कृषि कानून किसानों बड़ी जीत | गृहमंत्री अमित शाह बड़ा फैसला

कृषि कानूनों को लेकर जहाँ एक तरफ पूरे देश के किसान लगातार प्रोटेस्ट कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ इस प्रोजेक्ट को खत्म करने के लिए मोदी सरकार ने अपने ऊची चोटी का ज़ोर लगा दिया लेकिन अब जो तस्वीर बनती हुई दिखाई दे रही है ये सरकार के लिए जो डालने वाली मोदी सरकार के अंदर ही फूड पड़ गए हैं

साथ ही साथ देश के गृह मंत्री अमित शाह पार कर दिया है क्या कुछ किया है इसके बारे में भी हम आपको विस्तार से जानकारी देंगे साथ ही साथ जो है अन्ना हजारे जो अनशन करने जा रहे थे जो आंदोलन करने जा रहे थे उस पर एक ओर बड़ी अपडेट्स सामने आ रही है इसके बारे में भी हम आपको बताएंगे उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट है अगर आपको भी लगता है कि आज जो हमारे अन्यथा पीसफुली अपना प्रोटेस्ट कर रहे हैं उसमें जीस तरह से दिल्ली में घटना हुई है

उसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो पर लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब जरूर करनी चाहिए सबसे पहले हम आपको तस्वीर दिखाना चाहते हैं आप एक तस्वीर देखें ये तस्वीर सिंधु बॉर्डर की है जहाँ पर राकेश ठीक है अभी फ़िलहाल प्रोटेस्ट कर रहे हैं जो सरकार ने सोचा नहीं था वो होता दिखाई दे रहा है पहले आप इस तस्वीर को देखें उसके बाद हम आगे चर्चा करते हैं चलो मैं दिखा

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत को लेकर बीजेपी में सियासी घमासान मच गया है पार्टी के भीतर ही लोनी के विधायक मंद किशोर गुर्जर को निष्कासित करने की मांग की गई है दरअसल इन विधायक जी के ऊपर जो बीजेपी के विधायक हैं

उनके ऊपर आरोप है कि उन्होंने का काम किया उन्होंने किसानों को जो है कही ना कही बहुत साड़ी चीजों में बदलाव लाने का काम किया जिसके चलते यह मांग की गई लोनी के व्यक्ति की चाह में रंजीता सामा ने कहा कि भाजपा की छवि ख़राब करने के लिए विधायक ने किसानों को उकसा है

पार्टी की छवि लोनी विधायक ने पहले भी खड़ा की थी उन्होंने विपक्षी नेताओं के साथ मिलकर सुधार सभा के बाहर धरना दिया था और अब जो बीजेपी बीजेपी अभी कृषि कानून को लेकर मजबूती से एक साथ खड़ी होती हुई दिखाई दे रही थी हरियाणा के अन्दर बीजेपी के ही विधायक आप अपनी पार्टी के अलावा पृथ्वी कानून को लेकर के सड़कों पर आ गया है जिसके चलते हरियाणा में बीजेपी के अंदर फूट पड़ गई है

आपको कौन सा पड़ता था अमीषा देश के गृह मंत्री उन्होंने कल रात को जीस तरह से इसराइल के जो दूतावास के सामने जो घटना हुई उस को ले उसके बाद एक बड़ा फैसला लिया है गर्म अंत निशा ने पश्चिम बंगाल का दो दिवसीय दौरा रद्द कर दिया है जानकारी मिली उन्होंने दिल्ली में किसान आंदोलन और इजरायल दूतावास के पास वे घटना के चलते बनी स्थिती की वजह से यह फैसला लिया है

जानकारी मिल रही है बता दे शुक्रवार को शाम करीब पांच बजे नई दिल्ली स्थित इसराइल के दूतावास के नजदीक मामूली एक घटना हुई आईडीओ विस्फोट हुआ इसमें कई गाड़ियों के शीशे भी टूट इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री मिश्रा ने दिल्ली के पुलिस कमिशनर एस एन श्रीवास्तव से बात करते हुए अपना चलना शुरू किया साथ ही साथ बताया जाता है कि किसानों का जो आंदोलन है

लगातार जिसकी ताकत बढ़ती जा रही है इसको लेकर भी बीजेपी और मोदी सरकार के अंदर कहीं ना कहीं हड़कंप मचा हुआ है जिसके चलते देश के गृह मंत्री ने अपने इनको चेंज कर दिया है पहले तो थोड़ा तो ये किसानों की बड़ी जीत है किसानों का जो प्रदर्शन धीरे धीरे खत्म हो रहा था जिसमें फूट डालने की कोशीश की जा रही थी आप फोर्ट एकता में चेंज हो गयी बदल गई और खुद बीजेपी के अंदर फ़ूड पड़ रही है

एक और बड़ी खबरः हजारे वैसे तो मैं ये बार बार आप लोगो को अपडेट देता था कि अन्ना हजारे अनशन करने जा रहे थे लेकिन बहुत सारे लोग इस प्रकार है कि अन्ना हजारे के ऊपर भरोसा नहीं कर सकते हर

भरोसा नहीं कर सकते हर कुछ इसी तरह की तस्वीर सामने आई है बताया जा रहा है कि समाजसेवी अन्ना हजारे ने रस्सी कानूनों के ख़िलाफ़ अपना प्रस्तावित अनशन अब नहीं करने का ऐलान कर दिया है दरअसल अन्ना हजारे ने कहा था कि फीस अन्नान ने खुद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और देवेन्द्र फडनवीस की मौजूदगी में ऐलान किया है

गौरतबल है कि कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ शनिवार को अनशन करने वाले यानी की आज अनशन करने वाले थे और अब वाचन न करने का उन्होंने फैसला किया है अब ये फैसला इस वजह से लिया है कि उन्होंने रातों रात पार्टी मारती है ये तो एक सोचने का विषय है और रॉक सोचने का ये आप सभी जानते हैं बहुत सारे लोग का ही रहते थे अन्ना हजारे पर भरोसा नहीं कर सकते हैं

साथ ही साथ एक और चौंकाने वाला उन्होंने बयान तक दे डाला है उन्होंने ये कहा है कि सरकार ने जो कृषि कानून बनाए हैं ये किसानों के हित के हैं जबकि अन्ना हज़ारे पहले से कह रहे थे कि ये तीनों कृषि कानून किसानों के हित के नहीं है इसमें किसानों को नुकसान होगा रातों रात उन्होंने अपना बयान भी बदलाव और आप अपने अनशन को न करने का फैसला किया था कही न कि उन लोगों की बात सच साबित होती दिखाई दे रही है

क्यों की वजह से लाखों का जल स्तर लगातार से दूर बॉर्डर पे जो पहुँच रहा है आपको अपनी इस प्रकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर शेयर करें सभी रिक्वेस्ट है अगर आपको ये वीडियो पसंद आया हो तो लाइफ के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों का शेयर करें ताकि इन्फोर्मेशन दूसरे लोग लोगों तक पहुँचें अगर आपने अभी तक हमारे चैनल को सब्सक्राइब नहीं किया तो नीचे ट्रैन में सबसे बड़ा हुआ है उसको दबा कर के चालकों से स्काई के नीचे आजकल लगता ही मिलते हैं कुछ और खबरों के साथ

कृषि कानून झुकी मोदी सरकार | BJP नेताओं हुक्का पानी बंद

फिर हम आप के साथ लाइव आ गए हैं मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगाया था किसानों का जो प्रदर्शन है और तेजी पकड़ता जा रहा है वहीं दूसरी तरफ आप कृषि कानून को ले करके मोदी सरकार और आने वाले दिनों तीनों कृषि गानों पर जो किसान मांग कर रहे थे उस पर सरकार राजी हो सकती है हम आपको तीन बड़ी खबरें बताएंगे दूसरी बड़ी ख़बर है

वह है खा पंचायतों ने बीजेपी नेताओं का हुक्का पानी बंद करने का ऐलान कर दिया है खाप पंचायतें खाप पंचायतों है उन्होंने बीजेपी करने का ऐलान कर दिया है साथ ही साथ दिल्ली बॉर्डर स्थानों की जूता दान लगातार बढ़ गया श्रेष्ठ स्तर से जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं तो वीडियो लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब जरूरी है

ऐसा लगरहा था जो घटना हुई थी ने लाल किले वाली उसके बाद सरकार बातचीत के लिए भी किसानों से तयार नहीं होगी लेकिन फाइनली देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी थी ने ये ऐलान किया है कि वो फिरसे एकबार किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तयार है और एक स्थानों के लिए एक बड़ी जीत है बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शनिवार को संघ की बैठक हुई है और इस बैठक में किसान आंदोलन और उनकी मांगों का मुद्दा भी उठाया गया आर पार्टी में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद किसी की जो है सुदीप बंदोपाध्याय शिवसेना सांसद विनायक राउत और एस एंड टी के बलविन्दरसिंह टेलर ने जो है

अब किसान आंदोलन पर अपनी बात रखी है जबकि जदयू सांसद आरसीपी सिंह ने कानून का समर्थन किया है साथ ही साथ इस मुददे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार अब भी प्रस्ताव को लेकर वे सक्षम खड़ी है सूत्रों के अनुसार पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने किसानों से जो कहा है उ

वह मैं फिर से दोहराना चाहता हूँ उन्होंने कहा कि हम आम सहमति तक नहीं पहुंचना लेकिन हम आपको प्रस्ताव दे रहे हैं आप जाए और इस पर चर्चा कर लें इसके साथ उन्होंने कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर की बात कही और दोहराया कि वह किसानों से बस एक फ़ोन कॉल से जो है दूरी पर और बहुत जल्द ही पूरा मामला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा

आंवला किसानों के साथ सुलझा लिया जाएगा यदि सरकार एक बार फिर से किसानों के साथ वार्ता करने के लिए तैयार है और किसानों ने कहा कि अगर सरकार वार्ता करने के लिए तयार है तो सरकार का स्वागत है जो कहा जा रहा था अभी दो दिन पहले कि आप जब यह मामला पूरी तरह से बिगड़ चुका है उन लोगों की मौके पर जोरदार तमाचा हैं

और सरकार फिर से एक बार जोगी और किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है दूसरी बड़ी ख़बर बीजेपी नेताओं का भूखा पानी बंद होने लगा है दरअसल बताया जा रहा है कि हरियाणा की जिंदगी में खट् खट् खट् दूर ताजा शनिवार को जिले की खाप पंचायतों की हुई महापंचायत में फैसला किया गया है कि किसी भी कार्यक्रम में बीजेपी बीजेपी के नेताओं को नहीं बुलाया जाएगा यानी कि कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के अन्दर जो दो से लगातार बढ़ता जा रहा है

