

लेकिन प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से भी मिला स्थान पर कोई जवाब नहीं दिया गया लेकिन तमिलनाडु के करुर में चुनावी रोड शो के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गाँधी प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री समेत सिर्फ पांच लोगों को किसी सैन्य कार्रवाई के बारे में पहले से ज्यादा हैं रही होगी और यह जानकारी देख न्यूज़ चैनल के पत्रकार तक कैसे पहुंची इस पर चिंता व्यक्त करते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और देश के कई आयाम हैं

जो बीजेपी से जुड़ें नेता है उन पर ये आरोप लगाया कि लोगों का था जिसकी वजह से जानकारी तक पहुँच है

एनबीए ने आपको समितियों पर शिकंजा कसा उनकी टीआरपी रेटिंग के साथ साथ उनकी सदस्यता है भूमिगत करने की बात है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है अगर यह काम कोई और करता तो न जाने क्या होगा अब बीजेपी के नेताओं तक शव को बढ़ा सकते हैं लेकिन एक हिंदी भी अपन को शमी के बाद कोई बयान नहीं दिया है

आप देखे किसानों को लेकर के एक पत्रकार ने रेट रिपोर्टिंग की उसके साथ क्या हुआ लेकिन स्वामी एक देश की सुरक्षा से जुड़े हुए मुद्दों पर किस तरह से वाट्सऐप चैट के जरिए बातें कर रहे हैं और उस पर मचा कर रहे हैं और जश्न मना रहे हैं

यह कितना बड़ा हर बात करते और बढ़ सकती हैं पेट्रोल डीजल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही आप इस ख़बर को देखें लेकिन इस मामले पर अब बीजेपी के अंदर ही बगावत शुरू हो गई है देश में पेट्रोल डीजल के बढ़ते दाम को लेकर लोगों में नाराजगी देखी जा रही है साथ ही साथ मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी ही सरकार की नीतियों को लेकर किए सवाल उठाकर पारित किया है उन्होंने पोस्ट शेयर किया है इसमें उन्होंने लिखा है कि रात के भारत में पेट्रोल तिरानवे रुपये देता है

जबकि सीता की नेपाल में तिरपन रुपये लीटर है और रावण की लंका भी पेट्रोल इक्यावन ओपन स्वामी केतु के बाद सोशल मीडिया पर कमेंट्स की बाढ़ आए और लोगों ने लगातार इस पर अपनी तरह से बयां किया जबकि उन्होंने साफ कहा कि जहाँ पर रामराजे है वहाँ पर पेट्रोल नब्बे से ऊपर है

जहाँ पर सीता राजा पिता का जापान की बात कर रहे थे वहाँ पर पचास रुपया तिरपन रुपये के जो पेट्रोल हैं जबकि रावण की लंका यह श्रीलंका के अन्दर इक्यावन रुपए प्रति लीटर और हमारे देश में देख लीजिए क्या हाल है यह रामराज और इस मामले पर फिर यही नहीं कई और नेता उमा भारती ने भी इनका समर्थन किया जाएगा इस पर आपकी क्या राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरूरत है वीडियो को लाइक शेयर और सफेद

ब्रेकिंग | CAA NRC ममता बनर्जी बड़ा ऐलान | मोदी शाह को झटका

पर यानी मोदी सरकार का कहना है कि अभी इसी नागरिकता संशोधन कानून को लागू करने में पांच महीने का वक्त और लगेगा इसके नियम बनाने में साथ ही साथ एनआरसी को लेकर उनका प्लान है

लेकिन उसके तुरंत बाद ममता बेनर्जी ने नागरिकता संशोधन कानून एनआरसी एनपीआर को ले करके एक बड़ा ऐलान कर दिया है जिससे सभी राजनीतिक पार्टियां गाँधी के पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में हड़कंप सा मच गया साथ ही साल मोदीराज यानी की मौत की सरकार ने एक और बड़े सर्वे के मुताबिक देश को बड़ा झटका लगा है

साथ ही साथ कंगना रनौट के ऊपर एक बड़ी कार्रवाई की गई है एक खेल के तीन बड़ी खबरें आपके सामने रखेंगे इससे पहले एक छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि दोस्तोँ आज हमारे देश में जीस तरह से अन्यथा सड़कों पर बैठे हुए हैं

सरकार को चाहिए कि उनकी मांगें पूरी की के साथ ही साथ अच्छी शिक्षा अच्छे हॉस्पिटल कैसी लगी अच्छी कमी पर ज्यादा कंसन्ट्रेट करें अगर आप ऐसी राय रखते थे और अगर इस तरह की मांग करते हैं तो वीडियो पर लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब कृप्या नीचे सबसे पहले बात करते हुए राशि को लेकर मोदी सरकार ने काफी ताकत लगाई इस कारण को जल्द से लागू कर दिया और लागू भी कर दिया गया लेकिन उसके बाद रोना आया ये पूरा मामला अपने मस्तिष्क में चला गया लेकिन जैसे जैसे पश्चिम बंगाल का चुनाव आ रहा है

वैसे वैसे नागरिकता संशोधन कानून का जो मुद्दा है जो लगातार गरमाता जा रहा है और इस बीच ममता बेनर्जी में नागरिकता संशोधन कानून एनआरसी को लेकर जो बयान दिया है उस पर बीजेपी सकते में आ गया पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को देखते हुए सियासी सरगर्मी बढ़ गई है

चुनाव से ठीक पहले मुख्यमंत्री ममता बेनर्जी ने नागरिको के राष्ट्रीय रजिस्टर यानी एनआरसी का एक बार फिर मुद्दा उठाया मालीपुर द्वार में आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए ममता बेनर्जी ने साफ शब्दों में कहा है कि वह कभी भी एनआरसी को लागू नहीं होने देगी पश्चिम बंगाल के तौर पर ममता बेनर्जी ने कहा कि विभाग थाएँ राशी के नाम पर लोगों के बीच दरार पैदा करना चाहती है

मैं पश्चिम बंगाल में डाल से लागू करने की अनुमति कभी नहीं हुई है इससे नासिक के अलावा सी ए को लेकर भी सियासी बयानबाजी पर में जमकर अभियान की अपना बयान दिया बदलाव बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि सीए लागू करने के लिए राज्य की कोई आवश्यकता नहीं है जिसपर ममता बेनर्जी ने एक बार फिर इस मामले को उठाते हुए कहा

इस मामले को उठाते हुए कहा है कि जब तक मैं सप्ताह में हूँ तब तक ये चीजें लागू नहीं होने देंगे जिससे एक बार फिर से बीजेपी और बढ़ गया है इससे आपकी समस्या है वित्तीय वर्ष में आने वालों को जरूर बात करने और परिसंपत्ति लगातार हमारे देश में बातों की लोकतंत्र यानी की डेमोक्रेसी थी लेकिन डेमोक्रेसी को लेकर के बहुत सारे लोग के बीच मतभेद हैं

बहुत सारे लोगों का मानना है कि डेमोक्रेसी अभी भी है और डेमोक्रेसी हमारा देश जो है सबसे बड़ा डेमोक्रेसी वाला है लेकिन इस देश के डेमोक्रेसी के जो नंबर है जिसे पायदान पर था इसको एक बड़ा झटका लगा है

विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का खिताब रखने वाले हमारे प्यारी यानी की भारत की डेमोक्रेसी इंडेक्स में एक सर्वे के मुताबिक जो राइटिंग जो रैंकिंग लगातार गिरती जा रही है भारत दो दो हज़ार वी लोगों तक सूचकांक यानी की जो श्रेणी है यदि डेमोक्रेसी इंडेक्स की वैश्विक रैंकिंग में दो स्थान खिसक कर तिरपन वें स्थान पर आ गए हैं हालांकि भारत अपने पड़ोसी देशों की तुलना में बेहतर स्थिती में जरूर है

लेकिन रिकॉर्ड मिस एंजी यूनिटी आई यू ने कहा है कि सब अधिकारियों के लोकतांत्रिक मूल्यों से पीछे हटने और नागरिक की स्वतंत्रता पर हवाई के कारण देश दो हज़ार उन्नीस की तुलना में दो हज़ार मिनट में दो स्थान नीचे फिसल गया है यदि कि वो पूरी तरह से इस सर्वे के मुताबिक जा रही डेमोक्रेसी इंडेक्स में जो एक सर्वे होता है

उसके मुताबिक बताया जा रहा है कि नागरिको की सत्ता पर काबिज है कि प्रदेश में दो हज़ार उन्नीस के मुकाबले दो हज़ार में दो पायदान नीचे गया है भारत और ई के लोकतंत्र सूचकांक यानी की श्रेणी में एक वें स्थान पर रहा था भारत में दो हज़ार में सेक्स पर मिले थे जो छत तक अवश्य सिक्स फ़ाइव स्टीफन नंबर रहेंगे या केले विश्व

में एक सौ सत्रह देशों में लोकतंत्र की मौजूदा स्थिती की झलक दिखाता है तो यह कहीं ना कहीं मामला आया और आप जोआन तिरपन वें नंबर पर भारत को नीचे रख तिरपन वें नंबर पर पहुँच गया दो अज है यहाँ पर