साफतौर पर ये हरयाणा के अंदर आ लाल किया गया है कि बीजेपी और चीजें पी के नेताओं को किसी भी कार्यक्रम में शामिल नहीं किया जाएगा इसके साथ ही साथ बताया जा रहा है वहीं दिल्ली के मुंडका विधानसभा क्षेत्र के टिकरी गांव में किसानों की हुई एक महापंचायत में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है कि जो डिग्री बॉर्डर पर बैठे किसानों की हरसंभव मदद की जाएगी इस महापंचायत ने टिकरी गांव की तरफ से किसानों के इक्यावन हज़ार रुपये की मदद देने का ऐलान किया गया है इसके साथ साथ बताया जा रहा है

कि महापंचायत के जिले की खबरों के प्रधान एवं प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया है और ये तादाद को छोटी गोटिकादा नहीं है कोई थोड़ी बहुत याद आती है लाखो की तादाद में इस महापंचायत में और सैकड़ों गांव के किसान जुटे थे और किसानों ने जाने का ऐलान किया है साथ ही था बीजेपी नेताओं को अपने गांव में घुसने पर सीधे तौर पर पाबंदी लगा दी है

और कहा गया कि बीजेपी के कोई भी नेता अपने ना तो कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा ना फिर उनको गाँव के अंदर घुसने दिया जाएगा यह हरियाना समय दिल्ली की खाप पंचायतों का फैसला है और अगर इस तरह के फैसले हो रहे क्या की मांग की बीजेपी की नींद उड़ी हुई है साथ ही साथ उसको आने वाले चुनाव बड़ा झटका भी लगा सकता है

बात करने और बड़ी ख़बर की दी गई है और इसमें कोशिशकी स्थापित की गई है शायद सोशल मीडिया के जरिए आपको पता भी होगा हुई हिंसा के बाद

कई समूह कई जत्थे अब वार्डों के उपर आना शुरू हो चूके हैं बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय राजधानी के बॉर्डर पर जो किसान प्रदर्शन कर रहे हैं उनके समर्थन में लाखों के जरिए लगातार आने जा है कई किसान नेताओं ने शनिवार को दावा किया है कि अधिकार अधिकाधिक किसान सम्मुख दिल्ली जाने का दावा दिल्ली की तरफ जा रहे और दो फरवरी को राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं किसान संगठनों एवं राष्ट्रीय राजधानी की संख्या मज़दूरों का रिकॉर्ड जमावड़ा इकट्ठा होगा भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष बलवीर सिंह

बाद में कहा कि उन्हें दिल्ली का की सीमा पर दो फरवरी को हाथ ऐसा किसान नेता जिसमें यकीनन सरकार की नींद उड़ा करती है और सिर्फ सरकार की नींद भी उड़ाई सरकार के नुमाइंदे जो अभी तक विचारण पर बैठ कर के के दावा कर रहे थे जब सरकार टस से मस नहीं होगी वह फिर से नरमी इख्तियार करते हुए किसानों से वार्ता के लिए तय्यार हुई है साल के लिए वाली हिंसा भी उसकी स्पष्ट जांच होगी और अगर जांच सही से होगी सुना ही होगा इससे आगे क्या होता है

लेकिन ये बड़ी ख़बर है जहाँ एक तरफ किसानों से बातचीत करने के लिए सरकार तयार वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेताओं का पानी दिल्ली समेत हरियाणा के कई गांवों में बंद कर दिया गया है साथ ही साथ किसानों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है इस पर आपकी क्या राय हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को शेयर करें वीडियो को ज्यादा से ज्यादा लाइक करिए

ब्रेकिंग | कृषि कानून खिलाफ टिकरी सिंधू बॉर्डर उमड़ा जनसैलाब | मोदी सरकार को बड़ा झटका

तीन प्रति कानूनों के ख़िलाफ़ झा एक तरफ साठ दिन से लगातार आंदोलन चल रहा था लेकिन कुछ लोगों के द्वारा इस आंदोलन को चलने की कोशीश की गई और जीस तरह से एक संयंत्र के तहत है इस आंदोलन को खत्म करवाने और उसमें बदलाव करने की कोशीश की गई अब उसी तरह से फिर से एक बार किसान आंदोलन ओह भी तेजी से आगे बढ़ रहा है बिक्री और सिंधु बॉर्डर पर जो जनसैलाब उमड़ा है यकीन वो चौका देने वाला है राकेश टिकैत किसान नेता एक ऐसा नेता जिसकी एक बार की पुकार में पहुंचना शुरू हो गया है

हम आपको इसी एक तस्वीर दिखाएंगे साथ ही साथ मोदी सरकार की मुश्किलें लगातार बढ़ रही है और जो आप पंचायत आज भी यकीन की अगर आप तस्वीर देखेंगे तो आप चौक जाएंगे हम आपको उसकी तस्वीर भी दिखाएंगे साथ ही साथ किसान आंदोलन और के हरियाणा सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है

एक एक करके तमाम खबरों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे उससे पहले छोटी सी ड्रेस से अगर आपको भी लगता है कि दूसरों की तरह से लाल किले पर और किसानों जो की रैली में जो घटना हुई उस की स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप भी इस्तेमाल करते हैं तो वीडियो कालिंग कर के चालकों सब खाएं जरूर करनी चाहिए एक बार पुकार लगाने से या फिर आवाज़ उठाने से कई राज्यों के किसान अब पहुंचना शुरू हो गया है आज एक हाथ पंचायत हुई है

ये खाप पंचायतों है मुझे जफर नगर में हुई है जिसकी हम आपको तस्वीर दिखाना चाहते हैं यकीनन आप इस खाप पंचायत की तस्वीर देखेंगे तो चौंक जाएंगे दरअसल इस तस्वीर में जो नजारा हैं और कहीं ना कहीं मोदी सरकार के लिए एक तरह से चिंता बढ़ा देने वाला है हम आपको दिखाना चाहते हो सुना जा रहे हो पहले आपको सुना जा रे को देखे उसके बाद हम आगे चर्चा करते हैं जिन्हें पहले आप इस वीडियो को बॉस करें चलो मैं वीडियो प्ले करता हूँ इस वीडियो पर आवाज करे दिल्ली के बजाए देखें No Text Found

पैर था टेकरी से लेकर के सिंधु बॉर्डर पर जनसैलाब उमड़ रहा है यकीनन ये बीजेपी सरकार को हिला देने वाला है बताया जा रहा है कि सिंधु बॉर्डर पर फिर से जो प्रोफेशनल भी खुली उसको बदलाव करने की कोशीश की गई है वहाँ पर कुछ आराजकतत्वों पहुंचे और किसानों के तेल वग़ैरह करनी शुरू कर दिए थे जिसके चलते वह पछाड़ा भी हुई है और कई तो इसमें सुधार भी हुए हैं अब सवाल यह खड़ा होता है

जब सरकार ने पूरे एरिये को छावनी में तबदील करके रखा है मैं पैरा मिलिट्री फोर्सेज को रिप्लेस कर रखा है तो यह जो आराजक तत्वों हैं किसानों के आंदोलन में कैसे पहुँच गए वहाँ तक कैसे वहाँ तक जाने की इजाजत दी गयी एक बड़ा मामला है यकीन मानिए चौंका देने वाली घटना है साथ ही साथ बीजेपी तो आज कल ऐसी कारणों को ले करके बड़ा झटका लगा है

हरियाणा बीजेपी के नेता और पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है राजाराज कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ काफी ज्यादा नाराजगी में थे जिसके चलते उन्होंने अब बीजेपी का दामन छोड़ने का ऐलान किया है और हरियाणा में बीजेपी को अब यह लगभग चौथा सकता है कई बीजेपी के नेता और उनसे जुड़े हुए नेताओं ने पार्टी छोड़ी है

और आ पूर्व मुख्य संसदीय सचिव ने भी बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है तो कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ एक बार और किसानों की इस पर पड़ी चीत हुई है खैरे कौर बड़ी अपडेट यहाँ पर अब राजनीतिक पार्टियों को भी शामिल होना शुरु हो गया है हम आपको बताते हैं कौनसी पार्टी में शामिल होने से पहले हरयाणा भी और हरियाणा सरकार के द्वारा रस्सी कानूनों पर लोगों के द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन को लेकर के एक बड़ा ऐलान किया बड़ा फैसला लिया गया है बताया जा रहा है

कि हरियाणा सरकार ने राज्य के सत्रह जिलों में इंटरनेट और एसएमएस सर्विस को कलसा था भावास बजे तक सस्पेंड कर दिया है सूचना विभाग ने ट्वीट कर कहा है कि तुरन्त प्रभाव से अंबाला यमुनानगर कुरुक्षेत्र करनाल कैथल पानीपत हिसार जींद रोहतक भिवानी चरखी दादरी फतेहाबाद मेवाणी और के सात जिलों में वाइस कॉल को छोड़कर इंटरनेट सेवाओं को तीस जनवरी दो हज़ार से शाम पांच बजे तक जो हैं बंद करने का निर्णय लिया गया है तो कहीं न कहीं ये फैसला हरियाणा सरकार की तरफ से दिया गया है

अब उसपर मंशा क्या है ये तो एक सोचने की बात है और जानते भी होंगे इस तरह से सालों के समर्थन में हरियाणा से भारी तादाद में जो लोग डिग्री पर पहुँच रहे हैं और आशीष को समर्थन देने के लिए दोपहर में पहुँच रहे हैं इन सभी चीजों को मद्देनज़र रखते हुए सात हरयाणा की जो घटना सरकार उन्होंने फैसला लिया होगा लेकिन क्या खोलें

फैसला लिया होगा लेकिन क्या आपको लगता है इंटरनेट कॉल ये सब चीज़े बंद करने से आप किसी की आवाज को दबा सकते हैं आपके साथ जो अपने हक की लड़ाई लड़ रहा है जो किसान मानकर उसका डेमो सिटीबैंक नहीं है लेकिन क्या उससे ही पहले अवसर बताई है अब एक और बड़ी ख़बर दिल्ली से हैं मोदी सरकार से नाराज केजरीवाल ने अब राकेश टिकैत को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया है

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद विवाद में आंदोलनरत किसानों की मांगों को वाजिब कहा है उन्हें बदनाम करने की कोशीश को पूरी तरह गलत करार देते हुए शुक्रवार को उन्होंने कहा है कि उनकी आम आदमी पार्टी के इशारों को जारी प्रदर्शन का पूरा का समर्थन करती है

कैजरीवाल के सारे नेता राकेश टिकैत से जो हास्य असत्यापित अकाउंट से किए गए ट्वीट का जवाब दे रहे थे विकास ने ट्वीट में किसानों की वास्तविक बदलाव करने को लेकर मुख्यमंत्री को धन्यवाद था तो कहीं ना कहीं ये एक और नया मामला सामने आया है गोदी मीडिया तो आपको वो चीज़ दिखाई जो उनके आका कहते हैं और अगर वो नहीं दिखाएंगे आप सभी जानते हैं

कि क्या होगा लेकिन तब से चल रही है लेकिन किसान और सच की जरूरत है और जो इंसान सच के रास्ते पर चलता है तो कभी नहीं आता साथ मिलते कुछ और खबरों के साथ अगर आपको ये वीडियो पसंद आया तो प्लीज़ लाइव ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि दूसरे लोगों के बीच की मिशन पहुंचना

ब्रेकिंग | कृषि कानून और मोदी सरकार के खिलाफ एक और बड़ा आंदोलन शुरू | अभी अभी बॉर्डर पर हड़कंप

दूसरे मोदी सरकार के दौरान बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे विरोध प्रदर्शन ज्यादा टाइम हो गया किसानों का भी पुलिस प्रोटेस्ट चला लेकिन जीस तरह से जनवरी के दिन कुछ अराजक तत्वों के द्वारा जैसा किसान नेताओं के द्वारा आरोप लगाया जाता है ये सजेशन हुआ उससे किसी आंदोलन को कुचलने की कोशीश की गई और कुछ हद तक उसमें लोग कामयाब भी हुए गोदी मीडिया भी कामयाब हुआ लेकिन अब एक बार फिर से सरकार के ख़िलाफ़ एक बड़ा आंदोलन शुरू हो का है

जिसका आग़ाज़ बताया जा रहा है कि कल से होने जा रहा है हम आपको उसकी तस्वीर दिखाने के साथ ही साथ किसानों की रस्सी कानून को लेकर वे एक बड़ी जीत हुई है है और सरकार अब पीछे हटने के लिए फिर से एक बार तयार हो गई है साथ ही साथ है राखी शिकायत को लेकर के बड़ी ख़बर है इसके लिए हम आपको अपनी रैंक से पहले छोटी सी रिक्वेस्ट है अब आपको भी लगता है

इस तरह से लाल किले के ऊपर घटना हुई है उसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप यह सम्मान करते हैं तो वीडियो पर लाइन करके चैनल को सब्सक्राइब करके ज्यादा से ज्यादा को शेयर भी करें सबसे पहले आप सभी जानते होंगे गोदी मीडिया के द्वारा जो संयंत्र चल रहा था उसमें वो कामयाब होंगे कुछ आराजकतत्वों के दौरान लाल किले पर जो घटना हुई

वो बेहद निंदनीय थी जिसकी कोई जस्टिफाइड नहीं कर सकता लेकिन वो घटना कैसे हुई यह भी एक जांच का विषय है और इसी को लेकर किसान संगठनों के द्वारा की मांग की गई है इसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए और जब लाल किले की घटना हुई उसके बाद लगातार किसान आंदोलन को कुचलने की कोशीश मीडिया तो पहले से ही कर रहा था सरकार भी करना शुरू कर चुकी थीं लेकिन एक ओर आंदोलन सरकार के ख़िलाफ़ खड़ा होगा आप इस ख़बर को देखें किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर के समाजसेवी अन्ना हजारे ने एक बार फिर आंदोलन करने का ऐलान कर दिया है

ये इससे पहले भी उन्होंने कहा था फिर कहा है दरअसल जब अगले घटना हुई उसके बाद ऐसी उम्मीद जताई जा रही थी कि अन्ना हज़ारे जो अपना प्रदर्शन करने के लिए तीस तारीख की डेट दे चूके हैं उस पर वो प्रदर्शन न करें लेकिन आखिरकार उन्होंने फिर से बड़ा बयान देकर के सरकार के जो है आप कही न की चिंताएं बढ़ा दी है उन्होंने कहा कि अन्ना हजारे तीस जनवरी से अपने गांव राली गढ़ सीधी में आंदोलन करने का ऐलान करते हैं

साथ ही उन्होंने अपने समर्थकों से अपने लाख में ही आंदोलन करने की अपील कर दी है उन्होंने कहा कि आज देश का किसान बहुत परेशान है और जिसतरह से सरकार अपने अड़ियल रवैये अपना रही है इससे वो बेहद है चिंताजनक हैं वनइंडिया हिंदी किसानों की ख़बर के मुताबिक बताया जा रहा है किसानों की उपज का सही दाम नहीं मिलता और केंद्र सरकार यहाँ तक कह चुकी

और यहाँ तक कह चुकी हैं कि उन्होंने स्वामी स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें स्वीकार कर ली है लेकिन लिखित में देने के लिए जरूरी नहीं है इसके चलते अन्ना हजारे काफी आक्रोश में हैं और उन्हें फिर से एक बार जो है को लेकर सरकार ने जो तेवर दिखाने शुरू किए थे अब वो अपने देवर को पीछे लेने भी शुरू कर चुकी है बताया जा रहा है

कि जल्द ही किसानों नेताओं पर शिकंजा कसा के साथ प्रशासन गाजीपुर बॉर्डर खाली कर लेगा इसको लेकर लगातार चर्चा के लगभग दो महीने से गाजीपुर बॉर्डर पर धरना पर बैठे किसानों को उठाने के लिए भारी तादाद में पुलिस पर वहा पर पहुंचना थे लेकिन किसानों का आंदोलन खत्म होते होते एक बार फिर से शुरू हो गया है आप देखेंगे कि छब्बीस जनवरी को हिंसा के बाद किसान आंदोलन को खत्म करने के आसार नजर आ रहे थे उससे किसान नेता राम श्रेष्ठ गायक ने अपने दम पर फिर से बचा लिया है

किसान आंदोलन के लिए बीती रात राकेश टिकैत का भावुक होना उनकी आँखों में आंसू निकलना करने वाले साबित हुआ है बताया जा रहा है कि चार सौ किसान संगठनों ने अपना धरना खत्म करने का जहाँ एकतरफा ऐलान किया है वहीं दूसरी तरफ राशिस्थ कॉन्फ्रेंस करके मीडिया के सामने रो पड़े और राहत तो साथ बताया जा रहा है कि कई किसान संगठनों ने उनके समर्थन में फिर से एक बार बॉर्डर पर पहुंचना का ऐलान कर दिया है

और फिर से एक बार किसान आन्दोलन खड़ा होने जा रहा है जैसा कि मैं आपको खपत दिखा रहा हूँ साथ ही साथ एक और बड़ी अपडेट आप देखेंगे यहाँ पर यानी कि राकेश टिकैत के समर्थन में शक्ति प्रदर्शन आज राकेश टिकैत के साथ पतन में आधीरात को गाजीपुर बॉर्डर के लिए उनके गांव के समेत कई जगहों से किसान संगठन रवाना हो गए हैं जिससे आगे सरकार की मुश्किलें खड़ी हो सकती है साथ ही साथ बताया जा रहा है कि आज मुजफ्फरनगर में महापंचायत होने वाली है जिसपर एक बड़ा फैसला लिया जा सकता है

और किसान आंदोलन एक बार फिर से खा लिया जा सकता है आप को एक तस्वीर और हम दिखाना चाहते हैं आपको वीडियो दिखाएंगे आप पहले इस वीडियो को ज़रा गौर से देखे उसके आगे चर्चा करते हैं हम आजादी रहती थीं आम लोगों के विकास के प्रारंभिक खर्च की लेकिन आज शाम से जहाँ पूरे तरीके से घोषणा करके चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई दिल्ली पुलिस ने सबसे पहले टिकिया पुलिस दल पर या एक प्रतिकृति संबंधित अनेक वेळा अलग है और यह तो जैसा कि आप लोगों ने इस वीडियो को देखा प्राकृतिक जब अपनी प्रेस को

क्या जब अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस करते है उसके पीछे ये सब पकड़ा गया और इसकी जो एसिडिटी को संगीत देखी जिसके चलते किसानों को दबोचा दबोचने के बाद पुलिस के हवाले किया अब सवाल ये पैदा होता है कि इस प्रकार के लोग किसान आंदोलन में शामिल होकर के किसानों के बीच खुली आंदोलन को बदनाम करने की कोशीश करते हैं

और सवाल यह है कि जब इतनी सुरक्षा एजेंट मुझे लगा दी गई है तो आखिर किस तरह से इस तरह के लोग यहाँ पहुँच जाते हैं क्या सोशल मीडिया के जरिए उन्हें कोई बड़ा सवाल है और जब सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से अलर्ट पर है देश के गृह मंत्री ने इसका ऐलान किया है कि सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से साड़ी चीज़ो पर जो है वो मॉनिटर करें और इस सभी एक वीडियो को चेक करे तो आखिर तो साथ ही इस तरह के लोग कैसे पहुंचते हैं ये एक गंभीर सवाल है

अब देखना यह है कि इस शख्स पर जो पुलिस पकड़ के ले गए क्या खुलासा करती है किस तरह के ताल मिलते हैं के लिए किस तरह से कहीं न कहीं एक प्रदर्शन में और कहना एक हिसाब से बदलाव करने की कोशीश करने की बड़ी साजिश रची गई है सभी सुरक्षा जैसा धरी की धरी रह गईं और जो है पर जाना है नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर शेयर करें और दीप सिद्धु जैसे नेता जोकि बीजेपी के कद्दावर नेताओं के साथ उनके फोटो वाला वीडियो वायरल है

उनके कब कार्रवाई होगी इस पर भी आप अपने मान को जरूर उठाएं क्योंकि दीप सिद्धु खें ख़ैर यह स्पष्ट रेस कर रहे हैं आज कल इतना ही मिलते हैं कुछ और कपड़ों के साथ ज्यादा सेहत वीडियो को लाइक करिए शेयर करें ताकि अपडेट दूसरे लोगों पकड़ो

ब्रेकिंग| आधी रात को लाखों किसान सिंधू बॉर्डर पहुंचे | अभी अभी फिर आंदोलन शुरू | BJP में सन्नाटा

काल आप ही रात को स्थानों का जो जो आंदोलन है वह पूरी तरह से कमजोर होता दिखाई दे रहा था और गोदी मीडिया इसका लगातार फायदा उठा रही थी लेकिन मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीनों कृषि कान उनके ख़िलाफ़ एक बार फिर से किसानों में हल्ला बोल दिया है अभी रात को लाखों किसान किस तरह से फिर से बाहर जो है किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए सिंधु बॉर्डर पहुँच है