अब आप सोचिये क्या अभी आपको लगता है डेमोक्रेसी की दुहाई देने वाले नेताओं को ऐसा लगता है यदि डेमोक्रेसी है जब डेमोक्रेसी है तो कहाँ तक है एक बड़ा मामला है आपको अपनी इस प्रकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर शेतकरी बात करने और बड़ी खपत की गणना डाला आप सभी जानते होंगे कि स्प्रिंग खोलने पर बैठकर खांसी की पानी का खिताब भक्तों के द्वारा जरूर उसको मिल गए हैं लेकिन एक तरह मुंबई पुलिस लगातार करना नॉर्थ के ऊपर जो है सेकंड जा रही है

वहीं दूसरी तरफ अब और बड़ी कारों की गई है बताया जा रहा है कि ट्विटर पर करना हर मुददे पर खुलकर अपनी बात कहती नजर आती है लेकिन हाल ही में ट्विटर में एक्ट्रेस के कुछ टिप्स को डेली करके और अपने पैर कॉम हटा दिया टिकट दरअसल सूत्रों का कहना है कि एक्ट्रेस ने अपने पोस्ट में अभद्र भाषा का प्रयोग किया जो नियमों के ख़िलाफ़ थे बता दें कि करीना के दो ट्वीट को दो घंटे में पता लगा है

इससे पहले लगातार विवादों में रही और कंगना रनौत की पट्टी लगातार विवादों में रहे जिसपर उन्होंने कई किस्म की बातें की वो चाहे किसानों का प्रोटेस्ट को चाय दिलजीत का मामला हो चाहे अलग अलग तरह की सिलेब्रिटी सेलिब्रिटीज का मामला हो ठीक है इसमें कहीं ना कहीं लगातार करना अपनी बात रखती रही है लेकिन करना खुद के ख़िलाफ़ एक बार फिर से ट्विटर ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उनके ट्वीट जिसमें अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया था

उनको डिलीट कर दिया है आप अपने अनुभव को देखना है इस पर क्या बयान देती है लेकिन कम राउंड ऊपर जो है ट्विटर है एक बार फिर से कार्य करते हुए इस तरह की यानी की ट्वीट भी किया है ताकि अपनी प्रक्रिया है नीचे कमेंट बॉक्स में प्रिया को जरूर शेयर करें कभी सेक्स वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि वे फॉर्मेशन दूसरों तक पहुंचना आसान लगता ही मिलते हैं और थोड़ा सा

Breaking | बीजेपी में भयंकर बगावत | हजारों नेताओं का इस्तीफा | कृषि मंत्री का बड़ा ऐलान

प्रकृति कानून को लेकर जहाँ एक तरफ लगातार किसान प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं दूसरी तरह अब बीजेपी की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है दरअसल बीजेपी के कई के नेताओं में कृषि कानूनों के अलावा भगवत् करके पार्टी से इस्तीफा दे दिया और आप बीजेपी को एक और बड़ा छुटकारा

आपको हम आगे वीडियो दिखाएंगे आप देखेंगे कि इस वीडियो के अंदर किस तरह से बीजेपी के कार्यकर्ताओं और कई नेताओं में पार्टी से इस्तीफा देकर के किसानों के समर्थन में आकर एक प्रदर्शन स्थान पर शामिल हुए पहले आप इस वीडियो को देखेंगे उसके बाद आगे चर्चा करेंगे उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है तो उसको आज हमारा देश को अच्छे हॉस्पिटल फैसलिटी अच्छी शिक्षा युवाओं को रोजगार अच्छे है की जरूरत है अगर आप भी इस्तेमाल करते हैं तो वीडियो को लाइक करें चैनल को सब्सक्राइब जरूर करेंगे सबसे पहले इस वीडियो को बात करनी है

उसके बाद हम आगे बात भी चल रहा है और आप देख सकते हैं कि बड़ी तादाद में गाजीपुर बॉर्डर पर पशु दाएँ पश्चिमी उत्तर प्रदेश उत्तरांचल और अलग अलग जगहों से यहाँ पर लोग लगातार आ रहे मेरे साथ ये दो लोग हैं जो काफी ख़ास है आशीष मिश्रा जी है जो कि सीतापुर से है और प्रबल प्रताप सिंग साहित्य है जबकि गोरखपुर से हैं हम इन दोनों लोगों से बात करते हैं कि आखिर ये लोग अपने आप को यह भी कहते हैं

कि हम बीजेपी में थे लेकिन किसानों के चलते हमने बीजेपी को पार्टी को छोड़ा अच्छा बीजेपी में थे सीतापुर में की आप का कहना है कि किसान के मुद्दों पर अपने बीजेपी को छोड़ दिया अच्छा तो ऐसा क्या रहा है क्यों बीजेपी की नीती आपको लगता है किसानों के सवालों के साथ जो अत्याचार उनको बताना देश वही जो जय जवान जय किसान का नारा चले थे उन्हीं को देश को ही करना सबसे शर्मनाक घटना है

लोकतंत्र में गर्दन दिवस मनाने देना इस प्रदर्शन की बात नहीं होती थी इसलिए मैने उन्नीस तारीख को भारतीय जनता पार्टी को छोड़ने का निर्णय लिया अपने समर्थकों के साथ अच्छा अच्छा आपने साइट छोड़ दिया मैने नौ जनवरी को यहाँ आके छोड़ा था ही स्तीफा दिया इस्तीफा भेज दिया लेकिन पहले तो कृषि कानूनों में इस तरीके से उन्होंने प्रावधान किया वो सारे के सारे कॉन्सर्ट के फायदे मंद फायदे के लिए है और स्थानों के ख़िलाफ़ एक तो जो मंदिरों में नहीं ला रहे हैं .

उनमें से किसानों को कर्ज मिलने वाले आने वाले भविष्य में और दूसरा जो आवश्यक वस्तु अधिनियम में संशोधन किया है उसे अनलिमिटेड शॉपिंग या सीमित भंडारण उसे आने वाले समय में सबसे साई कुमार अपने मिडिल क्लास यानी मध्यम वर्ग के लोगों को होने वाला है और पीडीएस सिस्टम भी आने वाले समय में गरीबों को मिलने वाले वो भी खत्म दूसरी ओर मर्यादित आ जो अमर्यादित भाषा का प्रयोग अपमानजनक भाषा का प्रयोग भारतीय जनता पार्टी के लोग ने किया वो भी मुझे ठीक नहीं लगा आदित्य कहना चाहता हूँ कि भारतीय संस्कृति का वाहक किसान होता है

पाकिस्तान का अपमान कहीं न कहीं भारतीय संस्कृति और दर्शन का पानी जो भारतीय जनता पार्टी कर रहे हैं निश्चित तौर पर रियो को देखा इस वीडियो में आप लोगों ने देखा होगा एक पत्रकार सा पूछ रहे की आप कौन सी पार्टी से इसलिए पार्टी को छोड़ तो किसानों ने किस तरह से जवाब दिया आप खुद ही सुन चूके होंगे तो यह हाल हो चुका है बीजेपी का रस

चुका है बीजेपी का ऋषिकांत लेकिन उसके बावजूद दिल्ली में जो तयारी चल रही है कि वे ठोक रहे हैं बैरिकेटिंग की जा रही है किसानों के प्रति इस तरह कार्रवाइयाँ था बात करते हैं और बड़ी ख़बर कि आप इस ख़बर को भी देखे वहाँ से देखिये पंचायतों में एक बड़ा फैसला लिया दरअसल लगातार प्रतिष्ठानों के ख़िलाफ़ चल रहे विरोध प्रदर्शन को लेकर के पंचायक जा रहे हैं लेकिन इस बीच एक ओर जहाँ पंचायत हुई इसमें सरकार और कानून के अलावा किसानों में एक बड़ा ऐलान कर दिया है

इस आंदोलन को मजबूती पर काम करने के लिए पानी पर जिले के नौल्था खंड के बारागांव के किसानों ने एक आज पंचायत का आयोजन किया है पंचायत में वाला था के लोगों ने एकत्रित होकर के निर्णय हैगांव के अलग अलग हिस्सों से सिंधु बॉर्डर पर किसान आंदोलन में जाने की बजाए भारा आपकी कमेटी के नेतृत्व में किसान आंदोलन में भाग लेंगे पंचायत के लिए पंचायत के निर्णय के मुताबिक प्रत्येक गांव की कमेटी ने पांच लोगों को शामिल करने का ऐलान किया गया है

सिंधु का तरीका अलग तम्बू लगाने के खर्च की व्यवस्था का भी निर्णय लिया गया है इस पर पंचायत के लोगों ने आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों के लिए दो मिनट के लिए अपने स्थान पर खड़े होकर के श्रद्धांजलि भी अर्पित की है और यह बारगांव के किसानों ने मिल करके लगभग सारा लाखों रुपये का चंदा इकट्ठा किया है जिससे किसानों के प्रदर्शन में मदद की जा जा सके और यह कहीं लगाएं एक बड़ा ऐलान है

किसानों के दौरान आपको अपनी कृप्या नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर चेक कर लिया है आपको एक और ख़बर दिखाते हैं इस ख़बर को भी देखें यहाँ पर देश के कृषि मंत्री जो लगातार रस्सी कानून को लेकर के अंदर तो यानी की है वहीं दूसरी तरफ आप उन्हें एक और बयान दे कर दस साल बताया जा रहा है

विवादों में घिरे तीन में कृषि कारणों को वापस लेने की मांग को लेकर वे कांग्रेस और कई अन्य विपक्षी पार्टियों के सदस्यों के भारी हंगामे के कारण मंगलवार को लोकसभा शिकार आई बाधित रहे दो बार के स्थगन के बाद निचले सदन की बैठक दिनभर के लिए स्थगित की गयी विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण सदन में प्रश्नकाल और शून्यकाल नहीं चलता था लेकिन उसके बाद सदन में हंगामे के बाद कृषि मंत्री ने जो बयान दिया है वो चौका देने वाला है

बताया जा रहा है कि किसान आंदोलन में जीतने भी किसानों की कैजरीवाल तेज हुई है इस पर ये मांग की रही थी कि सरकार को इन किसानों के लिए मदद की जाए यदि सरकार को मुआवजा दे हैं जिसपर कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर जी ने साफ कहा है कि वे किसी भी किसान किसान

किसी को भी मौजूदा नहीं देखे यानी किसी भी कार्यस्थान को जो किसान आंदोलन में शामिल होता है जो हमारे बीच नहीं रहे हैं सरकार उनको वाजार लें देगी सोमवार को किसान संगठनों से बातचीत से संबंधित सवाल का भी जवाब दिया है.

सतह से उन्होंने साफ साफ कहा है कि हम बिल्कुल भी मौजूदा नहीं देखे निजी कहते हैं कि हम किसानों के लिए ये करेंगे वो करेंगे ऐसा करेंगे वैसा करेंगे जबकि जो किसान ठंड की वजह से और किसी को कुछ होगा किसी को कुछ होगा इस तारीफ प्रॉब्लम की वजह से जो हमारे बीच नहीं रहे उनके सामने युग्मित दी कि शायद सरकार को चुनौती दें लेकिन सरकार की तरफ से साफ कर दिया गया है कि किसी को कोई और किसी तरह का मौजूदा नहीं मिलेंगे अब हो सकता है कि सरकार किसानों को ले जाके कितनी गंभीर है

और कितना सोचती है जय जवान जय किसान का नारा दे करके और प्रधानमंत्री जी ने दो दिन पहले ही बयान दिया था कि ये जो बिल है किसानों के लिए बहुत अच्छा भी है इससे किसानों को बहुत मजबूती मिलेंगे जबकि किसान इस बिल को लेना चाहते हैं आप सोचेगा अगर आपको भूख लगी हो आप को खाना दे तब तो ठीक है

लेकिन अगर कोई जबरदस्ती आप को खाना और आप नहीं खाना चाहते फिर भी जबरदस्ती आपके मूवमेंट होते हैं तो आपको ये ठीक लगेगा शायद इसी तरह का हाल आज कृषि कानून को लेकर के आपने क्या हैं नीचे कमेंट बॉक्स में आप अपनी लाइफ को जरूर चेक करें और आप जिसतरह से आप लोगों ने देखा होगा कि बजट शक्कर भी है उसमें भी बजट के अंदर भी युवा के लिए बढ़ा दिए गए एक और एनपी कुछ कर के हाथ का नाम है उसका विरोध बढ़ा दिया है

और इसको लेकर भी आप के साथ लगातार कोसते हैं देखते हैं आगे क्या पता आपकी क्या राय है नीचे कौन से शेयर करें वीडियो को ज्यादा ज्यादा लाइक क्षेत्रीयता की इन्फोर्मेशन दूसरे लोगों तक पहुँच आजकल यही दोस्त मिलते कुछ और खप

ब्रेकिंग | किसानों बड़ा ऐलान | BJP में भयंकर बगावत

आते होंगे मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन रस्सी कानूनों के अलावा पूरे देश में विरोध प्रदर्शन जारी है और यह प्रदर्शन आप थमने का नाम बीजेपी लगातार मुश्किलें बढ़ती जाती है और इसी से जुड़ी तीन बड़ी खबरें आ रही है और कृषि कानून को लेकर के बीजेपी के अंदर एक बार फिर से भारी बगावत शुरू हो गई है एक एक करके तीन बड़ी खबरें आपके सामने रखेंगे इससे पहले एक छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है

अच्छा अच्छी हॉस्पिटल हासिल की और किसानों को उनकी एमएसपी और युवाओं को रोजगार की जरूरत है बजाय इसके कि अलग अलग कानून बनाए अगर आप इस बात से सहमत हैं वीडियो को लाइक करके चलने को संस्कृत जरूर खाएं सबसे पहले जो बड़ी ख़बर है वह किसानों ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है

जिससे मोदी सरकार की नींद उड़ गई दरअसल था कुछ दिन पहले ऐसा बताया जा रहा था और मोदी मीडिया के द्वारा फैलाई जा रही थी कि किसानों का प्रदर्शन पूरी तरह से खत्म हो गया लेकिन राकेश टिकैत के एक ऐलान के बाद लगातार किसानों को रूमाना जा रही है राकेश टिकैत की आँखों से सब के आसूं अवसरा बन रहे हैं

किसान आंदोलन बिहार में अपना असर दिखाता हुआ नजर आ रहा मुझे पर लगा मथुरा वाटफोर्ड के बाद अब भी चुनाव में हजारों किसान जुट गए हैं जानकारी के मुताबिक उन्होंने केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाजी की है किसान नेताओं ने किसानों से बच की तयारी में जुटने का आह्वान भी किया है क्योंकि करोड़ों की शाम को दिल्ली जाना पड़ सकता है ऐसी अपडेट इस महापंचायत की महापंचायत पुलिस मामले की जांच के बाद सैकड़ों की संख्या में बैठ कर गाजीपुर बॉर्डर के लिए रवाना हो गए हैं ये एक बड़ी ख़बर है

बताया जा रहा है विवाद कृषि कानूनों की सलाह दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे आंदोलन में जनवरी की घटना के बाद बदले घटनाक्रम से एक बार वे किसानों में उबाल आ गया आज इसकी गवाही बिजनौर में भी है आय आईटीआई कॉलेज के मैदान में भारतीय किसान यूनियन की तरफ से सम्मान बचाओ महापंचायत की गई और उसने बताया जा रहा है कि लोग लाखों की तादाद में इकट्ठा हुए थे और सरकार के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाजी की है और बात यहाँ तक की भी है

जानकारी के मुताबिक बिजनौर में कारों की तादात में बताया कि बिजनौर से अलग अलग राज्यों से आये इंसान अब दिल्ली बॉर्डर की तरफ कूच कर गए जिससे तमाचा तो है ही साथ ही सरकार की मुश्किल अभी से बढ़ेगी साथ ही यहाँ पर एक और बड़े अपडेट एक रेल बताया जा रहा था ट्रेन जो है पंजाब में जिसका नाम है वो

हैउन किसानों जो उसमें बैठ करके प्रदर्शन रखने पर जा रहे थे यानी कि किसान उसे ट्रेन के अंदर बैठ कर के है और बॉर्डर के ऊपर जा रहे थे उस तेल का अब सरकार के इशारे पर किया गया हो या किसके इशारे भेज दिया गया हालाँकि ये साफ नहीं है

ट्रेन का जो रूप है जो डाइवर्ट कर दिया गया एक हज़ार किसानों से भरा रही पंजाब मेल का रूट डाइवर्ट कर दिया दिल्ली में रुकने ही नहीं किया गया है ट्रेन को तो सोचे बदल दिया गया फिरोजपुर से चलकर मुंबई जा रही ट्रेन को दिल्ली में रोका ही नहीं गया है

इसके पीछे की वजह से कही जा रही फिरोजपुर में एक हज़ार की संख्या में किसान रबादा हमें थे जो दिल्ली के साथ आंदोलन शामिल होने के लिए जा रहे थे लेकिन जब सरकार और कह लीजिए या कोई दूसरे लोगों को उन्हें भनक लगी जिसमें किसान प्रदर्शन के लिए शामिल होने जा रहे हैं

तब ट्रेन का रूट डाइवर्ट कर दिया गया और फिर को दिल्ली में रुकने ही मिल जाएगा आप सोचें जो बातें कही जाती है कि आप की स्कूल में प्रवेश कर सकते हैं आप को इसका अधिकार है तो कभी स्कूल पोस्टर्स में शामिल होने वाले लोगों के लिये ट्रेन में सफर करना भी मुश्किल है उनको वहाँ तक लेजा लेजा जा रहा है ट्रेनों के रूट डाइवर्ट कर दी जाती है

आपनी प्रकार नीचे कमेंट बॉक्स सॉफ्टवेयर को जरूर करें बात करते हैं और बढ़ती बीजेपी के अलग अब कृतिका दोनों के ख़िलाफ़ एक बार फिर से रही है इससे पहले कई नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया लेकिन अब जो ख़बर है वो चौकाने वाले एक ओर संसद ने बीजेपी से बगावत कर दी भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहते हैं इस बार उन्होंने दावा किया है

इस आंदोलन से निपटना का जो रास्ता होगी सरकार को सुझाया है उसे मोदी सरकार सकते में आ गई है और बताया जा रहा है कि शुक्र स्वामी को लगभग एक दर्जन से ज्यादा चुनाव में कहा है कि केंद्र सरकार को इन कानूनों को राज्यों के लिए वैकल्पिक कर देना चाहिए जो भी राजा केन्द्र से इन कानूनों को लागू करने की मांग करें केवल उन्हीं राज्यों एक कानून लागू किया जाए ये जो है