इसको लेकर कंपनी ख़बर सामने आ रही है साथ ही साथ राहत की शिकायत के समर्थन में बताया जा रहा है कि उनके गांव समेत कई जगहों से किसान अब फिर से जो है वापस किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए पहुंचते हैं जिसके चलते गोदी मीडिया में पहले ही सुनाता है साथ ही साथ सरकार के भी हाथ पांव फूल गए हैं हम आपको इस की एक तस्वीर दिखाई गई वीडियो पाएंगे कि किस तरह से आप देखें कि लाखों किसान राज्य स्थित है

जो कर भावुक हुए मीडिया के सामने उनके आसुओं का असर हुआ है और फिरसे एकबार आंदोलन खड़ा होता जा रहा है जिससे दिखाते है उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि दोस्तों जीस तरह से और छब्बीस जनवरी के दिन किसानों की ट्रैक्टर ट्राली के अंदर जो घटना हुई है उसकी स्पष्ट तरीके से जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं

तो वीडियो लाइव करके चैनल को सब्सक्राइब ज़रुर कर लीजिए वैसे तो गोदी मीडिया फिराक में था कि किसी भी तरह से किसान आंदोलन खत्म हो और उसको मौका मिले की वो किस चीज़ को जस्टिफाई कर रहे थे और कहीं न कहीं उसकी बात छोड़ दें यानी कि किसान आंदोलन खत्म हो रहा है लेकिन रात को रात जो कुछ भी हुआ है ये जोखा देने वाला है सबसे पहले हम एक तस्वीर आपको देख खाते है

रात में शिकायत की उसके बाद आगे हम आपको बताते हैं कहाँ कहाँ और किन किन राज्यों के किसान फिर से बाहर दिल्ली के लिए खोज कर गया है पहले हम आपको दिखाते हैं जो मेरी वीडियो हैं जिसकी वजह से ये पूरा आंदोलन फिर से बाहर खड़ा होने जा रहा है वो आप देखे ये राकेश ठीक है

आप सभी जानते होंगे किसान नेता हैं और उनके भाई नरेश तब भी अब इनके समर्थन में उतर गया है आप इनके पहले वीडियो को देखे उसके बाद हम आगे चर्चा को बढ़ाते हैं उसके बाद आपको बताते हैं कि आगे का क्या हुआ है था

उन्होंने अपनी पंचायत बुलाई है और पंचायत में जो कुछ भी हुआ है वो कहीं न कहीं सरकार को एक बार फिर से टेंशन में डालने वाला है बताया जा रहा है भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिल्ली के संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत के समर्थन में गुरुवार देर रात हरियाणा की जींद के कंडेला गांव में ग्रामीणों ने जिन चंडीगढ़ मार्ग पर जाम लगा दिया है जाम की सूचना मिलते ही पुलिस मो पर पहुंची लेकिन लोगों ने करीब पंद्रह मिनट बाद खुद ही जान खोते हुए शुक्रवार को गांव में पंचायत कर आगे की रणनीति बनाने का फैसला कर लिया है बताया जा रहा है कि अब किसान हम संगठन जो पहले धीरे धीरे जो है

और पहना भी अपने घर की तरफ लौट रहे थे उन्होंने एक बार फिर से यह फैसला लिया है कि वे जिसतरह से पहले तीनों कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ सड़कों पर ले के फिर से एक बार स्थानों पर उतरेंगे और इसके चलते बताया जा रहा है कि सरकार अब पीछे हटती हुई दिखाई दे रही है अब देखना ही होता है कि अन्यदाता जो लगातार महीनों से सड़कों पर बैठा हुआ था उनके इस विरोध का असर सरकार के ऊपर किस तरह होता बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट से भी जो कमेटी बनाई गई थी और वो भी अब आज कल समय मीटिंग होने वाली है

और वो कमेटी सरकार को बताया कि सुप्रीम कोर्ट की प्रति को बताया कि किस तरह से आगे सर्वेक्षण से किस तरह से असफल इंपोर्ट को भी इस पर संज्ञान लेना चाहिए लेकिन ये एक बड़ी ख़बर है है और ही गोदी मीडिया के ऊपर भी जोरदार तमाचा है

आप देखी पूरी मीडिया के बहुत सारे चाटुकार पत्रकार लगातार किसानों के बीच पूरी प्रदेश को बदनाम करने की कोशीश करें लेकिन आखिरकार कुछ राज्य तत्वों की वजह से किसानों के अलावा कही ना कही जो प्रदर्शन उसको प्रदान किया गया और लाल किले वाली दुर्घटना है बहुत गंदगी थी और उसे कोई भी जस्टिफाई नहीं कर सकता हाँ कुछ लोगो की

अब ये किया गया इसमें सभी किसानों को प्रदान करना भी ठीक नहीं है लेकिन गोदी मीडिया को तो मौका मिला और मौका उसको मिल गया सात दिन भर से सात घंटे आप सभी जानते होंगे किस तरह से किसानों के बीच पुलिस फोर्स को पूरी तरह से जो है

खत्म करने की कोशीश की गई है आपकी अपनी क्या राय हैं नीचे कमेंट बॉक्स में प्रिया को जरूर क्षेत्रीय वीडियो को लाइक ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि एक फॉर्मेशन दूसरे लोगों तक पहुँचें मिलते कुछ और खबरों में था

किसान आंदोलन सिंधू बॉर्डर से अभी अभी बड़ी खबर | मचा हड़कंप

थी वहीं इस प्रोटेस्ट को भी ख़बर आ रही है बताया जा रहा है कि सिंधु बॉर्डर पे आप सभी जानते होंगे कि जो किसान है प्रोटेस्ट कर रहे हैं और इस बीच पुलिस की तरफ से बड़ी कार्रवाई की गई है साथ ही साथ बताया जा रहा है हर ख्याला के अंदर किसानों और जो अन् य लोग हैं वहाँ के उन के बीच झड़प हुई है साथ ही साथ है

यूपी से कृषि कानून को लेकर की बड़ी अपडेट एक एक करके सभी खबरों के बाद यदि आपको विस्तार से जानकारी देंगे उससे पहले छोटी सी ड्रेस अगर आपको भी लगता है तो आज हमारा जो अन्यथा सड़कों पर सरकार को चाहिए कि उनकी मांगे पूरी करें और जीस तरह से दिल्ली में घटनाओं या उसकी स्पष्ट जांच होनी क्या अगर आप भी ऐसी मांग करते हैं

तब वीडियो को लाइक शेयर शाम को संस्कृत जरूर करनी चाहिए आप सभी जानते होंगे छब्बीस जनवरी के दिन ट्रैक्टर ट्रॉली के दौरान दिल्ली में हुई घटना की बात से पुलिस प्रशासन किसान आंदोलन कारियों पर काफी था रवैया अपना रही है एक ओर जहाँ मेरठ के बड़ौत में चालीस दिन से चल रहे प्रदर्शन को पुलिस ने बीती रात बताया जाता है कि खत्म कराया है

वहीं यूपीए एक पर आंदोलन स्थित स्थल की बिजली का दी गई थी लेकिन अब जो ख़बर आ रही है उससे भी ज्यादा चौंका देने वाली है बिजली कटने के बाद डेरा होने के चलते गिरफ्तारी के डर से किसानों ने खुद को रात में जगाकर बताया कि पहला दिया है लेकिन के साथ ही साथ सिंधु बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ाई गई है

और बताया जा रहा है आंदोलन कार्यों के ख़िलाफ़ हुआ प्रदर्शन दिल्ली पुलिस ने सिंधु बॉर्डर पर आज सुरक्षा बढ़ाई है ढंग से निपटाने के लिए सुरक्षा बलों ने अभ्यास किया है लेकिन अचानक दिल्ली में सिंधु बॉर्डर पर जो किसान प्रोटेस्ट कर रहे थे वहाँ पर बताया जा रहा है कि पुलिस बारीकी करने पहुँच गई है बताया जा रहा है

कि पुलिस के द्वारा अब किसान आंदोलन को पूरी तरह से पहनके खत्म कराने की कोशीश की जा रही थी इसी के चलते सिंधु बॉर्डर पर अचानक हलचल तेज हो गई है बैटिंग करनी वहाँ पर पुलिस पहुँच गई है जिसके चलते जो है अब किसानों में काफी गुस्सा भी है और किसान अब जहाँ एक तरफ आंदोलन करने पर जुटे हुए हैं वहीं दूसरी तरफ पुलिस अपना सख्त रवैया अपनाती दिखाएं रही है अब देखना ये होगा जब पुलिस बैरिकेटिंग करने के लिए पहुंची है तो इसमें आखिर आगे क्या होता है लेकिन बड़ी बड़ी ख़बर आ रही है

बताया जा रहा है कि पुलिस प्रशासन ने देर रात किसानों से धरना स्थल खाली करवाया इससे पहले दिन जो है किसानों और प्रशासनिक अधिकारियों की वार्ता बेनतीजा रही थी थी लेकिन रात को राज्यों है बहुत में चल रहे किसानों के आंदोलन पर पुलिस प्रशासन के साथ जाने की अनुमति अपनाते हुए रात को साढ़े ग्यारह बजे

किसानों पर जो है अब बल प्रयोग किया जिसके चलते किसानों को उस जगह को छोड़कर जाना पड़ा तो कहीं न कहीं यह भी एक बड़ी अपडेट है बताया जा रहा है कि पुलिस फोर्स ने लाठियां हड़ताल किसानों को दोहराया है जिसके चलते किसानों ने अपने प्रदर्शन को खत्म किया है

इससे पहले बुधवार दोपहर एसडीएम दुर्गेश बढ़त के कक्ष में पता चला कि एडीएम अमित कुमार और एएसपी मनीष कुमार विश्वास ने किसानों के प्रतिनिधि थांबेदार ब्रजपाल सिंह चौबीस ई खां चौधरी सुभाष चन्द्र सिंह जैसे कई लोगों के साथ बैठक की थी लेकिन इस बैठक में कही ना कही कोई न पिज़्ज़ा नहीं निकल पाया जिसके चलते पुलिस ने यह कार्रवाई की है

बुधवार देर रात को हथियारबंद पुलिस बल लेकर वहाँ पर पहुँच गया और किसानों में इसको लेकर भगदड़ मची थी बहुत में धरना देने किसानों से बुधवार दिन में का भी नतीजा होने के बाद पुलिस का कहना है कि उसके बाद ये जो है कार्रवाई की गई है तो ये अब नया मामला सामने आया हरियाणा से बड़ी ख़बर है बताया जा रहा कि हरियाणा में जो किसान हैं

अपना फोकस कर रहे थे लेकिन वहाँ पर कुछ लोकल लोग पहुंचे और किसानों को वहाँ से हटाना शुरू कर दिया जिसके चलते हरियाणा के अन्दर भी हाथापाई की नौबत आ गई है मैं आपको बताना चाहता हूँ हरियाणा के सोनीपत में नेशनल हाइवे चवालीस यानी की एम स्पोर्ट फोर्ड पर गुरुवार दोपहर गांव रसोई के पास आन्दोलन वस्त्र के स्थानों और आसपास के गांव के किसान के बीच टकराव की स्थिती बन गई है