एक और रास्ता सुब्रमण्यम स्वामी ने मोदी सरकार को दिया दिल्ली में हुई हिंसा के बाद सुब्रमण्यम स्वामी ने बड़ा बयान दिया था उन्होंने कहा था कि इस घटना से पीएम मोदी प्रधानमंत्री अमित शाह की छवि को नुकसान पहुंचा उन्होंने यह भी कहा था कि सुरक्षा की दृष्टि से यह एक बड़ी चूक है

उन्होंने यह भी कहा कि हो सकता है कि चीन मार्च से मई तक सबसे बड़ी घटना को अंजाम दे रे

सबसे बड़ी घटना को अंजाम दे एक दिन पहले ही भाजपा नेता उमा भारती ने सुब्रमण्यम स्वामी की तारीफों के पुल बांध दिए थे और आप सुब्रमण्यम स्वामी ने जो रास्ता मोदी सरकार को दिखाया है उससे बाद फिर से सरकार ने हर कम क्या है शुक्रवार के स्वामी का साफ तौर पर यह कहना है ये जो कानून है

ये राज्यों पर छोड़ दिया यानी की राह अगर चाहे तो उसको लागू करे राजमा चाहें तो अपना लागू करें इस तरह वैकल्पिक इसको बनाया जाए ना कि ये की जबरदस्ती किसी के ऊपर थोप दिया जाए प्रदेश में लागू करें और ये बात उन्होंने कही यह बीजेपी को शायद पसंद आता है लेकिन सुब्रमण्यम स्वामी के साथ जो एक दर्जन से ज्यादा और भी जो हैं

असत सहमत इससे रखना फिर से यूटर ले सकती हैं अब देखना यह होगा कि सरकारी कानूनों में इस तरह का बदलाव करेगी क्या इस पर फिर से कोई यानी की करप्शन करे ये देखने वाली बात है आप की अपनी प्रक्रिया है नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर क्षेत्रीय चले और बड़ी अपडेट में आपको देता हूँ कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर क्योंकि उन्होंने कृषि कानून लाया और लाने के बाद जीस तरह से हो परेशानी में हैं

ये तो उनको ही पता लगातार कई पार्टी के नेताओं ने उनको लेकर के बयान के बहुत सारे उन्होंने कहा कि जो है कृषि मंत्री जो हैं उन्होंने विस्तार से कानून व्यवस्था बीजेपी के अंदर ही फ़ूड हैं लेकिन कि हम किसानों से बातचीत के लिए अभी भी रेडी है के साथ जाने तो हम से बात कर सकते हैं

लेकिन जिसतरह से दिल्ली के अंदर आप लोगों के पर्दे कीजिये बड़े बड़े इलेक्ट्रॉनिक जा रहा है बैरिकेटिंग की जा रही थी

इससे किसान और सरकार के बीच अभी जो रास्ता तक आप फिर से बताया कि हम शांतिपूर्ण बात के लिए रेडी वो निकलता हुआ दिखाई नहीं दिया और एमएसपी की गारंटी को लेकर भी की वो लाइक ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रीयता की एक फर्म से दूसरे लोगों तक पहुँच मिलते कुछ आप

मोदी सरकार नया ऐलान | देश 130 करोड़ लोगों झटका |किसानों ऐलान

ताकि आप सभी जानते होंगे कि मोदी सरकार के द्वारा लाए गए तेज गति कानूनों के ख़िलाफ़ जहाँ एक तरफ लगातार प्रोटेस्ट चल रहे हैं वहीं दूसरी तरफ अब जो है दो का बजट पेश किया गया है

और इस बजट में जिससे की बजट पेश किया गया उनमें कई चीजों को बेचने का ऐलान किया गया जिसमे लगा था जो आशंका जताई जा रही थी की ये चीजें बेची जा सकती हैं वे लिखें जैसे एलआईसी है या फिर अन्य चीजें हैं लेकिन पहले हम आपको बताते हैं

कि बजट में जो बजट पेश किया गया है इस बजट में कौन कौन सी चीजें महंगी होगी और कौनसी चीजें सस्ती हुई हैं ये आपके लिए जानना बेहद जरूरी है सबसे पहले तो हम आपको बताते हैं कि महिला क्या होने वाला है वैसे मोदी सरकार के दौरान बताया गया था कि अच्छे दिन आने वाले हैं लेकिन अच्छे दिन किस तरह से आएँगे और प्रतिष्ठा से अपनी लाने की कोशीश की जा रही है इस तरह से आयेगे शायद ये उम्मीद देश को नहीं थी

प्राइवेट हाथों में चला गया रेलवे में प्राइवेट हाथों में जाने वाला है एअरपोर्ट प्राइवेट हाथों में जा रहे एलआईसी प्राइवेट हाथों में जा रहा एयर इंडिया प्राइवेट हाथों में जा रहा भारत पेट्रोलियम के फायदे हाथों में जा क्या यही अच्छे दिन थे खैरा बजट दिया गया है उसमें भी देखी जैसे दिन क्या है

सबसे पहले हम आपको बताते हैं कि इससे जो चीजें महंगी होंगी उनके तक इसमें सात पर पता मोबाइल फ उपचार या महंगे होने जा यानी की मोबाइल और चार्जर महंगे होने जा रहे हैं सूती कपड़े यानी क्वार्टर के कपड़े महंगे होंगे इलेक्ट्रॉनिक सामान महंगा होगा रत्न महंगे होंगे वे सोने शादी महंगे होंगे सिर्फ एप्पल महंगा होगा काबुली चना महंगा होगा युवा महंगा होगा यूरिया आप समझ रहे किसानों की सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ यूरिया यूरिया खाद होती है जो किसान अपने खेतों में डालते है

फसल को अच्छी पद के लिए और इस यूरिया के दामों में मोदी सरकार ने बढ़ोतरी करने का ऐलान किया है तो आप देखिये जमा एक किसान जहाँ एक तरफ किसान पहले से ही बेचारे परेशान हैं ऐसे समय जब यह बजट आया और बजट में जो इस तरह की चीजें देने की योजना बनेगी और ये तो आप समझ सकते आगे क्या होगा पेट्रोल डीजल भी महिला उनका साथी साथ शराब भी महंगी होगी आटो पार्ट्स भी महंगे होंगे यदि गरीब चैट

से जो और कोट चला कर के अपनी रोज़ी रोटी चलता है और उसका उपयोग ख़राब होता है तो उसे जी पर भी असर पड़ने वाला है ड्राइव लिंग सस्ती होंगी लोहे के उत्पाद सस्ते होंगे लेके चली आटो पार्ट्स महंगे महंगे के लिए अपने आप को बता देता हूँ सस्ती कौन कौन सी चीजें होंगी इसमें देखिये सबसे पहले चमड़े के उत्पाद सस्ते

बड़े उपासक सशस्त्र यानी की जो चमड़ी की चीज़े हैं सस्ती होगी ड्राईक्लीनिंग सस्ती होगी लोहे के उत्पाद सस्ते होंगे पेड़ सस्ता होगा स्टील के बर्तन सस्ते हो जाएंगे पुलिस सस्ते होंगे बिजली सस्ती होगी जूता सस्ता होगा नैनो की चीजें सस्ती होंगी सोना चांदी बताया कि सस्ता होगा वाली सस्ता होगा प्रसिद्ध सस्ते होंगे लेकिन युवा समिति डीजल पर रोल मोबाइल के सोना चांदी सूती कपड़े मोबाइल चार्जर ये साड़ी चीजें महंगी होने जा रहे लगभग एक करोड़ देशवासियों को मोदी सरकार का ये जो बजाएं चला गया है

इसमें सिर्फ वगैरह भी विचारे कभी कभी काबुली चना यूरिया तो किसानों की चीजें बीएसपी हाथ भी महंगा आने के लिए भी जो लोग यूज़ करते है खाद्य महंगी होने जा रही है डीजल पेट्रोल जो मोस्ट इम्पोर्टेन्ट चीज़ है जो सबसे ज्यादा यूज़ करने वाले चीजें भी महंगी हो रही है इस साल जो अपने खेतों में पानी लगा कि वो कहाँ से होगा आठवीं पास वगैरह भी अपने होने जा रहे हैं कि मिडिल क्लास की पूरी तरह से हटिया कड़ी विस्तार होने वाला है साथ ही साथ स्टील बर्तन लोहे के ड्राईक्लीनिंग ये वगैरह वगैरह बिजली जूता चले बिजली सस्ती होगी अच्छी बात है तो यह वजह है

जो कि अब सरकार के द्वारा कहा जा रहा है ये अच्छे दिन वाला बजट है और इस वजह से आपके अच्छे दिन आने वाले इतने आएगी क्या नहीं सकते क्या आपको भी लगता है कि इस तरह की वजह से देश में तरक्की होगी नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी डाइट में जरूर शेतकरी और हाँ अगर आपको लगता है

ताकि सरकार को चाहिए खाने पीने की चीजों पर डीजल पेट्रोल के ऊपर और जो गरीब और मिडिल क्लास के लोगों की सबसे ज्यादा इस्तेमाल करने वाली चीज़े है उसको सस्ती करनी चाहिए अगर आप इस बात की बात करते हैं तो वीडियो पर लाइन करके ज्यादा शेर हैं बात करते एक और बड़ी ख़बर की दुसरो आप सभी किसान आंदोलन लगा था कहाँ जा रहा है वैसे तो किसान आंदोलन के बीच लाखों किसान दिल्ली जो है सरकार की नींद उड़ा देने वाला है

दरअसल जानकारी है कि किसानों के लिए हक की लड़ाई के लिए गाजीपुर और सिंधु सीमा पर अब मजूबर ने ल है अद्वितीय ताजा बैग मिला उसके हिसाब से दिल्ली की सीमाओं पर और किसान आंदोलन फिर से खड़ा हुआ है इनमें बड़ी संख्या में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों से आने वाला लोग हैं छब्बीस जनवरी की घटना के बाद मोदी मीडिया लगातार किसानों के

प्रदर्शन को बदलाव करने की कोशीश कर रहे थे उनके मुँह के ऊपर एक बार फिर से जोरदार तमाचा पड़ा था इसमें बताया जा रहा है कि वेस्ट यूपी के किसान भी मौजूद है

और गाजीपुर बॉर्डर पर इस समय इस समय के बाद मेरठ मुजफ्फरपुर शामिल सहारनपुर बागपत बुलंदशहर हापुड़ आदि जिलों से बड़ी संख्या में किसान पहुँच रहे हैं शनिवार को शामली सहानुभूति ऐसे कई किसान और कई सैकड़ों गाजीपुर में राशन लेकर पहुंचना है साथ ही साथ किसान अपने साथ चावल चीनी दाल चाय पत्ती आदि खाद्य सामग्री लेकर भी लगातार आती जा रहे हैं मॉडल और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों की धारिता जमा होती जा रही है

साथ ही साथ अप्रति दिन में डिवाइस काटा जाएगा प्रतिदिन आपको दस हज़ार से ज्यादा लोगों के लिए लगभग बनाने का केदाम किया गया है और अभी तक लंगर जारी है दस हज़ार लोगों का दिल अंदर बढ़ता है साथ ही साथ किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस ने शक्ति बढ़ा दिया लोगों ने सोशल मीडिया के उपर देखा होगा जो है कटीले तार बिछाए आ रहे हैं के लिए थोपी जा रही है

और बेटी की जा रही है यदि तगड़ी जो भी है वो हम सरकार की तरफ से कह सकते हैं पुलिस की तरफ से कह सकते है वो तो है की जा रही है लेकिन ये सच है कि किसानों की तादाद लगातार बढ़ी लाखों की तादाद में किसान दिन बाद दिन इस प्रोटेस्ट में हिस्सा लेती जा रहे हैं जिससे सरकार की मुश्किलें आने वाले दिनों में और बढ़ेंगी और अगर इसी तरह से चलता रहा तो आप यह फ़िल्म आरी है

सरकार को घुटने देखने ही पड़ेंगे क्या करे बढ़ गया है और भी खासकर बढ़ गया है इससे किसानों के अंदर और भी ज्यादा कहीं ना कहीं गुस्सा आएगा लेकिन हम तो यही निवेश करते हैं कोई भी अगर आप प्रोटेस्ट कर मैं तो पीपुल करें किसी भी तरह की चीजें न हो आज कल तो का खयाल रखें वरना

मीडिया के ऊपर इस तरह से वो अपना काम करना शुरू करें आपको अपनी क्या हैं नीचे कमेंट में अपनी रैंक को जरूर चेक करें वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लाइक करिए और फिर भी करी अपने दोस्त ताकि जो दूसरे लोग भी पहुंचे और दूसरे लोगों की इन्फोर्मेशन मिलते कुछ और आपस था

एक और राज्य के चुनाव में हारी BJP | देखें रिजल्ट |उलटफेर

जानते होंगे की हमारे देश में आने वाले कुछ महीनों के बाद कई ऐसे राज्य हैं जहाँ पर विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं और आप इन चुनावों से पहले एक ओर राज्य में चुनाव हुआ और इन चुनाव में बीजेपी का जो हाल हुआ उपर से बेहतर है और जीस तरह से नए कृषि कानून इसके अलावा लगातार किसान सड़कों पर बैठे हुए हैं उसका सीधा असर इन चुनाव में देखने को मिला है हम आपको बताने जा रहे हैं

कि लगभग तीन हज़ार जो है वार्डों की लगभग ग्यारह कहा साथ ही साथ भी एक अपडेट है उसकी भी हम आपको जानकारी दे उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि हमारे देश में होने वाले तमाम चुनाव में लाइक कर के चरणों को सफाई जरूर करनी चाहिए आप सभी जानते होंगे कि राजस्थान का बीजेपी का जो हाल है

प्रदेश पार्टी के दर लगा था जिलों की लगभग नब्बे नगर निकायों के लिए तीन दिन पहले हुए मतदान की मतगणना रविवार यानी कि कल हुई है कुल तीन हज़ार में चुनाव हुए थे इनमें से ग्यारह हज़ार सत्तानवे वार्डों पर जो हैं कांग्रेस पार्टी ने कब्जा जमा दिया और कांग्रेस पार्टी स्थित कपड़े ही नहीं क्या है

बीजेपी का सूपड़ा साफ कर दिया है वहीं ग्यारह वार्डों में भाजपा की उम्मीदवार बताया जा रहा है कि जीतने ट्रेंड कर रहे थे फिलहाल इस कारण जल्दी आया है लेकिन गानों से कैर्री का बीजेपी पर जीत है

शेष भाग दो में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को तेरा बहुजन समाज पार्टी यानी मायावती जी की पार्टी को दो और माता को तीन भागों में जीत मिली है जो बताता कि पार्टी निर्दलियों ने अपना कब्जा जमाया है इसके साथ साथ पार्षदों का चुनाव पहला रविवार को घोषित होने के बाद अब साथ

अच्छे मौसम का दावा है कि अर्थात मिनट का रियो में कांग्रेस भाजपा के मुकाबले आगे है निकाय चुनाव लड़ाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करके कहा है कि आज आए अभी नगरीय निकाय चुनाव के नतीजे सुखद है

और यह कांग्रेस पार्टी के लिए अच्छे संकेत हैं जिसमे से बताया कि राज्य के बीस जिलों में आज भी बांसवाड़ा बीकानेर भीलवाड़ा बूंदी प्रकार चित्तौड़गढ़ गुरुवार को हनुमानगढ़ जैसलमेर जैसे कई इलाके शामिल हैं जहाँ पर ये चुनाव हुए हैं

और अगर मैं बात करूँ बीजेपी की तो बीजेपी को बताया रखी हाल ऐसा हो चुका है कि उनके अपने निर्देशकों अपना ये सिर्फ वोट मिला है एक एक वर्ड मिला है ये कहा कि घटना में आपको बता देता हूँ बताया जा रहा है कि भाजपा प्रत्याशी आप को नोटा से भी कम मिले हैं यहाँ तक कि भाजपा प्रत्याशी को उनके अपने घरवालों और रिश्तेदारों ने तक मौत नहीं दिया है

दरअसल इस बार राजस्थान में हुए निकाय चुनाव में भी बीदासर नगर पालिका की बाहर नंबर की घटना है जहाँ पर भाजपा प्रत्याशी थे धर्मेंद्र और चुनाव के नतीजे जल्द घोषित किए जा रहे तो भाजपा के धर्मेन्द्र को सिर्फ एक मोड में हाँ जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी यूनुस ख़ान को चार सौ एक वोट मिले और वो चुनाव जीत रहे बीजेपी के जो उम्मीदवार थे

वे मैदान में उतरे और उनके घर बानो नेतृत्व वोट नहीं किया और वह चुनाव हार गया यह हाल है बीजेपी को राजस्थान गया था फिलहाल कांग्रेस पार्टी के लिए अच्छी ख़बर है कांग्रेस पार्टी ने यहाँ पर मैक्सिमम वार्डों में अपनी जीत चुकी हैं जबकि कांग्रेस पार्टी के साथ निर्दलियों ने भी कई सीटों पर कब्जा जमाया है इसमें बताया जा रहा है कि लंबे निकायों में भाजपा को सिर्फ चौबीस निकायों में ही बहुमत मिल पाया जबकि राजस्थान के निकाय चुनाव का तीसरा ये फीस था पहले फीस में यही हाल हुआ अब बात कर लेते हैं

और बड़ी ख़बर के नए प्रसिद्ध कानूनों के ख़िलाफ़ लगातार किसान भाई सड़कों पर है और इस तरह से किसान सड़कों पर हैं इसको लेकर लगातार हमारे ग्रुप मीडिया पर अपडेट फैला रही है और जो पत्र का सच दिखा रहे हैं उनके ख़िलाफ़ एफआइआर दर्ज की जा रही है

आपको पता होगा कि सांपला अपने मीडिया के जरिये देखा होगा जो पत्रकार दिल्ली हुए और धन की रीयल रिपोर्टिंग कर रहे थे उनके ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज करके उनको जेल भेजा जा रहा है खै़र अब किसानों के समर्थन में बीजेपी के अंदर भारी भरकम ऊंची है बीजेपी के कई