आटे रहना और मनाली सहित आसपास के गांवों से दर्जनों के साथ तो इससे आगे रोमन कोर्ट के पास से गांव में जाने के लिए रास्ता खोलने की मांग कर रहे थे काफी देर तक हंगामा और आंदोलन में शामिल सैकड़ों किसानों के जुटने की बात आस पास के गांव में आए किसान लौट गए अब उन्होंने प्रशासन से मामले में कार्रवाई करते हुए रास्ता देने की मांग कर दी है

बताया जा रहा है कि कृषि कानून के विरोध कृषक दिनों से कुंडली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है लेकिन छब्बीस जनवरी के बाद घटना हुई है उसके बाद लगा था जो लोग अपना प्रतिघंटा चला रहे थे किसानों को लेकर है जो लोग करियर साथ नहीं बात कुछ और है वे अपने मंसूबे में कहीं न कहीं कामयाब होते हुए दिखाई दे रहे हैं जैसा कि सोशल मीडिया के ज़रिए बहुत सारे लोग आरोप लगा रहे हैं और बताया जा रहा है

जिसके चलते हरियाणा हो चाहे उत्तर प्रदेश हो चाहे फिर दिल्ली हो कही भी वो हर जगह से आप किसानों की आंदोलन को जबरदस्ती हटाने की कोशीश जारी हो गई है वहीं गणतंत्र दिवस में दिल्ली में जो कुछ भी हुआ है इसको लेकर के उत्तराखंड के किसानों में काफी गुस्सा है

अगर तंदुरुस्त किसान आंदोलन की आग में नई दिल्ली में हुए उपद्रव तोड़फोड़ और लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज के अपमान को लेकर के देव गोभी के किसानों संगठनों में आक्रोश है उन्होंने उन्होंने कहा कि संसार करने वाली घटना कड़े शब्दों में निंदा करते हैं इस साल संगठनों ने केंद्र सरकार से मांग की है कि घटना की नी

से मांग किया कि घटना की निष्पक्ष जांच करायी जाए और उद्योगों को चिन्हित करके उनके ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए कृषि कारणों को लेकर ये मामला बहुत ज्यादा सम्वेदनशील हैं क्योंकि किसान इससे पहले पीसफुली अपने प्रोजेक्ट को अंजाम दे रहे थे और बहुत ही बीस पुलिस को अपनी मांग को उठा रहे थे

लेकिन गणतंत्र दिवस के दिन जो कुछ भी हुआ जिसतरह से भी हुआ इसके स्पष्ट जांच हो ये जो है उस प्रखंड के किसानों ने मांग की है और पता चला कि इस घटना को लेकर किसानों के बीच काफी दिनों से काफी गुस्सा है अब देखना आगे होगा कि क्या दिल्ली पुलिस यानी की देश की गृह मंत्री अमित शाह जी के अंडर में जो पुलिस आती है वो इस घटना की है जी एक बड़ा मामला है लेकिन एक बड़ा सवाल है यह है

कि जब किसान सड़कों पर विचार के पीछे अपने प्रोजेक्ट्स को अंजाम दे रहे थे तो आखिर वो कौन से लोग हैं जिन्होंने कृषिक कानून पर धरना दे रहे किसानों को बरगलाया हो या फिर उनकी आड़ में अपनी साजिश को अंजाम दिया हो यह बात कही का मामला है आप निष्पक्ष जांच दिल्ली पुलिस के हाथ में है दिल्ली पुलिस देश के गृह मंत्री हमें शादी के हाथ में आती है

आप लोगों ने देखा होगा सिंह राशि को लेकर किसी तरह का मामला हुआ और तू मामला यहाँ तक पहुँच गया है कि हरियाणा के अन्दर बताया जा रहा है कि कुछ गांव के लोग जाकर के किसानों से भेज रहे यानी कि जीस तरह से वहा पर मामला हुआ सीए के दौर में उसी तरह से यहाँ पर भी अब हर तरह से कोशीश जा रही है

कि किसी तरह से किसानों के आंदोलन को बदनाम कर के और इसको जो है बंद करा जाए आपको अपनी इस प्रकार हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को आप जरूर शेयर करें साइट करियर और किसानों के लिए तो शक जरूर लिखें तो आजकल इतना ही दोस्त मिलते कुछ और खबरों के साथ देखते हैं ऑनलाइन जानकारी होनी चाहिए

किसान रैली कृषि कानून अमित शाह का बड़ा आदेश | SC का फैसला

आप के साथ लाइव आगे हैं आप सब भी जानते हैं कि मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगातार किसान अभी भी जारी रख रहे हैं लेकिन इस बीच देश के गृह मंत्री अमित शाह ने जिसतरह से छब्बीस जनवरी यानी गणतंत्र दिवस के मौके पर रिपब्लिक डे के मौके पास जो ड्राइव था पहले निकाली गई थी उसमें जो मामला हुआ है उस पर एक बड़ा आदेश जारी कर दिया है

जिसके बाद हम आपको बताएंगे कि अमित शाह जो कि देश के गृह मंत्री हैं उन्होंने क्या आदेश जारी किया है साथ ही सुप्रीम कोर्ट से तीनों नए कृषि कानून और किसान रैली को लेकर के एक बड़े ख़बर आ रही है तो वो भी हम आपको विस्तार से देंगे साथ ही साथ ट्रैक्टर परिवहन में जो घटना हुई है उसको लेकर के एनओसी पर साइन करने वाले किसान नेताओं के ख़िलाफ़ एक बड़ी कार्रवाई की सही है

एक एक करके सभी खबरों के बारे में जानकारी देने से पहले छोटी सी वेस्टर उसको अगर आपको भी लगता है कि इस तरह से दिल्ली में जो ट्रैक्टर पर निकली उसमें जो घटना हुई उस की स्पष्ट जांच होनी चाहिए अगर आप भी ऐसे करते हैं तो योग लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब जरूर करनी चाहिए आप सभी जानते होंगे की दिल्ली में और दिल्ली समेत अन्य राज्यों के बॉर्डर पर किस तरह से किसान मोदी सरकार के द्वारा बनाए गए तीन करें के कानूनों के ख़िलाफ़ जो हैं

प्रदर्शन कर रहे थे और उनका प्रदर्शन लगातार पीसफुली चल रहा था लेकिन अचानक रिपब्लिक डे के दिन जब ट्रैक पर निकाली गई उसने इस तरह की घटनाएं हुई हैं आप सभी लोगों ने देखा और यह बहुत दुखा घटना हुई उस को ले करके बीजेपी और गृह मंत्रियों के शासन में आ गए हैं दिल्ली में हुई घटना को लेकर गृह मंत्रालय की ओर मिनिस्ट्री में लगातार बैठकों का दौर जारी रहा हैं उसी दिन एक आप आप बैठ बुलाई गई थी लेकिन उसके बाद अब जो फैसला लिया गया है

इसमें कहीं ना कहीं सनसनी फैला दी है गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस कमीश्नर को आदेश दिया है बताया जा रहा है दिल्ली पुलिस कमीश्नर और आला अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि दिल्ली में हर हाल में कानून व्यवस्था कायम हो और आरोपियों के ख़िलाफ़ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए इस इसके अलावा और बता जादा कि प्रक्रियाओं पत्रकारों ने लाल किले को जो नुकसान पहुंचाना है

इस प्रकरण का भी गृह मंत्रालय ने बेहद गंभीरता से आकलन किया है बैठक के दौरान दिल्ली में किसानों द्वारा हुए प्रकरण का भी गृह मंत्रालय बेहद गंभीरता से आकलन कर रहा है इसके साथ ही साथ बताया जा रहा है कि उपद्रव और हिंसा की जो रिपोर्ट है विस्तृत रिपोर्ट अब जो सौंप दी गई

अब जो सौंप दी गई है इस बैठक में आईबी प्रमुख और सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े आलाधिकारी भी मौजूद रहे हैं लेकिन सवाल सबसे बड़ा ये धीन सिंधु यानी की जो एक्टर है सबसे पीछे पीछे उनके साथ सिंधु के जो फोटो वायरल और मैनेजमेंट में वो दिखाऊंगा कोई रिपोर्ट दिया है ये चौका देने वाला है

इसके मुताबिक अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती का काम हिंसाग्रस्त इलाकों में पूरा किया जाना जिन इलाकों में घटना हुई है वह फिलहाल हालात अब भी जुड़ें जानकारी को काबू में है गृहमंत्रालय सूत्रों के मुताबिक घायल की इंटर पुलिसकर्मियों को बेहतर इलाज मुहैया कराने का आदेश भी दे दिया गया है और जरूरत पड़ने पर और भी पैरा मिलिट्री फोर्स तैनात की जाए है कि इसको लेकर भी आप आदेश जारी कर दिया गया है

साथ ही साथ कानून मंत्रालय के सचिव एडिशनल सेक्रेटरी और आईबी के अधिकारी भी इस बैठक में मौजूद है जिसके बाद लाल किले पर झंडा फहराने वालों के सब कानूनी कड़ी कार्रवाई करने के भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं तो यह कहीं ना कहीं बड़ा फैसला देश के गृह मंत्री ने लिया है उन्होंने सीधा आदेश दिया है कि आप उन लोगों के ख़िलाफ़ सख्ती से निपटा के जो इस मामले को हटाने की कोशीश कर रहे हैं इसी के साथ मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुँच गया है सुप्रीम कोर्ट से भी बड़ी ख़बर आ रही बताया जा रहा है

कि सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर ट्राली में हुई हिंसा की जांच के लिए एक सर्वोच्च न्यायालय के प्रमुख न्यायाधीश की अध्यक्षता में आयोग के गठन की गुहार लगाई गई है बताया जा रहा है कि वकील विशाल तिवारी द्वारा इस याचिका में कहा गया है कि छब्बीस जनवरी को हुई घटना और राष्ट्रीय ध्वज के अपमान के लिए जो लोग भी संगठन जिम्मेदार हैं उनके ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज करके निर्देश जारी किया जाए है

मालूम होगी तीन एक रस्सी कानूनों के ख़िलाफ़ और व्रत करने में करने की मांग को लेकर के किसानों ने छब्बीस जनवरी को ट्विटर पर निकाली थी लेकिन उस परेड के तक किसानों के द्वारा जैसा कि बताया गया कुछ आराजकतत्वों आए और पुन राज्य तथ्यों के तार भी कहाँ से जुड़ रहे हैं यदि आप सभी लोगों ने देखा भी होगा और आप इस मामले को पूरी तरह से सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा दिया गया है बताया जा रहा है कि इस प्रदर्शन में सौ से अधिक पुलिसकर्मी यानी की उनके छोटे भाई हैं और लगभग कई किसान भी जो हमारे बीच नहीं रहे क्योंकि कैंसर की भी है

तो इन साड़ी चीजो को ले करके आप सुप्रीम कोर्ट में मामला पहुँच गया है सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा फिलहाल इसकी कोई जानकारी नहीं है लेकिन जुमा की जा रही थी कि सुप्रीम कोर्ट में सारा मामला

जो माँग की जा रही थी कि सुप्रीम कोर्ट में सारा मामला पहुंचा था वह फिलहाल पहुँच चुका है एक और बड़ी खबरः किसान नेताओं के ऊपर कार्रवाई होना शुरू हो गई है बताया जा रहा है कि गठन दिवस पर राजधानी दिल्ली में किसान ट्रैक्टर अप्रैल में हुई ब्लाकखोले करके इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा सख्त रूख अपनाए जाने के बाद दिल्ली पुलिस हरकत में आ गई है पुलिस ने ट्रैक्टर प्लेट के लिए अज्ञान की अनुमति प्रमाण पत्र यानी की की एनओसी पर साइन करने वाले किसान नेताओं पर भी अब एफआईआर दर्ज कर दी नाम में आपको बता रहा हूँ सबसे पहला चुनाव है

प्राकृतिक दूसरा नाम योगेंद्र यादव तीसरा नाम विजयसिंह विजेन्द्रसिंह हरपाल सिंह विनोद कुमार दर्शनपाल राज्य बलवीरसिंह राज्य राज्य वाहन भूता सिंहद्वार बाज्वा योगेन्द्रसिंह ग्राहक के नाम शामिल बताए जा रहे हैं बताया जा रहा है कि इन किसान नेताओं ने एनओसी पर यानी कि साइन किया था ये कह के की जो ट्रैक्टर मार्च निकाला जा रहा है वो पीस फुल होगा लेकिन जीस तरह से वापस घटनाएं हुईं इन साड़ी चीजों को लेकर के जो है आप इनके पास शिकंजा कसा जा रहा है खै़र सांस इन लोगों के ऊपर केसरीगंज आपका समय से पहले बिग बॉस का वीडियो भी वायरल है

एक्टर हैं तो आखिर उसके ऊपर क्यों नहीं कार्रवाई की जा रही है एक बड़ा मामला है घर आपको अपनी ग्यारह है कि आप भी चाहते हैं कि इस पर कार्रवाई होनी चाहिए और एक और अपडेट बता जा रहा है कि किसानों की परेड में शामिल दो सौ से ज्यादा लोगों को अभी तक हिरासत में लिया गया है जरूर करें आप सभी से रिक्वेस्ट वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करनी है ठीक है मिलते कुछ और खबरों के साथ जिम

ब्रेकिंग | कृषि कानून ट्रैक्टर रैली अमित शाह का बड़ा ऐलान | अभी अभी मोदी सरकार का बड़ा फैसला |हड़कंप

दोस्तों की दृष्टि कानूनों के ख़िलाफ़ किसानों के दौरान किए गए छब्बीस जनवरी के दिन ट्रैक्टर मार्च को ले करके हुई घटना का अभी अभी देश के गृह मंत्री अमित शाह ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है आप सभी जानते होंगे कि लगभग दो महीने से ज्यादा का टाइम हो गया है मोदी सरकार के दौरान बनाए गए तीनों कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ लगातार के साथ सड़कों पर हैं

लेकिन छब्बीस जनवरी या चुकी पब्लिक डे के दिन जो कुछ भी दिल्ली में हुआ वो बहुत ही ज्यादा धोखा और जो तस्वीर सामने आयी वो चौका देने वाला है जहाँ एक तरफ लाल किले पर जिसतरह से झंडा फहराया गया उसके बाद लगातार सरकार एक्शन में है और इसी पर गृह मंत्री ने ऐलान किया हम आपको विस्तार से बताते हैं उन्होंने अखिल क्या किया है

साथ ही साथ मोदी सरकार ने अब कृषि कानून के बाद किसानों को लेकर एक और बड़ा फैसला ले लिया है क्या लिया है इसकी भी जानकारी देंगे और एक अभिनेता के साथ शेयर करेंगे इससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट अगर आपको भी लगता है कि दूसरे इस तरह से दिल में ट्रैक्टर पलट के दौरान जिसे हुई जो घटना हुई है

इसकी स्पष्ट जांच होनी चाहिए तो आप इस वीडियो को लाइक करके जान को सबसे जरूर करनी चाहिए दिल्ली में गणतंत्र दिवस यानी रिपब्लिक डे जैसे मौके पर मंगलवार को किसानों के द्वारा जो ट्रैक्टर मार्च निकाला जा रहा था उस पारी के दौरान जो कुछ भी हुआ वो बहुत चिंताजनक जो तस्वीर आई वो भी कही ना कही बहुत ही दुखद थी लें के प्रदर्शन और लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने जाने की घटना को गृह मंत्रालय ने बेहद गंभीरता से लिया है बताया जा रहा है

कि गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी आवाज़ पास एक आपात बैठक बुला ली है और इस बैठक में बुलवाने के बाद राजधानी में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के निर्देश जारी कर दिए हैं ये पड़े ख़बर आ रही है सभी घरों और सम्वेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती होगी यह फैसला लिया गया है साथ ही राजधानी में हिंसा के जिम्मेदार लोगों की पहचान कर उनकी हवा काम भूमि कार्रवाई के भी निर्देश दिल्ली पुलिस को जारी कर दिए गए हैं राजधानी में मंगलवार को किसानों के ट्रैक्टर प्रवेश के दौरान जो तेज हुई है

इसमें बहुत सारे मामलों पर अभी खुलासा होना बाकी है बताया जा रहा है पुलिस के साथ किसानों के बीच जो मामले सामने आए जो घटनाएं झड़प हुई है इसको गृह मंत्रालय ने बहुत गंभीरता से लिया है अमित शाह ने मंत्रालय को दिल्ली पुलिस के अलावा आप शुरू से बैठक यानी की है बैठक में राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की गई है खुफिया एजेंसियों की अधिकारियों ने उन्हें सूचना दी है

सूत्रों के मुताबिक किसान आंदोलन की आड़ में प्रतिबंधित संगठनों की ओर से हिंसा को बढ़ावा दिए जाने की इम्पोर्ट खुफिया एजेंसियों के द्वारा लिए गए ये भी साफ तौर पर खुलासा हुआ है आप भी शक्ति के अवसर भी आपको दिख रहा खुफिया एजेंसियों ने आगे भी

या एजेंसियों ने आगे भी इसी तरह की आशंका जताई है उन्होंने कहा है कि इसी तरह की और भी मामले आगे देखने को मिल सकते हैं इस बैठक में गृह सचिव और आई पी के डायरेक्ट मौजूद रहे हैं सूत्रों के मुताबिक बैठक में राजधानी के सभी संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त फायदा मिला मिलिट्री फोर्स की तैनाती का निर्णय लिया गया है ताकि आगे किसी तरह की हिंसा न हो सके इससे प्रदर्शन में हम लोगों को चिन्हित करके उनके ख़िलाफ़ कानूनी कार्रवाई करने के भी निर्देश जारी कर दी है जैसा कि मैने आपको बताया है

इसके साथ ही साथ साजिशकर्ताओं की पहचान करने में पुलिस जुट गई है बताया जा रहा है कि उन सभी स्थानों की सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं जहाँ पर किसानों पुलिस के बीच यानी की झड़प हुई है तो यह कहीं न कहीं एक बड़ा मामला सामने आया है इसके साथ साथ बताया जा रहा है कई जगहों पर इंटरनेट समापन कर दी गई है जिसमें जो है

सिंधु टीकरी गाजीपुर बॉर्डर नागलोई और नागलोई के साथ साथ कई और जगह है जहाँ पर ये फैसला लिया गया कि वजह से वह पूरी तरह से बंद की चाहे तो यह बड़ा मामला सामने आया है अब बात कर लेते है मोदी सरकार के द्वारा लिए गए रस्सी कानून के बाद एक और फैसले पर आप इस ख़बर को भी बढ़ी है वर्ष दो हज़ार बाईस तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने के बाद इसके साथ केंद्र सरकार ने अपनी एक फरवरी को पेश होने वाले बजट में कृषि ऋण यानी की जो कल्चर लक्ष्य को बढ़ाकर के उन्नीस सत्रह करोड़ उपाय कर सकती है

इसको लेकर भी बड़ी ख़बर आ रही है सूत्रों ने जानकारी दी है कि चालू वित्त वर्ष में सरकार ने कृषि ऋण के लिए पंद्रह लाख़ करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है सूत्रों ने यह भी कहा कि हर भाग व कृषि क्षेत्रों में अपने ऋण लक्ष्य से बंधी सरकार करती है और इस बार भी कर रही है और इस बार भी ऐसा करते हुए सरकार दो हज़ार के इस लक्ष्य को बढ़ाकर के उन्नीस क्लास करोड़ रुपये कर सकती है यानी की चार लाख करोड़ रुपये यहाँ पर और भी बढ़ा सकती है

जब मोदी सरकार अपनी तरफ से फैसला यानी की लेगी जो आगे आने वाला बजट है दो हज़ार तक की दौड़ ईमानों पर ये फैसला लिया जाएगा कृषि लड़के लक्ष्य से हर साल निरंतर वृद्धि हो रही है और हर साल जो है लक्ष्य से अधिक ऋण किसानों को उपलब्ध कराया जा रहा है उदाहरण के लिए दो अठारा में बताया कि ग्यारह अर्धशतक करोड़ रुपये कारण प्रदान किया गया था और इससे जो हैं जो उस साल के लक्ष्य के तहत दस लाख करोड़ से अधिक था और इस बार की इस पर बढ़ोतरी किए जाने का फैसला लिया गया है

बात कर लेते हैं एक ओर बड़ी ख़बर की बताया जा रहा है किसान पारित होने के बाद और इस तरह की घटना को साड़ी चीजे होने के बाद और फ़िलहाल लाल किले को खाली करवा लिया गया है किसान अपने अपने प्रदर्शन क्षेत्रों में लौट गए हैं आप इस ख़बर को भी देखे बताया जा रहा है कि राजधानी में जमकर विरोध