दारूची है बीजेपी की और दिग्गज नेता ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है ये डेटा हरियाणा से आते हैं बताया जा रहा है कि हरियाणा के पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने पार्टी से फिलहाल फाइनल रही है सरकार को चाहिए इंसान तीनों कानूनों को वापस ले और तलाक के कारणों को बर्खास्त करके किसानों को यह कहीं न कहीं जो मांग है

पूरी करें खुद बीजेपी के नेता जो कि एक और इस लिस्ट में शामिल हो गए हैं बलवान सिंह दौलतपुरिया ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है ये बीजेपी के लिए एक बड़ा झटका है खै़र बुद्धि में भी आपकी साइट हमें दिखाई नहीं क्योंकि गोदी मीडिया अगर आपकी शादी ख़बर दिखाई तो आपको पता है

उनकी आशा न खुश हो जाएंगे और जब आपका खुशियों में तो आप समझ सकते हैं उनका हाल होगा यात्री के साथ कई बड़े मामलों में उनको बड़ा झटका लगेगा आत्म गोस्वामी का हाल देखें ज्यादा गोस्वामी की जो खबरें थीं मीडिया केंद्र से गायब कर दी गई है कुछ भी दिखाया नहीं जा रहा है आप सोचे पूरी तरह से समा खुद को दबा दिया गया है जबकि किसान सड़कों पर फीस पूरी प्रवेश कर रहा है

किसी भी तरह की कैब में लिफ्ट नहीं हैं उनकी खबरों को आके बहुत चीज़े दिखाई जा रही है जबकि जो रियल हैं और नहीं दिखा था किसानों को लेकर बीजेपी की तरफ से और बंदोबस्त किया गया है इसको लेकर एक बड़ी अपडेट्स वीडियो में हम आपको बताने वाले हैं तो इसके साथ ही साथ कुछ और बड़ी अपडेट बजट सत्र भी आप सभी को पता शुरू है और ऐसे में मोदी सरकार ने अपना बजट पेश किया इसके बाद देश भी है हमले से वीडियो में भी आपको जानकारी देंगे उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट से करेंगे दोस्त अगर आपको भी लगता है

कि जो नेता आज हमारी सड़कों पर बैठा हुआ है और बेचारा इस ठंड के अंदर परेशान है सरकार को चाहिए क्योंकि सभी की सभी मांगे पूरी करें अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो पर लाइक करें ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि वे फॉर्मेशन दूसरे लोगों तक पहुँचना मिलता कुछ और हाँ प्रस्ताव है

कृषि कानून खिलाफ BJP में बगावत | कई नेताओं इस्तीफा | हड़कंप

बड़ी खबरों के साथ सबसे पहले जो बड़ी खबरें व कृषि कानून के ख़िलाफ़ अब बीजेपी के अंदर भारी बगावत शुरू हो गई है दरअसल बीजेपी के कई नेताओं ने इससे पहले आप पार्टी से इस्तीफा दे करके या तो दूसरी पार्टियों का दामन थाम लिया या फिर उन्होंने पार्टी से ही इनकी पार्टी को ही स्थित छोड़ा लेकिन इस कड़ी में अब एक ओर वा का मामला शामिल हो गया है

जिससे मोदी सरकार को बड़ा झटका लगा है दूसरी बड़ी खबार खाप चौधरियों ने आप कृषि कानून के ख़िलाफ़ एक बड़ा आला दान कर दिया है जिसके चलते आगे सरकार की मुश्किलें और भी बढ़ सकती हैं ट रैंकिंग की आड़ में दिल्ली में जो घटना हुई है

यानी की जो आराजकतत्वों आए थे उनको लेकर बड़ा खुलासा हुआ साथ ही सत्रह की स्टिक आयत का एक बड़ा ऐलान चार बड़ी खबरें आपके सामने रखेंगे करके उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट और आपको भी लगता है जो आज हमारा अन्यथा संघों पर बैठा हुआ है

और पीसफुली प्रोटेस्ट कर आवश्यक के प्रोटेस्ट के अंदर जीस तरह से जो अराजक तत्वों आ करके उनके प्रवेश को बदनाम करने की कोशीश की गई है उसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो पर लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब जरूर करनी चाहिए मोदी सरकार के दौरान बनाए गए तीनों कृषि कानून के खिला जहाँ एक तरफ विपक्षी पार्टियां विरोध कर ही रही साथ ही साथ देशभर के लाखों किसान इस कानून के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतर आए हैं

जिसके चलते सरकार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है और कई दलों ने इस मामले पर बीजेपी का साथ छोड़ दिया शिरोमणि अकाली दल हो चाहे फिर जो आप के कई और नेता हूँ उन्होंने एनडीए से नाता तोड़ दिया और अब इस कड़ी में हरियाणा के भाजपा नेता और पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ एकजुटता दिखाते हुए रविवार को सत्तारूढ़ पार्टी यानी की बीजेपी का साथ छोड़ दिया है बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है

दोनों पुनिया ने दो हज़ार उन्नीस के लोकसभा चुनाव से पहले इंडियन नेशनल लोकदल छोड़ भाजपा का दामन थामा था लेकिन जीस तरह से सरकार ने कृषि कानूनों को लेकर वे रवैया अपना रखा है जीस तरह से किसान प्रोटेस्ट कर रहे हैं उनके प्रोटेस्ट को समर्थन करते हुए यानी कि के दौरान खुल्या चाहिए यदि बलवानसिंह दौरान पुलिस पूर्व विधायक बीजेपी के हैं उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है

उन्होंने आज अपने गांव दौलतपुर में आयोजित पंचायत में अपने फैसले की घोषणा की है उन्होंने बाद में और दाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि तीनों प्रसिद्ध कानूनी किसान विरोधी हैं जिन्हें तत्काल चाहिए की सरकार वापस ले उन्होंने फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि आज किसान भाइयों की दशा देख कर

भाइयों की दशा देखकर मन बहुत दुखी है क्योंकि ऐसा नहीं हो सकता कि दादा रोहित कुत्ते को दर्द न हो लेकिन जीस तरह से सरकार ने पूरी तरह से इन अन्नदाताओं को नज़रअन्दाज़ किए है ये कहीं ना कहीं ठीक नहीं है जो की उनको स्पेशल ये बात अच्छी नहीं लगी जिसके चलते उन्होंने पार्टी पद से इस्तीफा दे दिया है

तो यह कहीं ना कहीं एक बड़ा झटका बीजेपी और मोदी सरकार के लिए है कि लगातार कई नेताओं में इस मामले पर बीजेपी से बगावत करते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया है और इस कड़ी में एक ओर नेता शामिल हो गया है चलिए बात करते हैं दूसरी बड़ी खपत की दूसरी बड़ी ख़बर है

आप चौधरियों का मोदी सरकार के ख़िलाफ़ एक बड़ा एलान आप सभी जानते होंगे कि दिल्ली में लाल किले की घटना के और ऐसा लगरहा था कि किसान आंदोलन पूरी तरह से ठप हो जाएगा उसको जो हैं और कहीं न कहीं अब वो पूरा खेल पलट दिया किसानों पर लाठीचार्ज के विरोध में आ खुद महापंचायत में आप चौधरियों ने पूरी ताकत के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़े होने का ऐलान किया है बताया जा रहा है

कि गाजीपुर बॉर्डर कुछ करने का साथ चौधरियों ने ऐलान कर दिया है जिनके साथ लगभग एक लाख ज्यादा किसान शामिल हैं केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकारों की सलाह सांसदों विधायको के ख़िलाफ़ भी नाराजगी उन्होंने जताई आने की उत्तर प्रदेश सरकार के ख़िलाफ़ भी है ये लोग दिल्ली सहारनपुर हाइवे पर बढ़ावा में जो है

सर्व खाप चौधरियों की अगुवाई में महापंचायत हुई है बढ़त में किसानों पर लाठीचार्ज गाजीपुर बॉर्डर भाजपा विधायक की हरकत पर कड़ी नाराज़गी जांच जारी इन लोगों ने किए सात पाँच पांच घंटे चली महापंचायत में हजारों लोगों की भीड़ उमड़ी बताया जा रहा है कि देश खाप के चौधरी सुरेन्द्रसिंह चौगामा साथ चौधरी कृष्णा राणा जैसे कई नेताओं ने अपनी सानों को अपना समर्थन दे दिया है और उन्होंने यह ऐलान कर दिया है कि गाजीपुर बॉर्डर हो जायेंगे यदि आप चौधरियों ने भी गाजीपुर बॉर्डर कुछ करने का ऐलान किया है

जिसके चलते किसानों को इसका बड़ा समर्थन मिलेगा और उनकी जो कई प्रोटीन्स की ताकतों की ओर बढ़ेगी तो ये एक और नया मामला सामने आया बात कर लेते है दिल्ली में इस तरह की घटना हुई आप लोगों ने देखा पूरे देश में लिखा पूरी दुनिया ने देखा ट्रैक्टर ट्रॉली की आड़ में कुछ अराजक तत्वों ने किस तरह से हिंसा की और इस मामले पर अपने नए खुलासे होते जा रहे गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर ट्रॉली की आड़ में दिल्ली में अभिनेता के पीछे बड़ी साजिश निकल कर सामने आ रहे

मामले में जांच में जुटी क्राइम ब्रांच के सूत्रों की मानें तो दिल्ली में ट्रैक्टर पर सवार उपद्रवी पूरी प्लानिंग के साथ दिल्ली के अंदर घुसे थे पुलिस से बचने के लिए उन्होंने हथकंडा

तरीकों से छिपा रखा एक नया खुलासा हुआ है इसमें बताया जा रहा है कितना नहीं ट्रैक्टर पर सवार होकर जो लोग दिल्ली में घुस कर लालकिला आइटीओ नाली बाबा हरिदास नगर पांडव अगर मुकरबा चौक और जगहों पर उत्पात मचा रहे थे उनके ट्रैक्टरों में जो है नंबर प्लेट भी नहीं थी यानी कि फर्जी नंबर के ट्रैक्टर ये लोग लेकर गाये थे और ट्रैक पर लाने के बाद उन्होंने दिल्ली में मुर्दा मचाया लेकिन सबसे बड़ा जो सवाल पैदा होता है वो ये कि देश के गृह मंत्री अमित शाह ने जो है

और उनके अंडर में जो पुलिस आती है जो एंटी इंटेलीजेंट इंजन सी आती है आखिर वो क्या कर रही थी क्या उनको थोड़ी भी भनक नहीं लगी या जो सोशल मीडिया को मॉनिटर करने वाला ग्रुप है जो इंटेलीजेंट है की उनको सोशल मीडिया के जरिए से क्या मैसेजिंग वगैरह के इन्फोर्मेशन नहीं थी या फिर इस तरह की चीजें नहीं मिली होगी ये एक बड़ा सवाल है

लेकिन इस पर अभी तक कोई बात करने के लिए तैयार नहीं है कोई जवाबदेही नहीं होता है है अब देखना यह है कि दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच जो इस मामले की इन्वेस्टिगेशन कर रही है वो अपने यूनिवर्सिटी के समय जो ये देखने वाली बात है एक और बड़ी अब दबाए के संपादक सिद्धांत व व राजन के ख़िलाफ़ रामपुर में एक एफआईआर दर्ज कर दी गई है

बता चला है कि दिल्ली हिंसा और हम अतीत करने का आरोप था खासकर के दबाएँ और एक ऐसा डिजिटल प्लेटफॉर्म जहाँ पर हार्ड बताया जाता है यानी की जो रियल स्टोरी की उसके बारे में प्रमोशन दी जाती है और दिल्ली की उन्होंने कांग्रेस की होगी कुछ चीजें हैं जो मालूम है

कुछ लोगों को पसंद नहीं आई होगी जिसके चलते ये सारा मामला हुआ है आइपीसी की धारा एक सौ तिरपन बी के तहत रिपोर्ट दर्ज कर दी गई है सफायर के ऊपर

ब्रेकिंग | किसान हिंसा पर BJP और RSS की साजिश पर बड़ा खुलासा | मोदी शाह से भिड़े ओवेसी

दूसरे कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन में जो घटना दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर मार्च के दौरान छब्बीस जनवरी यानी की रिपब्लिक डे के दिन हुई ऊब बहुत ही ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण थी और आप उस घटना को लेकर के किसानों ने एक बड़ा खुलासा किया है किसानों ने जो दावा किया वह चौंकाने वाला है

जिसमें बीजेपी और आरएसएस के ऊपर सीधा सचिन हवाई यानी के माध्यम पार्टी के प्रेसिडेंट और बीजेपी देश के गृह मंत्री अमित शाह और मोदी के उपर उन्होंने एक बड़ा आरोप लगाया है की सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है साथ ही साथ किसानों की पंचायत के अन्दर एक एक करके सभी खबरों के बाद विस्तार से जानकारी देंगे उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट है

अगर आपको भी लगता है जिसतरह से दिल्ली के अंदर किसानों के बीच पूरी प्रोटेस्ट में जो मामला हुआ जो घटना हुई जो हिस्सा है उसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए और हाँ आरोपियों को सख्त सजा होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो को लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब जरूर कर लिया सबसे पहले तो आप इस ख़बर को पढ़ लिया कहा अनुकृति कानूनों का विरोध रहे किसानों की गणतंत्र दिवस के दिन निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में जो कुछ हुआ वह दुनिया ने देखा इस हिंसा के बाद जहाँ एकता आंदोलन कमजोर पड़ता नजर आया तो अभी वहीं किसान नेता अब फिर से बात अपने आंदोलन को तेजी देने की लगातार कोशीश में लगे हुए हैं

और आप देख ही रहे होंगे कि किसान आंदोलन फिर से बा किस तरह से और भी तेजी से आगे बढ़ रहा है इसी बीच किसान नेता बलवीरसिंह राजीव कुमार ने कहा है की सिंधु बॉर्डर पर विरोध कर रहे किसानों को भड़काने के लिए साजिश की गई थी वे किसी भी हिंसा का आँ नहीं मानते इस दौरान राज्यपाल ने लोगों से शांतिपूर्ण तरीके से विरोध में शामिल होने की अपील भी की गई है भारतीय किसान यूनियन राजेवाल के अध्यक्ष भावी सिंह राजीव ने कहा है

कि दिल्ली की सीमाओं पर बैठक की शाम शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं वे आज भी शांतिपूर्ण प्रदर्शन नहीं करेंगे उन्होंने शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर जो़र देते हुए कहा मैं लोगों से शांतिपूर्ण विरोध में शामिल होने की अपील भी करता हूँ साथ ही था उन्होंने यह भी बता है कि इस प्रदर्शन के अंदर

इससे पहले भी आप लोगों ने देखा होगा कि बहुत सारे विडियोज के अंदर बहुत सारे जो है घटनाओं के अंदर किस तरह से कुछ तस्वीरें वायरल हुई जिसे दिल से दुखी तस्वीर देश के ग्रहमंत्री हमेशा के साथ वायरल हुई उसके बाद जो लोग पत्थरबाजी कर रहे थे वहाँ पर जो है किसानों के टेंट के ऊपर उस में एक शख्स बीजेपी से जुड़ा हुआ था और उसका फोटो देश के गृह मंत्री हमेशा के साथ में था तो इन साली चीजों को मद्देनज़र रखते हुए किसानों को भी पता चल गया है

इसमें कोई न कोई साजिश जरूरी है और इसी को लेकर किसान नेताओं ने साथ ही पूर्णपणे प्रोटेस्ट को आगे बढ़ाने के के साथ साथ बीजेपी आरएसएस को भी घेरा है उनका साफतौर पर कहना है कि इस घटना में जो कुछ भी हुआ है इसमें बीजेपी आरएसएस के लोगों का हाथ है और इन लोगों ने ही वाटर पार्क सिंधु बॉर्डर पर भी पुलिस प्रोटेस्ट में आकर के प्रदर्शनकारियों को भड़काने का काम किया है साथ ही साथ उकसाने की कोशीश की जिसके चलते कुछ हुआ है

अगर निष्पक्ष जांच होगी तो सारा मामला साबित सच चाहिए सामने आ जाएंगे लेकिन हो ता सर आपको अपनी इस प्रकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर चेक करें बात करके गवर्नमेंट खाता एमआईएम प्रसिडेंट सजनवा इसी आप सभी जानते हैं एक धाकड़ नेता माने जाते हैं और हैदराबाद के साथ साथ भी है और इसी में गुलबर्ग यानी कि कलबुर्गी में जनसभा को संबोधित करते हुए एक बार फिर से केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है वैसी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी एक तरफ महात्मा गाँधी की उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देते हैं वहीं दूसरी तरफ सावरकर को भी मानते हैं जबकि महात्मा गाँधी के जो आरोपी हैं

उनको अनुमति हत्या के आरोपी हैं वो गोडसे के मानने वाले लोग हैं वैसी ने आगे कहा एक तरफ सत्ता में बैठे लोग गाँधी के बारे में बात करते हैं तो वहीं दूसरी ओर दिमाग में महान गाँधी के हत्यारे गोडसे उनके दिमाग में रहता इतना ही नहीं ओवैसी ने आगे कहा कि वर्तमान में सप्ताह में बैठे लोग गोडसे के नफरत फैलाने वाले विचारों पर चल रहे हैं इसी नफरत की वजह से देश में दंगे और इस तरह की घटनाएं आप लोगों ने देखा होगा लोगों के बीच नफरत फैल रही है

इसमें लोगों का हाथ वैसी ने सिखों को लेकर बयान दिया और इसके साथ साथ जो हैं कई और बातों पर अपनी यानी की बाते उन्होंने रखी उनका साफ साफ कहना है कि जो आज सांप्रदायिक माहौल देश में लगातार बनता जा रहा है लोगों के बीच खरीदी जा रही है

इसके पीछे केंद्र सरकार है और केंद्र सरकार की वजह से ही लोगों के बीच की नफरत फैल रही है क्योंकि इस तरह से बीजेपी के चुनावी कैंपेन हो चाहे बीजेपी नेताओं बयान उन्होंने साफ तौर पर