कि राजधानी में जमकर विरोध होने के साथ साथ आइडियों की पर जो है जीस तरह से चीजें सामने देखने को मिली इसके साथ साथ लाल किले में जो चीज़ जो कुछ भी हुआ और किसान बता ताकि वहा पर क्या वो किसान थे कौन थे ये तो अभी जांच का विषय है और लोग बीच में भारतीय थे लेकिन आप उन सारे जगहों पर बताया कि पुलिस की तैनाती हो गई है फिलहाल किसानों को वहाँ से हटा दिया है

शाम को जब डेटा उसमें सिंधु टीकरी गाजीपुर बॉर्डर स्थित अपने अपने प्रदर्शन शिविरों की ओर आप किसानों का लौटना शुरू हो गया है और रात तक वो सारे के सारे लौटकर अपनी जगह पर पहुँच गए हैं सो तीसरा किसानों के संगठनों के द्वारा एक बड़ा ऐलान किया है उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाएं हुई हैं इसमें पंजाब नहीं दिया है ये जो कुछ भी हुआ है इसमें कुछ राज्य तक आए हैं ये साजिश की गई है

और साज़िश ये सारे मामले को अंजाम दिया गया है अब देखना यह होगा कि गृह मंत्री जी के द्वारा एक जांच एजेंसी भी जुटा दी गई है और फोरेंसिक टीम भी इस पर जांच करेगी अब आगे इस पर क्या होता है ये देखने वाली बात होगी आपकी अपनी कार है आपके हिसाब से जो कुछ भी हुआ क्या लगता है एक प्लानिंग के तहत हुआ है या रेंडमली ये साड़ी चीजे मिलते हैं

नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी डाइट में जरूर शेयर करें और हाथ शांति बनाकर रखें देखें किसी से बात है सीए का हो चाहे किसान कानून हो इसमें कुछ चीजें ऐसी हैं मीडिया को पहले ही इसको बदलाव करने की कोशीश में लगा हुआ था अब मीडिया का मौका मिलता है इसलिए किसानों से रिप्लेस हैं अपने प्रदर्शन को पीसफुली रखें और जो लोग आपके प्रदर्शन में खुश करके आपके प्रदर्शन को बदनाम करने की कोशीश कर रहे हैं उनको भी आज

Former Tracker Railly Live | RSS Bayan | PM Modi | Amit Shah

तेरे बारे फिर हम आप के साथ भागे हैं जैसा कि आप सभी जानते होंगे मोदी सरकार के द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ जहाँ एक तरफ पूरे देश के किसान लगातार इस कानून का विरोध कर रहे हैं लेकिन विरोध प्रदर्शन के बीच कल जो तस्वीर आई थी उसको लेकर वे अभी अभी फिरसे एकबार है नया मामला शुरु हो गया है

जिसके बारे में हम आपको बताएंगे साथ के साथ ही साथ आयसीट जाने की राशि तो आवश्यकता यहाँ पर एक बड़ा बयान सामने आया इसके बारे में अपनी टीम के साथ ही साथ बताया जा रहा है कि किसान आंदोलन खोलें करके हरियाना समय कई राज्यों से बड़ी खबरें आ रही है एक एक करके सभी खबरों के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे इससे पहले छोटीसी आपसे रिक्वेस्ट उसने सीढ़ियों पर लाइक करके और चैनल को सब्सक्राइब जरूर कह लीजिए सबसे पहले जो पड़े ख़बर है कल कहाँ से हुआ वो भी बहुत दुख है

खै़र अभी सारे मामलों पर जो है आरएसएस की तरफ से एक बड़ा बयान दिया गया है हम पहले आशीष के इस बयान को बताते है उसके बाद हम आपको कहेंगे कि हरियाणा से क्या बड़ी अपडेट आ रही हैं बड़ा ऐलान किया हरियाणा सरकार की तरफ से देशभर में आप सभी जानते होंगे महात्मा गणतंत्र दिवस मनाया गया वही कृषि कार्य करके दोनों खिलाफ़ पिछले दो महीनों से आंदोलन कर रहे किसान दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकाल रहे थे सिंधु टीकरी काजीपुर समिति के साथ कई जगहों सब जगह से ट्रैक्टर मार्च लेकर आए थे और कल पूरी दिल्ली में उन्होंने निकला है

लेकिन किसान पुलिस की बैरिकेड तोड़कर दिल्ली की सीमा में दाखिल हो गए ये मीडिया चलने बताया जा रहा है जबकि वह पहले से ही दिल्ली पुलिस ने जो है उनको परमिशन दे रखी थी कि आपदा में आ सकते हैं इसके साथ ही आईटी पर काफी बवाल मचा और उसके साथ ही साथ किसानों के द्वारा बताया जा रहा है कि कुछ यानी की पटरी वगैरह भी फेंके गए जिसमें कई पुलिस वाले दर्द वही एक ट्रैक्टर पलटने से जो है

एक किसान हमारे परहेज नहीं रहे जबकि कई इंसान भी हुआ किसानों ने लाल किले पर अपने झंडे फहराए है किसानों के ट्रैक्टर रैली से जुड़ा हुआ यह बहुत सारे अपडेट यहाँ पर आये और जो से यानेकी लाल किले पर खालसा का झंडा फहराया गया है ये किसी भी तरह से ठीक नहीं है बताया जा रहा है कि एक डीसी हो मैं इस पर फिलहाल सफाई दी है

लेकिन आर्थिक की तरफ से कहा गया है कि इस तरह से ये साड़ी चीजे हुई है यह बिल्कुल भी ठीक नहीं है और ये कहीं न कहीं इसकी हम कड़े शब्दों में

की हम करे शब्दों में आलोचना करते हैं और किसानों की आड़ में जिन लोगों में इस घटना को अंजाम दिया है वो कही ना कही एक बड़ा खत मामला है यह हर्ष की तरफ से कहा गया है उन्होंने बताया कि आज यता को संघ में दुर्भाग्यपूर्ण बताया है

साथ ही साथ विश्व सेना है उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार के ऊपर आरोप लगा है ये सब केन्द्र सरकार की वजह से हो रहा है केंद्र सरकार इसकी जिम्मेदार हैं जबकि आर एस किसानों के ऊपर निशाना साध रही है यहाँ पर एक बड़ी ख़बर जो की आ रही हरियाणा से बताया जा रहा है कि याना सरकार ने एक बड़ा ऐलान किया है इसमें तीन जिलों के अंदर सोनीपत पलवल और झज्जर में टेलीकॉम सर्विस पूरी कहाँ से बंद कर दी गई है

इसके लिए हरियाणा की गृह सचिव राजीव अरोड़ा ने आदेश जारी कर दिया है आदेश के मुताबिक इन तीनों जिलों में इंटरनेट सर्विस सभी एसएन के जो मैसेज होते हैं उस सेवाएं बंद रहेंगी केवल मौत इस काल ही एक्टिव रहेंगे शाम आज शाम पांच बजे बजे तक ये सर्विस बंद रहेंगे अफवाहें और गलत सूचना के फैलने को लेकर की इस पर लगाम लगाने के लिए फैसला लिया गया हरियाणा सरकार ने आज प्रदेश के सभी स्कूलों को ब रखने का फैसला किया है यह निर्णय आज दिल्ली यानी कल दिल्ली में किसान आंदोलन करने को ध्यान में रखकर लिया गया है

वहीं बताया जा रहा कि हरियाणा सरकार ने सत्ताईस जनवरी को प्रदेश के सभी स्कूलों के बंद रखने का भी फैसला लिया जैसा कि मैने आपको बताया है साथ ही साथ ख़बर और है बताया जा रहा है कि अभी तक जिसतरह से दिल्ली में कल किसानों का मार्च निकाला गया और जीस तरह से उस में कही ना कही कुछ राज्य तो आये और आप सभी जानते होंगे किस तरह से एक शख्स को इससे पहले ही पकड़ा गया था उसमें कहा गया था कि

वह किस तरह से एक अपनी एसजी बना रहे थे प्लानिंग के तहत ही सारे कही ना कही किसानों को बदलाव करने की कोशीश की जा रही है और उसी तरह का आप लोगों ने देखा होगा कि किस तरह का सीन आया कर बताया कि पुलिस की तरफ से यानी की दिल्ली पुलिस की तरफ से सात एफआईआर अभी तक दर्ज कर ली गई है दिल्ली पुलिस ने प्रकरण के मामले में तीन एफआईआर पहले ही दर्ज की है

चारों ओर दर्ज की है पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्व जिले में तीन एफआईआर दर्ज की गई द्वारिका में तीन और यात्रा जिले में एक मामला दर्ज किया गया उन्होंने बताया कि प्राथमिक दर्ज के आसार हैं इससे पहले तीन दिन यानी कि इससे पहले दिन में प्रतिष्ठानों के ख़िलाफ़ हजारों किसानों ने पुलिस के अवरोधकों को यानी की जो बैरिकेट्स वगैरह लगाके तो उसको तोड़ करके दिल्ली में घुस गए थे इन सारे मामलों पर यानी की ये साड़ी चीजे ली गई है

वहीं पुलिस ने एक बयान जारी कर दिया है पुलिस ने बयान जारी करके कहा कि इस हिंसा बाद में पुलिस के लगभग जवान जो हैं उनको चोट लगी है वहीं इनका स्थल पर एक प्रदर्शनकारी के ट्रैक्टर पलटने की वजह से उसकी कैजरीवाल इस में वो हमारे बीच नहीं रहे वह

के बीच नहीं रहे हैं वहीं बयान में कहा गया संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से गर्दन दिवस के मौके पर किसान ट्रैक्टर मार्क रैली का आयोजन किया गया था प्रस्तावित ट्रैक्टर पलट के संबंध में मोर्चा के साथ दिल्ली पुल की कई दौर की बैठक भी हुई थी और जिन रूट्स के उपाय किसानों की रैली को दोहराने की बात कही गई थी तो पुलिस करी किसान वहाँ पर नहीं गए और किसान कहीं ना कहीं अलग रूट पर जाने की कोशीश करते हैं जिसके चलते सारीं चीजें सामने आई है हमारे बीच नहीं है

बहुत सारे चीजे देखने को मिली कन किसानों के ऊपर पुलिस बल भी कही ना कही यानी की यूज़ किया गया और यह आदेश दिया गया कि उनके ख़िलाफ़ सख्ती से निपटा जाना चाहिए लेकिन जो फोटो वायरल हो रहा है दीप सिद्धु बॉलीवुड एक्टर हैं व उन्होंने हालात का झंडा लाल किले के ऊपर फैलाया जा रहा है

कि वे खुद पहले नहीं देश के प्रधान करे बालेंद्र मोदी जी और देश के गृह मंत्री हमेशा के साथ मिल चूके हैं तो उनको आप सोशल मीडिया के जरिए बताने की कोशीश की जा रही है कि वो बीजेपी से और ज्यादा लगाव रखने वाले एक्टर हैं उनके कहने पर ये सारा कुछ हुआ अपनी जगह पर वापस चले गए किसानों ने जो पहले ही प्रोटेस्ट का एक दायरा बना रखा था वहाँ पर जा कर के फिर से बैठते हैं