में एक दूसरे धर्म के प्रति नफरत होती साड़ी चीजे होती हैं ये आरोप लगाया है आपके अपने पर विद्यालय नीचे कमेंट बॉक्स निर्णय को जरूर चेक करें बात कर के और अधिक हो सकती है इस ख़बर को भी किसान पंचायत है आप जयंत चौधरी समेत कई खाप पंचायतों ने बीजेपी के ऊपर गंभीर आरोप लगाया है

दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर भारतीय किसान यूनियन बीकेयू के नेता राकेश टिकैत के भाव के बाद मथुरा जिले में माहौल गरमा गया है स्थानों की आंदोलन के समर्थन में शनिवार को मथुरा के बाजना के मोहरा की मैदान पर एक महापंचायत इस में राष्ट्रीय लोकदल यानी आरंभिक हैं जीव आदेश जयंत चौधरी समेत कई बड़े नेता शामिल हुए रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार पर निशाना साधा उन्होंने कहा कि जाति धर्म में बांटने वाली बीजेपी के लोगों बीजेपी जो हैं

का लोगों को बहिष्कार करना चाहिए उन्होंने कहा कि कानून टूटने के लिए ही बनते हैं अगर किसान कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं तो वो आतंकवादी नहीं होती जबकि कई बीजेपी नेताओं में जो बिचारे बीस पुलिस प्रोटेस्ट में शामिल किसान उनको आतंकवादी तक कह दिया है रितेश बताते हैं देश द्रोही बताते हैं तो क्या डेमोक्रेसी के अनुसार अगर कोई किसी का विरोध करते हैं तो इसका मतलब टेस्ट होंगे क्या मोदी सरकार की नीतियों से अपने आप को सैटिस्फाइड करना ही है नेशनलिज़्म है ये एक बड़ा सवाल है

मथुरा के रख सात पंचायतों में यह बात साफ कही गई है जिसतरह से आज लोगों के बीच जाति धर्म के नाम पर नफरत फैल रही है इसके पीछे सिर्फ असर बीजेपी है बीजेपी की वजह से ही बोला साथ ही साथ खाप पंचायतों ने यह भी कहा है कि अब हम बीजेपी नेताओं अपने गाँव में घोषणा पूरी तरह से बंद करेंगे और अगर इस तरह की चीजें होती हैं

जगन्नाथ सरकार के साथ केंद्र की मोदी सरकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में इसके बारे में आप अपनी बात को रखें और हाँ इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करिए ताकि इन्फोर्मेशन दूसरे लोगों तक पहुंचना

कृषि कानून झुकी मोदी सरकार | BJP नेताओं हुक्का पानी बंद

फिर हम आप के साथ लाइव आ गए हैं मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगाया था किसानों का जो प्रदर्शन है और तेजी पकड़ता जा रहा है वहीं दूसरी तरफ आप कृषि कानून को ले करके मोदी सरकार और आने वाले दिनों तीनों कृषि गानों पर जो किसान मांग कर रहे थे उस पर सरकार राजी हो सकती है हम आपको तीन बड़ी खबरें बताएंगे दूसरी बड़ी ख़बर है वह है खा पंचायतों ने बीजेपी नेताओं का हुक्का पानी बंद करने का ऐलान कर दिया है

खाप पंचायतें खाप पंचायतों है उन्होंने बीजेपी करने का ऐलान कर दिया है साथ ही साथ दिल्ली बॉर्डर स्थानों की जूता दान लगातार बढ़ गया श्रेष्ठ स्तर से जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब जरूरी है ऐसा लगरहा था जो घटना हुई थी ने लाल किले वाली उसके बाद सरकार बातचीत के लिए भी किसानों से तयार नहीं होगी लेकिन फाइनली देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी थी ने ये ऐलान किया है

कि वो फिरसे एकबार किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तयार है और एक स्थानों के लिए एक बड़ी जीत है बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शनिवार को संघ की बैठक हुई है और इस बैठक में किसान आंदोलन और उनकी मांगों का मुद्दा भी उठाया गया आर पार्टी में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद किसी की जो है सुदीप बंदोपाध्याय शिवसेना सांसद विनायक राउत और एस एंड टी के बलविन्दरसिंह टेलर ने जो है अब किसान आंदोलन पर अपनी बात रखी है जबकि जदयू सांसद आरसीपी सिंह ने कानून का समर्थन किया है

साथ ही साथ इस मुददे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार अब भी प्रस्ताव को लेकर वे सक्षम खड़ी है सूत्रों के अनुसार पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने किसानों से जो कहा है उ वह मैं फिर से दोहराना चाहता हूँ उन्होंने कहा कि हम आम सहमति तक नहीं पहुंचना लेकिन हम आपको प्रस्ताव दे रहे हैं

आप जाए और इस पर चर्चा कर लें इसके साथ उन्होंने कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर की बात कही और दोहराया कि वह किसानों से बस एक फ़ोन कॉल से जो है दूरी पर और बहुत जल्द ही पूरा मामला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा

आंवला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा यदि सरकार एक बार फिर से किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तैयार है और किसानों ने कहा कि अगर सरकार वार्ता करने के लिए तयार है तो सरकार का स्वागत है जो कहा जा रहा था अभी दो दिन पहले कि आप जब यह मामला पूरी तरह से बिगड़ चुका है उन लोगों की मौके पर जोरदार तमाचा हैं

और सरकार फिर से एक बार जोगी और किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है दूसरी बड़ी ख़बर बीजेपी नेताओं का भूखा पानी बंद होने लगा है दरअसल बताया जा रहा है कि हरियाणा की जिंदगी में खट् खट् खट् दूर ताजा शनिवार को जिले की खाप पंचायतों की हुई महापंचायत में फैसला किया गया है कि किसी भी कार्यक्रम में बीजेपी बीजेपी के नेताओं को नहीं बुलाया जाएगा यानी कि कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के अन्दर जो दो से लगातार बढ़ता जा रहा है

साफतौर पर ये हरयाणा के अंदर आ लाल किया गया है कि बीजेपी और चीजें पी के नेताओं को किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं किया जाएगा इसके साथ ही साथ बताया जा रहा है वहीं दिल्ली के मुंडका विधानसभा क्षेत्र के टिकरी गांव में किसानों की हुई एक महापंचायत में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है

कि जो डिग्री बॉर्डर पर बैठे किसानों की हरसंभव मदद की जाएगी इस महापंचायत ने टिकरी गांव की तरफ से किसानों के इक्यावन हज़ार रुपये की मदद देने का ऐलान किया गया है इसके साथ साथ बताया जा रहा है कि महापंचायत के जिले की खबरों के प्रधान एवं प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया है और ये तादाद को छोटी गोटिकादा नहीं है कोई थोड़ी बहुत याद आती है लाखो की तादाद में इस महापंचायत में और सैकड़ों गांव के किसान जुटे थे और किसानों ने जाने का ऐलान किया है

साथ ही था बीजेपी नेताओं को अपने गांव में घुसने पर सीधे तौर पर पाबंदी लगा दी है और कहा गया कि बीजेपी के कोई भी नेता अपने ना तो कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा ना फिर उनको गाँव के अंदर घुसने दिया जाएगा यह हरियाना समय दिल्ली की खाप पंचायतों का फैसला है और अगर इस तरह के फैसले हो रहे क्या की मांग की बीजेपी की नींद उड़ी हुई है

साथ ही साथ उसको आने वाले चुनाव बड़ा झटका भी लगा सकता है बात करने और बड़ी ख़बर की दी गई है और इसमें कोशिशकी स्थापित की गई है शायद सोशल मीडिया के जरिए आपको पता भी होगा हुई हिंसा के बाद

कई समूह कई जत्थे अब वार्डों के उपर आना शुरू हो चूके हैं बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय राजधानी के बॉर्डर पर जो किसान प्रदर्शन कर रहे हैं उनके समर्थन में लाखों के जरिए लगातार आने जा है कई किसान नेताओं ने शनिवार को दावा किया है

कि अधिकार अधिकाधिक किसान सम्मुख दिल्ली जाने का दावा दिल्ली की तरफ जा रहे और दो फरवरी को राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं किसान संगठनों एवं राष्ट्रीय राजधानी की संख्या मज़दूरों का रिकॉर्ड जमावड़ा इकट्ठा होगा भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष बलवीर सिंह बाद में कहा कि उन्हें दिल्ली का की सीमा पर दो फरवरी को हाथ ऐसा किसान नेता जिसमें यकीनन सरकार की नींद उड़ा करती है

और सिर्फ सरकार की नींद भी उड़ाई सरकार के नुमाइंदे जो अभी तक विचारण पर बैठ कर के के दावा कर रहे थे जब सरकार टस से मस नहीं होगी वह फिर से नरमी इख्तियार करते हुए किसानों से वार्ता के लिए तय्यार हुई है साल के लिए वाली हिंसा भी उसकी स्पष्ट जांच होगी और अगर जांच सही से होगी सुना ही होगा इससे आगे क्या होता है

लेकिन ये बड़ी ख़बर है जहाँ एक तरफ किसानों से बातचीत करने के लिए सरकार तयार वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेताओं का पानी दिल्ली समेत हरियाणा के कई गांवों में बंद कर दिया गया है साथ ही साथ किसानों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है

इस पर आपकी क्या राय हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को शेयर करें वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लाइक करिए