अभी तक पता जाना छियासी जो जवान है वह दर्द पंधरा फ़ेयर अभी तक दर्ज हो चुकी है चौथे और बढ़ गई है यह पत्र एफआईआर हो गई है यदि तक आप डेट है आपको अपनी परा हैं नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी रैंक को जरूर शेयर करी है लाइक ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और हाँ शांति बनाए रखें इस तरह के चीजें करना कोई समस्या का हल नहीं है इसलिए इस पुलिस अपनी मांगों को उठाई है अगर कोई आवाज़ तो आता है

तो उसको देखी आइडेंटीफाई के लिए क्योंकि आपके प्रोटेस्ट को प्रदान करने की बहुत सॉरी साजिशें रची जा रही थी पहले से ही जैसा कि सोशल मीडिया के ज़रिए बहुत सारे लोग अलग अलग ताकि जाने का खुलासा कर रहे थे आपकी अपनी प्रकरण नीचे कमेंट बॉक्स में बताये वीडियो को लाइक ज्यादा से ज्यादा शेयर करें

Breaking News | Arnab Goswami Expose | Former Protest | Rahul Gandhi On Modi

दूसरों को अपने टीवी चैनल पर बैठ कर के और चिल्ला चिल्ला कर के अपने आप को जबरदस्ती देशभक्त साबित करने वाले पत्रकार आत्म गोस्वामी की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गईं हैं सबसे पहले टीआरपी एम उसके बाद वाट्सऐप चैट ली उसके बाद एक और खुलासे में आरना गोस्वामी की उम्मीद बढ़ा दी है पुलिस ने सबूतों के साथ अर्नब गोस्वामी को धरदबोचा है

दरअसल क्या मामला है नया हम आपको विस्तार से बताएंगे साथ ही साथ आत्म गोस्वामी की एक समर्थक भी रंगे हाथों पकड़ ली गई है और राहुल गाँधी ने अर्नब गोस्वामी के वर्ष चैट के मामले पर पीएम नरेंद्र मोदी को मिला बेटा है और नरेंद्र मोदी जी के ऊपर गंभीर आरोप लगाए जिसके चलते आप उनकी मुश्किलें बढ़ रही हैं तीन बड़ी खबरें आपके सामने क्योंकि उससे पहले छोटी सी रिक्वेस्ट है अगर आपको भी लगता है

कि दोस्तोँ आज हमारी मीडिया के द्वारा जो लोगों के बीच नफरत फैलाई जा रही है इसके ऊपर लगाम लगनी चाहिए और अपनी स्पष्ट जांच होनी चाहिए तो आप इस वीडियो को करके जान को सब्सक्राइब जरूर कर नीचे आप सभी जानते हैं पहले तो यार पीस काम में हारना के साथ साथ एसईओ पहले ही अंदर गए थे उसके बाद अब जो है वॉट्सऐप चैट का मामला लगाएं का तूल पकड़ता जा रहा जिसके चलते अलग गोस्वामी की नींद तो पहले से ही उड़ी हुई है

साथ ही साथ कुछ बीजेपी नेताओं के बीच सवाल खड़ा कर रहा है दरअसल हम आपको ख़बर दिखाए आप इस ख़बर को देखें भारत के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता हैं आप आत्म गोस्वामी को लेकर जो खुलासा किया है ये चौंका देने वाला है दरअसल पार्थ दासगुप्ता ने टीआरपी के मामले में बड़ा खुलासा किया है उन्होंने दावा किया है कि रिपब्लिक टीवी के एडिटर एंड जी और चिल्ला चिल्लाकर के जबरदस्त देशभक्ति साबित करने वाले आनंद गोस्वामी है

उससे टीआरपी के साथ छेड़छाड़ करने के बदले बारह हज़ार अमेरिकी डॉलर रुपये दिए थे स्ट्रेस के मुताबिक इस बात का खुलासा पातु दास ने मुंबई पुलिस के सामने लिखित बयान में किया है कि हमने क्या आप ख़बर में देखनी चाहिए आर्थो ने यह भी कहा है कि उसे फिक्स रेट के लिए उन चालीस लाख रुपये तीन साल में दिये गये थे मुंबई पुलिस ने मामले में तीन हज़ार छे सौ पन्नों की सप्लीमेंट्री चार्जशीट में चौकों

व रीको में फाइल किया है इसके साथ साथ इसमें बात की फोरेंसिक रिपोर्ट को भी पेश किया जाए इसके साथ इसके अलावा मुंबई पुलिस ने जो है दासगुप्ता और आत्मा को स् वामी के बीच हुई ल हम भी बातचीत की वाट्सऐप चैट और इसके साथ उनसठ लोगों के बयान भी फाइल किए हैं बताया जा रहा है कि जो हैं जिसमें केवल ऑपरेटर्स और बार

इसमें केबल ऑपरेटर और बार काउंसिल के पूर्व कर्मचारी शामिल हैं सैट लीक मामले सामने आने के बाद फिर साधना गोस्वामी पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी जा रही है और अब पुलिस ने समूह के साथ आरंभ गोस्वामी गोदा पहुंचा है लेकिन उसके बावजूद भी अपनी नकारात्मक गोस्वामी की गिरफ्तारी न होना यह दर्शाता है ज्ञान को शामिल के पीछे किनका है अभी तक गिरफ्तारी न होना कहीं न कहीं कहाँ तक जाते हैं आप बहुत समझदार है इसको लेकर बताया कि महाराष्ट्र सरकार लगातार कानून की जानकारी के संपर्क में हैं

रविवार को राज्य केंद्र मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि यह मुद्दा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा हुआ है और केंद्र सरकार को इस पर जवाब देना चाहिए देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार इस संबंध में कानूनी राय ले रही है क्या राज़ कर रहे विभाग ऑफिस ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट नाइंटी थ्री के तहत इस मामले में कार्रवाई कर सकता है इसकी भी कानूनी यानी की के लिए जा रही है

कुछ दिनों पहले अपना गोस्वामी और ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल यानी की बाहर के पूर्व प्रमुख वास्तविकता के बीच वीचैट ली का मामला लगातार दूर पकड़ रहा है इसे सुप्रीम कोर्ट के वरीष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने शेयर किया था उन्होंने सेट के मामले पर कहा था कि इतने तो क्या सबूत है या न भूस्वामी जिंदगी भर जो है जेल में चक्की घाटा जो है

जेल में जो है वो अन्दर जा सकता है लेकिन उसके बावजूद भी अभी तक का नाम गोस्वामी की गिरफ्तारी नहीं हुई है और जो नेता पहले जब मुंबई पुलिस ने आनंद को शामिल को गिरफ्तार किया था वो कह रहे थे कि ये कहीं न कहीं मीडिया चन्द्र स्वतंत्रता के ऊपर जो है एक तरह से हमला है उनके मुँह के अंदर नहीं जाने दिया और बीजेपी के कई नेताओं के बयान पर लेने की कोशीश की गई कोई भी बयान देने के लिए रैली नहीं सोचे यानी की आपके फेवर में करे तो सब थी अगर आपने यह सिर्फ गलत असर हो रहा है

अगर एक और ख़बर की बात कर लेते हैं अभी तक तो आप सभी जानते होंगे कि अपना गोस्वामी ही मामले में फंसे हैं लेकिन अब उनके जो समझते हैं चमची है वो भी फंस रहे हैं दरअसल अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के नाम पर देशभर में ठगी का गोरखधंधा शुरू हो गया है उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के बाद शक्ति घर के बिलासपुर में राम मंदिर निर्माण के लिए निभी करने कलेक्शन के नाम पर ठगी का मामला सामने आया है

यह एक महिला को राम मंदिर की फर्जी रसीद छपवाकर चलता वसूलने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया है बताये प्राग की गिरफ्तारी की गई महिला का नाम उसका आखले है जो सोशल मीडिया पर खुद को कट्टर हिंदू बताती है महिला की सोशल प्रोफाइल देखकर पता चलता है कि रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ आत्म गोस्वामी की सबसे बड़ी फैन हैं वह अन्ना के समर्थन में विशाल मशाल जुलूस भी निकाल चुकी है यानी कि अन्ना को शामिल के जीतने भी समर्थक है

उनका तो अता पता नहीं है लेकिन ये एक समर्थक जो कि अयोध्या के राम मंदिर के नाम पर गयी किस तरह से ठगी करते हुए पकड़ी गई है इसके सबूत भी आप देख सकते हैं खबरों में यह मामले सोचे था उसके बाद भी ये देशभक्त हैं मंदिर के नाम पर लोगों को बरगलाना मंदिर के नाम पर फर्जी चंद करके अपना जी भावना के देशभक्ति है

यह ठीक है सोच लिया था खा आपकी अपनी है नीचे कमेंट बॉक्स ये बात करते हैं और बड़ी ख़बर राहुल गाँधी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उपर आना गोस्वामी के साथ साथ पढ़े आरोप लगाया है आप इस ख़बर को देखें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने सोमवार को आरोप लगाया है कि बालाकोट स्ट्राइक से पहले ही उसकी जानकारी रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी को लीक करने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं

उन्होंने यह भी कहा है कि यह सब जानकारी गोपनीय कानून का उल्लंघन है हालांकि उन्होंने अपने आरोप को लेकर कोई सबूत पेश नहीं किया प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से भी फिलहाल इस दावे पर कोई जवाब नहीं आया प्रधान मंत्री मुख्यमंत्री समेत पांच लोगों को जानकारी होती है इन सारे मामलों की तो यह जानकारी अर्नब गोस्वामी के पास कैसे पहुंची ये बड़ा सवाल राहुल गाँधी ने खड़ा किया है राहुल गाँधी ने साफ कहा है कि जब टॉक लेबल के लोगों के पास अधिकारियों के पास स्ट्राइक वगैरह की जानकारी रहती हैं

आनंद गोस्वामी के पास पहले जानकारी कैसे पहुंची जानकारी किसने दी कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने यहाँ तक पुरुषों के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री रक्षा मंत्री समेत पांच लोगों को किसी सैन्य कार्रवाई के बारे में पहले जानकारी होती है लेकिन असलम को शामिल के साथ पास इस तरह कि तथागत जानकारी सब्जेक्ट में इस तरह की जिसे मिलना दर्शाता है ज्ञान को शमी के तार कहीं ना कहीं बड़ी बड़ी नेताओं के साथ जुड़े हुए हैं जिसपर स्पष्ट